टूर्नामेंट के दूसरे हाफ में इस टीम का प्रदर्शन उतना अच्छा नहीं रहा है।

जमशेदपुर एफसी अपने नए कोच ओवेन कोल के साथ 2019-20 सीजन के नए कैंपेन के लिए पूरी तरह तैयार है। उन्होंने हेड कोच के तौर पर क्लब के साथ दो साल का कॉन्ट्रैक्ट साइन किया है। दिलचस्प बात ये है कि कोल जब कोच के तौर पर पहली बार आईएसएल के मैदान पर उतरे थे तो उनके सामने जमशेदपुर एफसी की ही टीम थी।

कहा जा रहा है कि ओवेन कोल के आने से जमशेदपुर एफसी की टीम को काफी फायदा होगा। जमशेदपुर कहीं ना कहीं आखिर में आकर चूक जाती थी लेकिन कोल के पास नॉकआउट मुकाबलों का काफी अनुभव है। उन्होंने अभी तक छह महीने ही इंडिया में कोच के तौर पर काम किया है लेकिन इतने कम समय में ही अपने जबरदस्त काम से उन्होंने सबको प्रभावित किया है।

चेन्नईयन एफसी की ही तरह उन्हें जमशेदपुर एफसी के साथ भी काफी सारा काम करना होगा। आने वाले सीजन के लिए वो किस तरह से अपनी टीम को तैयार करते हैं ये देखने वाली बात होगी। कोल के पास प्रेशर को झेलने की क्षमता है और इसकी झलक पिछले सीजन के दौरान हमें देखने को मिली थी।

चेन्नईयन एफसी की ही तरह जमशेदपुर के पास भी कई सारे बेहतरीन इंडियन प्लेयर हैं। इसमें नरेंद्र गहलोत, अनिकेत जाधव और जैकीचंद सिंह जैसे प्रमुख नाम हैं। हालांकि, कई सारे अच्छे प्लेयर्स जमशेदपुर का साथ भी छोड़ चुके हैं। इनमें फारुख चौधरी जैसे खिलाड़ी हैं जो अब मुंबई सिटी एफसी का हिस्सा हैं।

क्या कहते हैं आंकड़े ?

बेहतरीन टैलेंट होने के बावजूद जमशेदपुर एफसी लगातार गोल करने में नाकाम रही है। अभी तक के अपने तीन सीजन में उन्होंने हर मैच में 1.25 गोल की एवरेज से कुल 67 गोल ही किए हैं। टीम को प्लेऑफ तक जाना है तो उसे इस रिकॉर्ड को बेहतर करना होगा। वहीं अगर तुलना करें तो ओवेन कोल की लीडरशिप में चेन्नईयन एफसी ने 14 मैचों में 28 गोल किए थे।

जमशेदपुर की टीम को किसी ऐसे शख्स की जरुरत है जो प्रेशर हैंडल करने में माहिर हो और नए हेड कोच इस काम में माहिर माने जाते हैं। वो एक ऐसे कोच हैं जो अपोजिशन पर अटैक करना पसंद करते हैं।

ओवेन कोल के आने के बाद चेन्नईयन एफसी की फॉर्म में काफी सुधार हुआ था और उन्हें सिर्फ एक मैच में हार मिली थी और कई मुकाबले उन्होंने जीते थे। चेन्नई ने एटीके, मुंबई सिटी एफसी और केरला ब्लास्टर्स जैसी बेहतरीन टीमों के खिलाफ जीत हासिल की थी। जमशेदपुर एफसी भी अपनी खोई हुई फॉर्म हासिल करना चाहेगी। वो जरुर अगले सीजन में टॉप 4 के लिए क्वॉलीफाई करना चाहेंगे।

नए प्लेयर्स को साइन करना

जमशेदपुर एफसी की टीम काफी अनलकी है, क्योंकि पिछले सीजन अहम मौकों पर उनके दिग्गज खिलाड़ी चोटिल हो गए थे और इसका खामियाजा उसे भुगतना पड़ा था। इसलिए ओवेन कोल को कुछ बेहतरीन खिलाड़ियों को अपनी टीम में शामिल करना चाहिए।

ऐसा भी हो सकता है कि ओवेन कोल की वजह से चेन्नईयन एफसी के कई खिलाड़ी इस बार जमशेदपुर एफसी का रुख करें। कई प्लेयर ऐसा करते हैं कि वो क्लब की जगह कोच को ज्यादा अहमियत देते हैं।

फ्यूचर

जमशेदपुर एफसी को खुद पर भरोसा रखना चाहिए। उन्हें ये कॉन्फिडेंस होना चाहिए की नए हेड कोच की लीडरशिप में वो कुछ भी हासिल कर सकते हैं। इसके लिए जरुरी है कि टीम में कई सारे टैलेंटेड प्लेयर हों।

हालांकि, ये सबकुछ इतना आसान भी नहीं रहने वाला है लेकिन वो कोल ही हैं जो जमशेदपुर एफसी को उनके लक्ष्य तक पहुंचा सकते हैं। उसके लिए जरुरी ये है कि प्लेयर्स उनके द्वारा बताए गए रणनीति के हिसाब से खेलें।