ड्रॉ को पीछे छोड़ ओडिशा के खिलाफ जीत चाहेगा गोवा

इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के सातवें सीजन में पिछले छह मैचों में ड्रॉ खेलने का छक्का लगा चुकी जुआन फेरांडो की एफसी गोवा प्लेऑफ की अपनी उम्मीदों को जिंदा रखने के लिए ड्रॉ के द्वंद्व से बाहर आना चाहेगी। गोवा को लीग में अपना अगला मुकाबला बुधवार को यहां फातोर्दा के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में तालिका की सबसे नीचली टीम ओडिशा एफसी के खिलाफ खेलना है।

गोवा इस समय 17 मैचों में 24 अंकों के साथ तालिका में चौथे नंबर पर है। हैदराबाद के भी 24 ही अंक है, लेकिन निजाम्स एक पायदान नीचे है। कोच जुआन फेरांडो की टीम गोवा के पूर्व चैंपियन बेंगलुरू एफसी से दो अंक ज्यादा है। 

गोवा को अभी लीग चरण में तीन मैच और खेलने हैं और जुआन फेरांडो जानते हैं कि उनके पास इस मैच में तीन अंक लेने का बेहतरीन मौका है। हालांकि गोर्स को अपने कई चाटिल खिलाड़ियों की कमी खलेगी।  

फेरांडो ने कहा, ‘‘ हमारे कुछ खिलाड़ी चोटिल हैं। लेकिन मैं भयभीत नहीं हूं क्योंकि हमारे पास एक बहुत अच्छी टीम है। समस्या केवल यह है कि इस मैच की तैयारी के लिए हमें केवल दो ही दिन का समय मिला। लेकिन खिलाड़ियों को लेकर मैं निराश नहीं हूं क्योंकि हमारे पास बहुत अच्छी टीम है और हर कोई टीम में अपना योगदान दे सकते हैं।’’  

गोवा को पिछले कुछ मैचों से अंतिम समय में गोल करके अंक बांटने की आदत सी हो गई है। अपने पिछले मुकाबले में चेन्नइयन एफसी के खिलाफ भी टीम ने कुछ ऐसा ही किया। किसी भी टीम ने पहले गोल खाने के बाद उतने अधिक अंक हासिल नहीं किए हैं, जितने कि गोवा ने किए हैं।  

फेरांडो ने कहा, ‘‘ इस समय हमारी मानसिकता अपना काम जारी रखने की है। ज्यादा चीजों में बदलाव करना संभव नहीं है। उम्मीद है कि ये ड्रॉ भविष्य में जीत में तब्दील होंगे।’’ 

दूसरी तरफ, ओडिशा एफसी ने इस सीजन में अब तक सबसे ज्यादा 10 मुकाबले हारे हैं और उसके नाम केवल एक ही क्लीन शीट है। टीम को पिछले आठ मैचों से जीत नहीं मिली है, जबकि पिछले तीन मैचों में वह नौ गोल खा चुकी है। हालांकि अंतरिम मुख्य कोच गेराल्ड पियटन गोवा के खिलाफ होने वाले मुकाबले को लेकर आश्वस्त नजर आ रहे हैं।  

पिटयन ने कहा, ‘‘ मैं तर्क के साथ रहना चाहता हूं। गोवा एक अच्छी पासिंग टीम है। मैं जानता हूं कि वे हमारे खिलाफ कैसे खेलेंगे। मैं उनकी रणनीतियों को जानता हूं। हमारे लिए यह जरूरी है कि शुरुआत से ही अच्छा प्रदर्शन करें।’’