एफसी गोवा के नए हेड कोच ने क्लब और इंडियन फुटबॉल के फ्यूचर को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी।

स्पेन के युआन फेरांडो को कुछ समय पहले ही इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) में खेलने वाली टीम एफसी गोवा का हेड कोच बनाया गया है और वह चाहते हैं कि पूरे एशिया में उनके क्लब और इंडियन फुटबॉल की चर्चा हो।

एफसी गोवा फैन क्लब के अफिशियल इंस्टाग्राम हैंडल पर बातचीत के दौरान युआन फेरांडो ने कहा, “जब मैंने दो महीने पहले प्रेसिडेंट और और ‘डायरेक्टर ऑफ फुटबॉल’ रवि पुष्कर से बात की थी, तब उन्होंने मुझे एफसी गोवा के बारे में कई सारी चीजें बताई थीं। उन्होंने मुझे क्लब के स्टाइल, यंग प्लेयर्स की मेंटेलिटी और गोवा में लोग क्या सोचते हैं, इन सब चीजों के बारे में डिटेल से बताया था। इनमें से कई ऐसे प्वाइंट्स हैं जो मेरी सोच से बिल्कुल मिलते हैं। मैं काफी खुश हूं क्योंकि मुझे लगता है कि ये काफी बेहतरीन प्रोजेक्ट है।”

युआन फेरांडो ऐसे समय में टीम के कोच बने हैं, जब वो तुरंत इंडिया आकर खिलाड़ियों की ट्रेनिंग स्टार्ट नहीं कर सकते हैं। उन्होंने अब भारत में कदम नहीं रखा है, लेकिन वो वीडियो कॉल्स के जरिए थोड़े-बहुत टिप्स जरुर दे रहे हैं। सर्जियो लोबेरा और अन्य बड़े प्लेयर्स के जाने के कारण टीम अभी बदलाव के दौर से गुजर रहीं है।

नए हेड कोच ने कहा, “पिछले तीन वर्षों में एफसी गोवा ने काफी बेहतरीन फुटबॉल खेला और उनका सीजन काफी बढ़िया गया, लेकिन अब एक नए चैप्टर की शुरुआत हो रही है। आप 4-5 साल तक एक ही टीम को नहीं रख सकते हैं, बर्शतें आपकी टीम में लियोनल मेसी और क्रिस्टियानो रोनाल्डो जैसे खिलाड़ी ना हों।”

“कुछ बदलाव जरुर हो जाते हैं और क्लब में कुछ बदलाव होने चाहिए। हमारी मेंटलिटी बढ़नी चाहिए। अब हम एफएसी चैंपियंस लीग का हिस्सा हैं और इसीलिए नए खिलाड़ियों और नए मोटिवेशन के साथ तैयारी करने की जरुरत है।”

फुटबॉल को लेकर भारत में जिस तरह का पैशन है और एफसी गोवा के सपोर्ट में जिस तरह से फैंस स्टेडियम में माहौल बनाते हैं उसको लेकर भी युआन फेरांडो ने खुशी जताई।

उन्होंने कहा, “मैं काफी खुश हूं क्योंकि फुटबॉल को इसी तरह के पैशन की जरुरत है। ना केवल गोवा बल्कि पूरे इंडिया में फुटबॉल के प्रति लोगों में जुनून देखने को मिलता है। ये वाकई में एक अलग फीलिंग है और मैं इन लोगों के लिए काफी कड़ी मेहनत करना चाहता हूं।”

अंत में युआन फेरांडो ने भारतीय फुटबॉल के फ्यूचर को लेकर भी बात की। उन्होंने कहा, “इंडियन फुटबॉल का फ्यूचर अब है। अगर आपके पास अच्छे प्लान हैं, अच्छी स्किल है तो फिर अगले दो या तीन साल में हमें कई बेहतरीन खिलाड़ी मिल सकते हैं।”