26 वर्षीय डिफेंडर ने इंडियन फुटबॉल टीम के भविष्य और 2022 फीफा वर्ल्डकप क्वॉलीफायर पर बात की है।

स्टार इंडियन डिफेंडर संदेश झिंगन फिलहाल चोट से रिकवर हो रहे हैं और पिछले हफ्ते ही उन्होंने इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) फ्रेंचाइजी केरला ब्लास्टर्स के साथ अपना रिश्ता खत्म किया है। वह इस वक्त सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं और उन्होंने हाल ही में कहा है कि अनिरुद्ध थापा और सहल अब्दुल समद के पास टॉप यूरोपियन लीग्स में खेलने की स्किल है।

बीते शनिवार को इंडियन फुटबॉल टीम के मीडिया डॉयरेक्टर निलंजन दत्ता के साथ बातचीत के दौरान संदेश झिंगन ने कहा कि पहले कि अपेक्षा में आने वाले वर्षों में ज्यादा इंडियन प्लेयर्स को यूरोपियन लीग्स में खेलते देखा जा सकता है।

उन्होंने कहा, “पिछले समय की अपेक्षा में अब मानसिकता में बदलाव आया है। सहल और थापा जैसे खिलाड़ियों के पास यूरोप के बेस्ट क्लब्स के लिए खेलने की क्वॉलिटी है। मुझे इस बात की काफी उम्मीद है कि आने वाले सालों में थापा स्पेन और सहल जर्मनी में खेलते नजर आएंगे।”

2022 फीफा वर्ल्डकप क्वॉलीफायर्स में अब तक भारत का प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा है और पांच मैचों में उसे एक भी जीत नहीं मिली है। चोटिल होने के बाद संदेश झिंगन कुछ मैचों में हिस्सा नहीं ले सके और उन्हें इससे काफी दुख हुआ।

संदेश झिंगन ने कहा, “क्वॉलीफाइंग राउंड के लिए मैं काफी उत्सुक था। मुझे याद है कि जब हमारा ड्रॉ आया था तो हमने खुद से कहा था कि यही हमारे लिए कुछ कर गुजरने का समय है, लेकिन चीजें हमारे हिसाब से नहीं हुई।”

ओमान के खिलाफ भारत को हार मिली थी, लेकिन इस मैच का परिणाम बदल सकता था। संदेश झिंगन को ऐसा लगता है कि ओमान के खिलाफ मैच में वह अच्छा कर सकते थे। इसके अलावा उन्हें यह भी लगता है कि चोटिल होने से पहले कुछ मैचों में उनका प्रदर्शन संतोषजनक नहीं रहा था।

झिंगन ने कहा, “मैं श्योर हूं कि ट्रेनिंग से लेकर मैच तक प्लेयर्स अपना बेस्ट देते हैं। कई बार चीजें आपके हक में नहीं हो पाती हैं। परिणाम को छोड़ दें तो हम मैचों से काफी कुछ सीखते हैं और निश्चित तौर पर वापसी करेंगे। इंडिया के भविष्य काफी शानदार दिखाई पड़ता है।”

स्टार डिफेंडर ने यह भी बताया कि 2014 में उन्होंने जब इंडिया के लिए अपना पहला मैच खेला था तब के मुकाबले अब टीम का कॉन्फिडेंस काफी ज्यादा बढ़ गया है और इंडियन टीम काफी साहसिक फुटबॉल खेल रही है।