लीग के इतिहास में इन टीमों ने दमदार प्रदर्शन किया है।

साल 2014 के बाद से इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के सात सीजन बीत चुके हैं। इस दौरान कई क्लब्स इस लीग के साथ मिले और भारतीय फुटबॉल के स्तर को बढ़ाने में योगदान दिया। लीग के सात सीजनों के दौरान कुछ क्लब्स ने इसका साथ भी छोड़ा और कई नए भी इसके साथ जुड़े।

कई क्लब्स लीग की शुरुआत से इसके साथ जुड़े और अभी भी जुड़े हुए हैं। इनमें से कुछ क्लब्स ने आईएसएल के इतिहास में सबसे ज्यादा पॉइंट्स हासिल करने वाले क्लब्स के तौर पर अपना नाम दर्ज करा लिया है।

इस लिस्ट में शामिल टॉप पांच क्लब लीग के में अपना शानदार प्रदर्शन बरकरार रखे हुए हैं। भारतीय फुटबॉल में प्रदर्शन का इतना उच्च स्तर बरकरार रखना और बेहतरीन खेल दिखाते रहना काफी मुश्किल काम है, लेकिन इन टीमों ने ये परंपरा जारी रखी है।

5. एटीके एफसी- 136 पॉइंट्स (96 मुकाबले)

एटीके एफसी आईएसएल में लगातार अच्छा प्रदर्शन करती रही है। पहले सीजन में (तब एटलेटिको डि कोलकाता नाम था) जीत हासिल करने वाली एटीके एफसी दो बार खिताब अपने नाम कर चुकी है। हालांकि 2020-21 सीजन के पहले उन्होंने आई-लीग के टॉप क्लब मोहन बगान के साथ करार कर लिया और इसी के साथ टीम एटीके मोहन बगान बन गई। इससे पहले तक एटीके ने छह सीजन में 96 मुकाबले खेले और 136 पॉइंट्स हासिल किए।

4. नॉर्थईस्ट यूनाइटेड एफसी- 140 पॉइंट्स (116 मुकाबले)

इस लिस्ट में शामिल सिर्फ दो ही टीम हैं, जिन्होंने अच्छे प्रदर्शन के बाद भी खिताब हासिल नहीं किया है, उनमें से ही एक है नॉर्थईस्ट यूनाइटेड एफसी। ये टीम लीग की शुरुआत से ही इसके साथ जुड़ी हुई है। एनईयूएफसी दो बार प्लेऑफ्स के लिए क्वालिफाई हुई है, लेकिन अभी तक फाइनल में नहीं पहुंच सकी है। इस क्लब ने अपने आईएसएल इतिहास के दौरान 116 मुकाबले खेले और 140 पॉइंट्स हासिल किए हैं। गुवाहटी के इस क्लब ने लगातार अपने प्रदर्शन में सुधार किया है और ये एक अच्छे क्लब की बहुत बड़ी निशानी है।

3. चेन्नईयन एफसी- 150 पॉइंट्स (116 मुकाबले)

चेन्नईयन एफसी आईएसएल के इतिहास की सबसे अच्छी टीमों में से एक है। इस टीम ने दो बार खिताब अपने नाम किया है, पहली बार 2015 में और दूसरी बार 2017-18 सीजन में। चेन्नइयन की टीम 2019-20 कैंपेन के फाइनल में भी पहुंची थी, लेकिन एटीके के खिलाफ उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। चेन्नईयन एफसी ने अब तक 116 मुकाबले खेले हैं, जिनमें उसने 150 पॉइंट्स हासिल किए हैं। हालांकि इस क्लब के प्रदर्शन में लगातार गिरावट देखने को मिल रही है। पिछले साल टीम लीग में सातवें स्थान पर रही थी. लेकिन फिर भी ये टीम सबसे ज्यादा पॉइंट्स हासिल करने के मामले में तीसरे नंबर पर है।

2. मुंबई सिटी एफसी- 174 पॉइंट्स (116 मुकाबले)

आईएसएल के इतिहास में सबसे ज्यादा पॉइंट्स हासिल करने के मामले में मुंबई सिटी एफसी दूसरे नंबर पर है। एमसीएफसी तीन बार प्लेआफ्स तक पहुंची है और 2020-21 के सीजन में खिताब भी अपने नाम करने में कामयाब रही थी। कुछ टॉप खिलाड़ियों को शामिल करने के बाद टीम ने खिताब अपने नाम किया। इसी के साथ टीम ने लीग टेबल में भी टॉप किया था। टीम ने 20 मुकाबलों में 40 पॉइंट्स हासिल किए थे। ये टीम भी लीग की शुरुआत के साथ ही इससे जुड़ी हुई है। अब तक मुंबई सिटी एफसी ने 116 मुकाबलों में 174 पॉइंट्स हासिल किए हैं और भविष्य में भी इनसे ऐसे ही बेहतरीन प्रदर्शन की उम्मीदें हैं।

1. एफसी गोवा- 195 पॉइंट्स (116 मुकाबले)

लीग में सबसे ज्यादा पॉइंट्स हासिल करने के मामले में टॉप पर एफसी गोवा है। गौर्स के नाम 116 मुकाबलों में 195 पॉइंट्स दर्ज हैं, लेकिन फिर भी ये क्लब खिताब पर अपनी दावेदारी नहीं ठोक सका है। क्लब का प्रदर्शन लगातार बेहतरीन रहा है, लेकिन ट्रॉफी जीतने के लिए अभी भी गौर्स को और मेहनत की जरूरत है। प्वॉइंट्स के रिकॉर्ड में टॉप पोजिशन अपने आप ये बता देती है कि एफसीजी प्लेऑफ में एंट्री लेने के मामले में भी टॉप पर ही होंगे। इस टीम ने अब तक के सात में से छह सीजन में प्लेऑफ में एंट्री ली है। हालांकि, खिताब पर एक बार भी अपना नाम नहीं दर्ज करवा सके हैं।