लीग के वापसी से फुटबॉल फैन्स बहुत खुश हैं।

इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के पिछले सीजन के फाइनल में जब एटीके का सामना चेन्नइयन एफसी से हुआ था, तो उस समय कोरोना वायरस महामारी ने देश में दस्तक ही दी थी, जिसने बाद में पूरे देश में खतरनाक रूप धारण कर लिया। फाइनल बिना दर्शकों के खाली स्टेडियम में खेला गया था, जोकि जनजीवन पूरी तरह से प्रभावित होने से पहले देश में अंतिम खेल टूर्नामेंट था।  

अब आठ महीने बाद आईएसएल एक बार फिर से देश की पहली मुख्य टूर्नामेंट बन गई है, जिसकी देश में हमारे बीच वापसी हुई है। सीजन का पहला मैच शुक्रवार को बैम्बोलम स्थित जीएमसी एथलेटिक स्टेडियम में मौजूदा चैंपियन एटीके मोहन बागान और केरला ब्लास्टर्स के बीच खेला जाएगा।

एक बार फिर से यह टूर्नामेंट दर्शकों के बिना खाली स्टेडियम में खेला जाएगा। इसमें भाग लेने वाली सभी टीमें पहले से ही गोवा में मौजूद है, जहां उन्हें बायो सिक्योर बबल में रखा गया है।

आईएसएल का 2020-21 सीजन अब तक का सबसे बड़ा सीजन होगा क्योंकि इस बार ईस्ट बंगाल के रूप में एक और टीम इससे जुड़ गई है और लीग में भाग लेने वाली टीमों की संख्या 10 से बढ़कर 11 हो गई है। इस सीजन में मैचों की संख्या भी 115 हो गई, जबकि पिछले सीजन में 95 मैच खेले गए थे।

ईस्ट बंगाल की इंट्री और मौजूदा चैम्पियन एटीक का मोहन बागान में विलय होने का मतलब है कि भारतीय फुटबॉल के दो सबसे पुराने क्लब पहली बार आईएसएल में एक-दूसरे का सामना करने के लिए तैयार हैं। इस सीजन में दोनों टीमों के बीच पहला मैच 27 नवंबर को वास्को डि गामा के तिलक मैदान स्टेडियम में खेला जाएगा और इस मैच को लेकर दोनों टीमों के खिलाड़ी तथा फैन्स पहले से ही काफी उत्साहित हैं।

ईस्ट बंगाल के खिलाड़ी और नॉर्विक सिटी के पूर्व स्टार एंथनी पिल्किंगटन ने कहा, “मैचों का कार्यक्रम सामने आने के बाद हमें डर्बी के बारे में बताया गया है कि डर्बी कितनी बड़ी क्लब है, इसलिए, मैं वास्तव में सीजन के शुरू होने का और इंतजार नहीं कर सकता और मुझे यकीन है कि यह वास्तव में रोमांचक होने वाला है।’” 

इस सीजन में फैन्स अपने टीवी स्क्रीन्स पर कई सारे नए स्टार को देख पाएंगे। इनमें पूर्व स्ट्राइकर एडम ले फोंडरे और न्यूकासल यूनाइटेड के पूर्व डिफेंडर स्टीवन टेलर शामिल हैं। इसके अलावा पिछले सीजन के संयुक्त टॉप स्कोरर नेरीजुस वाल्सकिस और भारत के संदेश झिंगन भी हैं। वाल्सकिस इस बार जमशेदपुर एफसी से जबकि झिंगन एटीके मोहन बागान से जुड़े हैं। 
एसे में जबकि कोरोना के कारण प्रशंसकों को घर पर रहना होगा, इस सीजन की मेजबानी करने वाले तीन स्टेडियमों – फतोर्दा में जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम, बम्बोलिम में जीएमसी स्टेडियम और वास्को में तिलक मैदान – खाली नहीं होंगे। स्टेडियम में फैन वाल्स लगाए गए हैं, जिनमें होम एवं एवे आधार पर फैन्स अपनी टीमों को चीयर करते नजर आएंगे।

For more updates, follow Khel Now on Twitter and join our community on Telegram.