इंडिया की टॉप फ्लाइट लीग का आगाज 20 नवंबर से होने वाला है।

इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के आगामी सीजन का आगाज होने में कुछ ही दिन शेष बचे हैं लेकिन उससे पहले इस टूर्नामेंट को एक बड़ा झटका लगा है। खबरों के मुताबिक गोवा प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने लीग में खलल डालने की धमकी दी है।

कोरोना वायरस की वजह से इस बार आईएसएल के सभी मैच से गोवा में ही खेले जाएंगे। हालांकि लॉजिस्टिक संबंधित जितने भी काम हैं वो स्थानीय लोगों को नहीं दिए गए हैं। इस बार लॉजिस्टिक के सारे काम बाहरी एजेंसी को दे दिए गए हैं और गोवा के लोकल वेंडर्स को कोई भी काम नहीं मिला जिससे गोवा कांग्रेस काफी नाराज है।

गोवा प्रदेश कांग्रेस कमेटी (जीपीसीसी) के जनरल सेक्रेट्री संकल्प अमोनकर ने इस नियम में बदलाव की मांग की है। ऐसा नहीं होने पर उन्होंने लीग के बहिष्कार की धमकी दी है। उन्होंने आरोप लगाया है कि लॉजिस्टिक का पूरा कॉन्ट्रैक्ट बेंगलुरु की एक एजेंसी को दे दिया गया, जबकि लोकल वेंडर और सप्लायर्स खाली हाथ रह गए।

हेराल्ड से बातचीत में उन्होंने कहा, “कोरोना वायरस के इस दौर में सरकार का ये फर्ज था कि वो स्थानीय लोगों को रोजगार मुहैया कराए। आईएसएल एक बड़ा टूर्नामेंट है, इससे गोवा के वेंडर्स और कॉन्ट्रैक्टर्स को काफी फायदा मिलता लेकिन सरकार ने गोवा से बाहर की एजेंसी को कॉन्ट्रैक्ट दे दिया।”

गोवा प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने मांग की है कि जितने भी कॉन्ट्रैक्ट हैं, जिसमें टीम को होटल से ग्राउंड तक ले जाने के लिए ट्रांसपोर्ट, होटल की सुविधा, ग्राउंड स्टाफ, सिक्योरिटी, इलेक्ट्रिक आइटम और अन्य जरुरी चीजें लोकल फर्म्स को दी जाएं। कोरोना माहामारी की वजह से इनका बिजनेस बंद हो गया था और इन्हें कई तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ा।

संकल्प अमोनकर ने कहा, “गोवा से बाहर की कंपनियों को जितने भी कॉन्ट्रैक्ट दिए गए हैं उसे खत्म करने के लिए हमने सरकार को चार दिन का अल्टीमेटम दिया है। अगर सरकार ऐसा नहीं करती है तो हम आईएसएल में रुकावट जरुर पैदा करेंगे। हम कोई भी मैच नहीं होने देंगे।”

जीपीसीसी फक्शनरी ने ये भी कहा कि वह आईएसएल से संबंधित जितनी भी एक्टिविटी है उसे होने नहीं देंगे। इसमें टीमों की प्री-सीजन ट्रेनिंग भी शामिल है।

लीग का आयोजन कड़ी गाइडलाइन के बीच 20 नवंबर से होने वाला है। हर टीम बायो-सिक्योर बबल में रहेगी और किसी भी प्लेयर को अपने टीम के खिलाड़ी और कोच के अलावा बाहरी किसी और शख्स से मिलने की इजाजत नहीं होगी। आईएसएल का आयोजन गोवा के तीन स्टेडियम में होगा। इस सीजन का पहला मैच एटीके मोहन बगान और केरला ब्लास्टर्स के बीच खेला जाएगा।