इंडिया की अंडर-16 टीम के हेड कोच ने देश में फुटबॉल की स्थिति पर बात की।

भारतीय फैंस जहां लंबे समय से देश की सीनियर फुटबॉल टीम से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर दमदार प्रदर्शन करने की उम्मीद कर रहे हैं, तो वहीं देश की अंडर-16 टीम लगातार बेहतरीन फुटबॉल खेल रही है और इस साल नवंबर में होने वाले एएफसी अंडर-16 चैम्पियनशिप के लिए पूरी तरह से तैयार है।

टीम के कोच बिबियानो फर्नांडिस को अपने खिलाड़ियों से दमदार प्रदर्शन की उम्मीद है और उनका कहना है कि अंडर-16 टीम जल्द ही एशिया में टॉप-5 टीमों में जगह बना सकती है।

एएफसी अंडर-16 चैम्पियनशिप का ड्रॉ गुरुवार को मलेशिया में निकाला गया और इसमें इंडिया को ग्रुप-सी में कोरिया रिपल्बिक, ऑस्ट्रेलिया और उज्बेकिस्तान के साथ रखा गया है। ग्रुप की टॉप-2 टीमें क्वार्टर फाइनल में जाएंगी और सेमीफाइनल में जाने वाली चार टीमों को 2021 में पेरू में होने वाली फीफा अंडर-17 विश्वकप का टिकट मिलेगा।

बिबियानो फर्नांडिस ने कहा, “ड्रॉ को लाइव देख रहा था लेकिन मुझे किसी तरह की उम्मीद नहीं थी। जब मैंने अपना ग्रुप देखा तो मैंने अपने आप से कहा कि मेरी टीम ने क्वालीफायर में अपने आप को अच्छा मौका दिया है। मुझे लगता है कि मेरे खिलाड़ी किसी भी टीम के सामने अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं।”

“मैं इन लड़कों को बहुत सारी चीजें सिखाता हूं जो इनके काम आती है। फुटबॉल खेलने के साथ-साथ मैं इन्हें अनुशासन भी सिखाता हूं और यह फील्ड के अंदर एवं बाहर काफी महत्वपूर्ण साबित होता है। मैंने सर एलेक्स फर्ग्यूसन के बारे में पढ़कर अनुशासन के बारे में बहुत कुछ सीखा है और टैक्टिस के लिए मैं योर्गन क्लॉप को देखता हूं। बॉल कैसे अपने पोजेशन में रखा जाए इसके बारे में मैंने पेप गॉर्डियोला से बहुत कुछ सीखा है और थोड़ा बहुत मैं अपनी फिलॉशफी का भी इस्तेमाल करता हूं।”

इंडिया की अंडर-16 टीम पिछले कुछ वर्षों में बहरीन, उज्बेकिस्तान और तर्कमेनिस्तान जैसी टीमें के खिलाफ खेल चुकी है और बिबियानो फर्नांडिस ने यह भरोसा दिलाया कि इंडियन खिलाड़ियों और दूसरे टीमों के खिलाड़ियों के बीच का अंतर अब ज्यादा बड़ा नहीं है। उन्होंने बताया कि टीम को बस थोड़ी मेहनत करनी है जो वह कर रही है।

उन्होंने कहा, “हम जल्द ही एशिया की टॉप-5 टीमों में शामिल होंगे।”