ब्लू टाइगर्स की तरफ से दोनों ही मुकाबलों में कई नए प्लेयर्स ने अपने करियर का आगाज किया।

ओमान और यूएई के खिलाफ दो फ्रेंडली मैचों में इंडियन टीम का परफॉर्मेंस काफी अलग रहा। कोच इगोर स्टीमाक ने पहले मैच में 10 नए प्लेयर्स को डेब्यू कराया और उस मैच में टीम ने शानदार प्रदर्शन किया। हालांकि, दूसरे मुकाबले में टीम को 6-0 से हार का सामना करना पड़ा।

कई ऐसे प्लेयर्स ऐसे रहे जिनके अंदर अनुभव की कमी साफ दिखी। वहीं कुछ प्लेयर्स ने अपना बेस्ट दिया। इंडियन टीम के अभी के परफॉर्मेंस को देखते हुए कहा जा सकता है कि 2022 फीफा वर्ल्ड कप और 2023 एएफसी एशियन कप ज्वॉइंट क्वालीफायर्स से पहले कोच इगोर स्टीमाक को काफी काम करना होगा।

हम आपको इस आर्टिकल में ओमान और यूएई के खिलाफ मुकाबले में युवा प्लेयर्स के परफॉर्मेंस के बारे में बताते हैं:

चिंगलेनसाना सिंह

सेंटर बैक चिंगलेनसाना सिंह के ऊपर अब्दुल अजीज अल मुकबाली को रोकने की जिम्मेदारी थी और ये काम उन्होंने बखूबी किया। हालांकि, कुछ गलतियां भी उनसे हुईं। एक ओन गोल भी हुआ लेकिन इसके लिए उन्हें पूरी तरह से जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। कह सकते हैं कि अपने डेब्यू में उनका परफॉर्मेंस अच्छा रहा।

आशुतोष मेहता

आशुतोष मेहता एक जबरदस्त प्लेयर हैं और नेशनल टीम में उनको जगह देकर काफी सही फैसला लिया गया। हालांकि, अपने डेब्यू में उनका परफॉर्मेंस उतना अच्छा नहीं रहा। कई मौकों पर उन्होंने बेहतरीन सेव तो किए लेकिन कई बार आसान सा पास उन्होंने गंवा दिया। इसकी वजह से ओमान के अटैकर्स को इंडियन डिफेंस को भेदने का मौका मिल गया।

आकाश मिश्रा

आकाश मिश्रा का अबतक का सफर काफी शानदार रहा है। इंडियन एरोज से उन्होंने इंडियन टीम तक का फासला तय कर लिया है, जो वाकई काबिलेतारीफ है। ओमान के खिलाफ अपने डेब्यू मुकाबले में उन्होंने बेहद शांत रहते हुए शानदार प्रदर्शन किया और अमजद-अल-हार्थी को कंट्रोल करके रखा। दबाव में आकर उन्होंने कोई गलत टैकल नहीं किया।

हालांकि, यूएई के खिलाफ अगले मुकाबले में उनका प्रदर्शन काफी खराब रहा। राइट फ्लैंक पर बांडेर अल अहबाबी पूरी तरह से उनके ऊपर हावी रहे। ऐसा लग रहा था कि अपने से ज्यादा फिजिकल तौर पर स्ट्रांग प्लेयर्स का मुकाबला करने के लिए आकाश मिश्रा तैयार नहीं थे।

मशूर शरीफ

यूएई के खिलाफ मुकाबले में मशूर शरीफ बिल्कुल भी लय में नहीं दिखे और परिस्थितियां भी उनके पक्ष में नहीं थीं। वो ऐसे तीन डिफेंडर्स के साथ खेल रहे थे जिनके साथ पहले कभी नहीं खेला था। इन प्लेयर्स के बीच आपस में कोई तालमेल नहीं था। प्रेशर में मशूर शरीफ अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सके।

जिक्सन सिंह

केरला ब्लास्टर्स के इस प्लेयर ने ओमान के खिलाफ अपना डेब्यू किया था लेकिन उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा। जिक्सन ने खतरनाक एरिया में पोजेशन गंवाया। वो विरोधी टीम के मिडफील्डर्स को रोक नहीं सके जिससे पहले हाफ में टीम के ऊपर प्रेशर आ गया। सेकेंड हाफ में उन्हें रेनियर फर्नांडीज से रिप्लेस कर दिया गया।

सुरेश सिंह वांगजाम

सुरेश सिंह वांगजाम का डेब्यू काफी अच्छा रहा। उन्होंने काफी अच्छी तरह से अपने साथी प्लेयर्स को कवर अप किया। उन्होंने बैकलाइन में अच्छा सपोर्ट दिया और खुद भी अटैक के मौके बनाए। मैदान में उनकी एनर्जी काफी शानदार थी, जिसकी वजह से ओमान के खिलाफ सेकेंड हाफ में टीम ने और अच्छा खेल दिखाया।

हालांकि, आकाश मिश्रा की तरह सुरेश सिंह भी यूएई के खिलाफ मुकाबले में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए। जब भी उनको बॉल मिली तो उन्होंने अपना पोजेशन गंवा दिया।

लालेंगमाविया

लालेंगमाविया शायद एकमात्र ऐसे इंडियन प्लेयर हैं जो दोनों ही मुकाबलों में काफी कंफर्टेबल दिखे। ओमान के खिलाफ मैच में उन्होंने सेटल होने का समय जरुर लिया लेकिन एक बार लय में आने के बाद उन्होंने बेहतरीन मैच्योरिटी दिखाई। उन्होंने दिखाया कि वो पोजेशन वापस हासिल कर सकते हैं और डिफेंस से पास निकाल सकते हैं।

यूएई के खिलाफ मुकाबले में भी लालेंगमाविया ने अपना क्लास दिखाया और जहां सारे प्लेयर्स को दिक्कत हो रही थी वहीं वो सबसे ज्यादा सहज दिखे। वो फ्यूचर के बेहतरीन प्लेयर बन सकते हैं।

बिपिन सिंह

बिपिन सिंह ने बीते आईएसएल सीजन सबको प्रभावित किया था और ओमान के खिलाफ अपने डेब्यू में भी उनके अंदर वो स्पार्क दिखा। इगोर स्टीमाक चाहते थे कि वो मनवीर सिंह को पास दें और इसीलिए उनको राइट फ्लैंक पर खिलाया। उनके क्रॉस पर ही मनवीर ने बराबरी का गोल दागा था। बिपिन के अंदर पेस तो काफी था लेकिन फिजिकल फ्रंट पर वो कमजोर दिखे। ओमानी डिफेंडर्स के सामने वो काफी कमजोर दिखे।

मोहम्मद यासिर

युवा मोहम्मद आसिर के अंदर आईएसएल सीजन के दौरान काफी पोटेंशियल देखने को मिला। ओमान के खिलाफ उन्हें सब्सीट्यूट के तौर पर उतारा गया और उन्होंने अपनी एनर्जी और गति से सबको प्रभावित किया। हालांकि यूएई के खिलाफ मुकाबले में वो उतने इंप्रेसिव नहीं रहे।

ओमान के खिलाफ मुकाबले में उन्होंने ओमानी डिफेंडर्स को काफी छकाया। अपनी स्पीड से उन्होंने अल हार्थी को चौंका दिया। हालांकि यूएई के खिलाफ मुकाबले में वो उस तरह का प्रदर्शन नहीं कर पाए। सेकेंड हाफ में आने के बाद वो स्ट्रगल करते दिखे।

लिस्टन कोलासो

इस युवा इंडियन प्लेयर ने यूएई के खिलाफ अपना डेब्यू किया था। हालांकि वो अटैकिंग लाइनअप में कोई प्रभाव नहीं छो़ड़ सके। पहले हाफ के आखिर में उन्होंने एक जबरदस्त पास दिया था लेकिन उसके अलावा उनका प्रदर्शन उतना अच्छा नहीं रहा। उनके पास एक्सपीरियंस की कमी साफ तौर पर दिखी।

इशान पंडिता

इशान पंडिता को लेकर काफी हाईप बना हुआ था और उनकी काफी चर्चा हो रही थी। हालांकि, दोनों ही मैचों में उन्हें कुछ ही मिनट मैदान में बिताने का मौका मिला। ज्यादातर समय वो बॉल का पीछा ही करते रहे और कुछ ही बार बॉल को टच कर पाए। हालांकि, सिर्फ कुछ मिनटों के खेल के आधार पर उनका परफॉर्मेंस जज करना सही नहीं होगा।