दो बार की चैंपियन एटीके की टीम इंडियन सुपर (आईएसएल) के छठे सीजन में मौजूदा चैंपियन बेंगलुरू एफसी के खिलाफ सीजन की दूसरी जीत का लक्ष्य लेकर शनिवार को श्रीकांतिरावा स्टेडियम में मैदान पर उतरेगी। दोनों ही टीमें पहले ही प्लेऑफ में प्रवेश कर चुकी है।

एटीके की टीम इस सीजन में दिसंबर में बेंगलुरू एफसी को 1-0 से मात दे चुकी है। दोनों ही टीमों के कोच लीग चरण के अपने अंतिम मैच में अब अपने प्रमुख खिलाड़ियों को आराम देना चाहेंगे।

बेंगलुरू एफसी के लिए घर के बाहर पिछले दो मुकाबले सही नहीं रहे हैं और टीम को चेन्नयन और केरला ब्लास्टर्स के खिलाफ खेले गए दो मैचों से केवल एक ही अंक मिला है। इस दौरान टीम को एफसी कप क्वालीफाइंग में मालदीव की टीम माजिया के खिलाफ भी 1-2 से हार का सामना करना पड़ा है।

मौजूदा चैंपियन के लिए राहत की बात यह है कि सुनील छेत्री और जुआनन निलंबन के बाद फिर से टीम में लौट चुके है। हालांकि अल्बर्ट सेरान चौथा येलो कार्ड मिलने के बाद बाहर हैं।

बेंगलुरू के कोच कार्लोस कुआड्राट ने कहा,  “अगर आपको याद है तो एटीके केवल एक ऐसा चैंपियंस है जो खिताब जीतने के बाद प्लेआफ में पहुंची है। वहीं, खिताब जीतने वाली बाकी सभी अन्य टीमें संघर्ष करती हुई दिखी है। लेकिन हम यहां तीन सीजन में तीनों बार प्लेआफ में पहुंचे हैं।”

इस बीच, एटीके की टीम को अपने पिछले मुकाबले में चेन्नइयन एफसी के हाथों 1-3 से हार का सामना करना पड़ा है और टीम अब फिर से जीत की पटरी पर लौटना चाहेगी। कोच एंटोनियो हबास भी चाहते हैं कि उनक टीम प्लेआफ मुकाबले से पहले जीत की पटरी पर लौटे।

टीम के बुरी खबर यह है कि अनुभवी सेंटर बैक अनस एडाथोडिका पिछले मैच में चोटिल होने के कारण छह महीने के लिए बाहर हो गए हैं।

हबास ने कहा, “ हमें कल का मैच जीतना होगा। हमारी सोच बदली नहीं है। बेंगलुरू एक बड़ा क्लब है। वे चैंपियंस हैं। यह हमारे लिए मुश्किल होगा। हम अपने प्रतिद्वंद्वी का सम्मान करते हैं। सुनील के खिलाफ कोई खास रणनीति नहीं है। हमारी रणनीति बेंगलुरू एफसी के खिलाफ है ना कि किसी एक खिलाड़ी के खिलाफ।”

एटीके 17 मैचों से 33 अंकों के साथ दूसरे और बेंगलुरू इतने ही मैचों से 29 अंकों के साथ तीसरे नंबर पर है। बेंगलुरू अगर जीतती भी है तो फिर भी वह 32 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर रहकर ही लीग चरण का समापन करेगी। वहीं, एटीके के पास 36 अंकों के साथ लीग चरण का समाप्त करने का मौका होगा।