इन खिलाड़ियों ने दमदार प्रदर्शन करके भारत का नाम रोशन किया।

हाल ही में फीफा वर्ल्ड कप क्वालिफायर मैच में बांग्लादेश के खिलाफ दो गोल करने के बाद से सुनील छेत्री चर्चा में हैं। इंडियन फुटबॉल टीम ने इस मुकाबले में 2-0 से जीत हासिल की थी जो क्वालिफायर मुकाबलों में उसकी पहली जीत थी। हालांकि, इस जीत से ज्यादा चर्चा उस रिकॉर्ड की हुई जिसे छेत्री ने कायम किया।

सुनील छेत्री के राष्ट्रीय टीम के लिए गोल की संख्या 75 हो चुकी है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सबसे ज्यादा गोल करने के मामले में वह लियोनल मेसी को पछाड़कर दूसरे स्थान पर पहुंच गए हैं। पहले स्थान पर क्रिस्टियानो रोनाल्डो हैं। छेत्री पिछले 16 सालों से भारत के लिए खेल रहे हैं और कई खिलाड़ियों की प्रेरणा है।

सुनील छेत्री से पहले कई दिग्गज फुटबॉलर भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नाम कमा चुके हैं। आज हम आपको भारत के टॉप 10 गोल स्कोरर के बारे में बताने जा रहे हैं:

10. चुन्नी गोस्वामी – 9 गोल, 32 मैच

गोस्वामी ने देश के लिए कई मैच खेलें।

इंडियन फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान चुन्नी गोस्वामी का पिछले ही साल निधन हुआ है। उन्होंने भारत के लिए 32 मैचों में नौ गोल किए हैं। वह फर्स्ट क्लास क्रिकेटर भी रहे।

9. तुलसीदास बलराम, 9 गोल, 29 मैच

तुलसीदास ने भारत के लिए 29 मैच खेले और नौ गोल दागे। अपने करियर के ज्यादातर समय वह ईस्ट बंगाल की ओर से खेले। वह बतौर विंगर अपने शानदार खेल और गोल करने के लिए जाने जाते हैं।

8. नेविल डी’सूजा – 11 गोल , 15 मैच

नेविल ने भारत के लिए कम ही मैच खेलें। उन्होंने 15 मैचों में 11 गोल किए। साल 1980 में उनकी अचानक मृत्यू हो गई थी। 47 साल की उम्र में उन्हें ब्रेन हेमरेज हुआ था। वह ओलिंपिक गेम्स में हैट्रिक लगाने वाले पहले एशियन थे।

7. पीके बनर्जी – 15 गोल, 45 मैच

पीके बनर्जी इंडियन फुटबॉल टीम के सर्वश्रेष्ठ फुटबॉलर्स में शुमार थे। वह भारत के पूर्व कप्तान और कोच थे। पीके बनर्जी ने देश के लिए 45 गेम्स में 15 गोल किए। उन्हें अर्जुन और पद्म श्री अवॉर्ड दिया जा चुका है।

6. मगन सिंह रजवी – 15 गोल, 33 मैच

मगन सिंह ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में 15 गोल किए थे। उन्होंने 33 मैचों में यह गोल किए। वह 1970 में एशियन गेम्स में ब्रॉन्ज जीतने वाली भारतीय टीम के हिस्सा थे और मेडल जीताने में उनका अहम रोल रहा था। वह ईस्ट बंगाल, मोहन बागान और सलगओकार एफसी के लिए खेल चुके हैं।

5. शब्बीर अली – 23 गोल, 66 मैच

भारत के दिग्गज हैं शब्बीर अली।

शब्बीर अली को भी देश के महान फुटबॉलर्स में गिना जाता है। वह 1970 से 80 के दशक में इंडियन फुटबॉल टीम का अहम हिस्सा थे। उन्होंने देश के लिए 66 मैचों में 23 गोल किए हैं। वह ईस्ट बंगाल जैसे क्लब के लिए खेल चुके हैं। वहीं वह चर्चिल ब्रदर्स, मोहम्मडन एससी के कोच भी रह चुके हैं।

4. जेजे लालपेखलुआ – 23 गोल, 56 मैच

जेजे लालपेखलुआ इस लिस्ट उन दो खिलाड़ियों में शामिल हैं जो अभी सक्रिय फुटबॉल का हिस्सा हैं। एफसी और मोहन बागान इंजरी और कम गेम टाइम के कारण पीछे रहे हैं। हालांकि इसके बावजूद उन्होंने टीम इंडिया के लिए 56 मैचों में 23 गोल किए हैं।

3. बाईचुंग भूटिया – 27 गोल, 82 मैच

बाईचुंग भूटिया ने 16 साल के अंतरराष्ट्रीय करियर में 82 मैच खेले हैं। इन मैचों में उन्होंने 27 गोल दागे हैं। भारत जहां क्रिकेट के अलावा किसी और खेल को लोग अधिक महत्व नहीं देते वहां फुटबॉल को भी लोगों के बीच लोकप्रिय बनाने में बाइचुंग भूटिया का अहम हाथ रहा है।

2. आई एम विजेयन – 29 गोल, 66 मैच

भारत के लिए विजेयन ने दमदार प्रदर्शन किया।

आईएम विजेयन देश में फुटबॉल खेल का एक बड़ा नाम है। इंडियन फुटबॉल टीम के इस पूर्व कप्तान को अर्जुन अवॉर्ड से नवाजा गया है। उन्होंने 66 मैचों में 29 गोल किए हैं। वह भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सबसे अधिक गोल करने वाले दूसरे खिलाड़ी हैं।

1. सुनील छेत्री – 74 गोल, 116 मैच

भारत के लिए सबसे ज्यादा मैच खेलने वाले मौजूदा कप्तान सुनील छेत्री ने देश के लिए सबसे ज्यादा गोल किए हैं। उन्होंने 116 मैचों में 74 गोल दागे हैं। वह लंबे समय से इंडियन फुटबॉल टीम का चेहरा हैं।