27 वर्षीय यह खिलाड़ी भारत के सबसे बेहतरीन खिलाड़ियों में से एक है।

​एटीके मोहन बगान देश की नंबर-1 फुटबॉल लीग इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) में खेलने वाली बेहतरीन टीमों में से एक है। इस सीजन टीम के सामने ना केवल आईएसएल का टाइटल डिफेंड करने की चुनौती है, बल्कि एएफसी कप में भी खेलने का दबाव है। कोलकाता स्थित यह टीम बेहतरीन प्लेयर्स को साइन करने में लगी हुई है और इसी कड़ी में इंडियन फुटबॉल टीम के स्टार डिफेंडर संदेश झिंगन भी टीम से जुड़ गए हैं।

वह चोट की वजह से पिछले आईएसएल सीजन में हिस्सा नहीं ले पाए थे लेकिन इस सीजन वो एटीके के लिए एक बेहतरीन प्लेयर साबित हो सकते हैं। संदेश झिंगन इस वक्त काफी जबरदस्त फॉर्म में हैं और अपने अनुभव की वजह से वो दूसरे प्लेयर्स को मेंटोर भी कर सकते हैं। हम आपको बताते हैं की क्यों झिंगन अपने नए क्लब के लिए एक बेहतरीन प्लेयर साबित हो सकते हैं:

5. टॉप लेवल एक्सपीरियंस

संदेश झिंगन कई सालों से इंडियन फुटबॉल टीम के लिए खेल रहे हैं और अब वो इंडिया के एक स्टार प्लेयर हैं। वो भारतीय टीम का नियमित हिस्सा होते हैं और आईएसएल में लगातार खेलते आए हैं। उन्हें अच्छी तरह से पता है कि इस तरह की लीग में सफल होने के लिए क्या करना पड़ता है।

वह एक जबरदस्त डिफेंडर हैं और उन्हें पता है कि एक स्ट्राइकर को कैसे रोका जा सकता है। जितना अनुभव उनके पास है उसे देखते हुए वो एटीके मोहन बगान की टीम के लिए डिफेंस में एक महत्वपूर्ण कड़ी साबित हो सकते हैं।

4. बॉल को पास करने की बेहतरीन कला

पिछले सीजन एंटोनियो हबास की टीम बॉल को पास करते वक्त थोड़ा मुश्किल में दिखी थी। डिफेंस से अटैक के लिए जाते समय टीम में वो फ्लो नहीं दिखता था और ये एटीके के लिए एक बड़ी समस्या थी। संदेश झिंगन के आ जाने से कोच एंटोनियो हबास की ये मुश्किल इस सीजन हल हो सकती है। शुभाशीष बोस और टीरी के साथ मिलकर वो एक बेहतरीन संयोजन बना सकते हैं। एटोनियो के पोजेशन बेस्ड फुटबॉल के लिए वो एक महत्वपूर्ण कड़ी साबित होंगे।

3. नए सिस्टम को अच्छी तरह से अपना लेना

संदेश झिंगन ने अभी तक कई सारे मैनेजर्स की निगरानी में खेला है और अलग-अलग टीम के सिस्टम में वो अच्छी तरह से ढल गए हैं। वो किसी भी नई टीम के सिस्टम को बेहतरीन तरीके से अपना लेते हैं। चाहे वो 4 प्लेयर्स की बैकलाइन हो या फिर 5 खिलाड़ियों की हो, उन्हें जो भी जिम्मेदारी दी जाती है उसे वो काफी अच्छी तरह से निभाते हैं। हबास के नेतृत्व में वो बेहतरीन तरीके से एटीके के माहौल में ढल सकते हैं और ये इस टीम के लिए काफी अच्छी बात होगी।

उनको एटीके मोहन बगान की टीम में तीन खिलाड़ियों के साथ मिडिल में जिम्मेदारी दी जा सकती है। टीरी, सुमित राठी या शुभाशीष बोस के साथ बेहतरीन कम्यूनिकेशन के जरिए वो एक जबरदस्त शेप बना सकते हैं। झिंगन इस तरह के सिस्टम में पहले भी खेल चुके हैं, इसीलिए उन्हें कोई दिक्कत नहीं होगी।

2. प्रेशर में परफॉर्म करने का एक्सपीरियंस

संदेश झिंगन इंडियन टीम में और आईएसएल में कई बेहतरीन टीमों के खिलाफ खेल चुके हैं। इसके अलावा वो कई ऐसे मैचों का भी हिस्सा रहे हैं जब टीम काफी दबाव में थी और उस दौरान भी उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन करके दिखाया। इंडियन नेशनल टीम के लिए चीन और कतर के खिलाफ मुकाबले में उन्होंने जिस तरह का प्रदर्शन किया था वो काबिलेतारीफ था। इससे पता चलता है कि वो दबाव को अच्छी तरह से हैंडल करना जानते हैं।

एटीके को एक ऐसे खिलाड़ी की जरुरत है जो आईएसएल और एएफसी कप में दबाव के समय टीम को संभाल सके और झिंगन इसके लिए सबसे बेहतरीन विकल्प हैं।

1. लीडरशिप क्षमता

संदेश झिंगन इससे पहले आईएसएल में केरला ब्लास्टर्स जैसी टीम की कप्तानी कर चुके हैं। इसके अलावा नेशनल टीम के लिए भी आर्मबैंड पहन चुके हैं। एक लीडर के तौर पर उन्होंने खुद को बेहतरीन तरीके से साबित किया है।

वह एक ऐसे लीडर हैं जो अपने खिलाड़ियों की बात को सुनते हैं और उनसे जानने की कोशिश करते हैं कि टीम में क्या-क्या सुधार किया जा सकता है। आईएसएल के इस सीजन में प्रीतम कोटाल एटीके के कप्तान होंगे लेकिन संदेश झिंगन के लीडरशिप अनुभव का वो पूरा फायदा उठा सकते हैं।