स्पेनिश कोच 2019-20 सीजन के बीच में एफसी गोवा से अगल हुए थे।

एफसी गोवा बीते सीजन हेड कोच सर्जियो लोबेरा के मार्गदर्शन में इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) में दमदार प्रदर्शन कर रही थी। अचानक खबर आई की मैनेजमेंट और कोच के बीच कुछ अनबन हुई जिसके कारण क्लब ने लोबेरा को हटाने का फैसला किया है।

लोबेरा भले ही सैक हो गए, ले​किन इंडियन फुटबॉल में उनकी डिमांड कम नहीं हुई। फिलहाल, कई आईएसएल क्लब उन्हें अपने साथ जोड़ने की कोशिश कर रहे हैं।

सीजन के अंत में हेड कोच जॉर्ज कोस्ट को सैक करने वाली मुंबई सिटी एफसी प्रयास कर रही है कि लोबेरा को अपने साथ जोड़ा जाए। खेल नाओ इसकी पुष्टि कर सकता है। इससे पहले, केरला ब्लास्टर्स और जमशेदपुर एफसी भी लोबेरा को अपना हेड कोच बनाने का प्रयास कर चुकी है।

ब्लास्टर्स ने काफी कोशिश की थी, लेकिन उनके और लोबेरा के बीच आपसी सहमति न बन पाने के कारण क्लब अलग हो गया। हालां​कि, जमशेदपुर ने आपनी तरफ से ऑफर दे दिया है और उसे लोबेरा के जवाब का इंतजार है।

खेल नाओ से एक सूत्र ने कहा, “सिटी फुटबॉल ग्रुप समेत मुंबई सिटी एफसी का नया मैनेजमेंट एफसी गोवा में लोबेरा द्वारा किए गए काम से बहुत खुश हैं। पिछले सीजन प्लेऑफ में जगह न बना पाने के कारण वे बदलाव करना चाहते हैं और उनका मानना है कि 43 साल के लोबेरा इस काम के लिए सही साबित होंगे।”

सूत्र ने बताया, “जमशेदपुर की तरफ के ऑफर मिलने के बावजूद लोबेरा का झुकाव मुंबई की तरह ज्यादा है। ​मुंबई में सिटी फुटबॉल ग्रुप के जुड़े होने ने भी इस डील पर बड़ा प्रभाव डाला है।”

पिछले दो साल से मुंबई की टीम कोस्ट की देखरेख में खेल रही थी। 2018-19 सीजन में मुंबई तीसरे पायदान पर रही थी। बीत सीजन टीम के खराब प्रदर्शन के बाद मुंबई ने अपने हेड कोच के अनुबंध को आगे न बढ़ाने का फैसला लिया।

लोबेरा दो सीजन से भी लंबे समय तक गोवा के कोच रहे और उन्होंने टीम में जिस तरह की फिलॉशफी का इस्तेमाल किया उसकी इंडियन फुटबॉल स​र्किट में कोई तुलना नहीं। बीते सीजन गोवा की टीम प्लेऑफ तक पहुंची और लीग स्टेज में पहले पायदान पर रहकर एफसी चैम्पियंस लीग का टिकट भी हासिल किया।

मुंबई लगातार प्रयास कर रहा है कि लोबेरा उनके साथ जुड़ें। हालांकि, क्लब में बैकरूम स्टाफ कैसा होगा इसे लेकर दोनों पर्टियों के बीच काफी चर्चा हो रही है। ऐसा माना जा रहा है कि क्लब और कोच बैकरूम स्टाफ में अपने पसंद के लोगों को शामिल करना चाहते हैं।