ब्लू टाइगर्स के कैप्टन ने 15 साल के अपने सफर, उम्मीदें और प्रेरणा पर बात की।

इंडियन फुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री ने बीते शुक्रवार को इंटरनेशनल फुटबॉल में अपने 15 साल पूरे किए हैं। 12 जून, 2005 को पाकिस्तान के खिलाफ दोस्ताना मैच में इंडिया के लिए अपने डेब्यू करने वाले छेत्री ने अपने पहले मैच में ही गोल दागा था।

सुनील छेत्री के इंटरनेशनल फुटबॉल में 15 साल पूरे होने की खुशी में इंडियन फुटबॉल टीम ने अपने फेसबुक पेज पर लाइव किया और उसमें कैप्टन फैनटास्टिक खुद शामिल रहे। लाइव के दौरान उन्होंने इंडियन टीम के साथ अपने डेब्यू से लेकर अब तक की कई यादों को ताजा किया और साथी खिलाड़ियों एवं अपने अब तक के अनुभव के अलावा ढेर सारी बातें की।

उन्होंने कहा, “यह ऐसा समय है जब मैं अपने करियर में सबसे ज्यादा खुश हूं। मैं एकदम फिट हूं और मैं वहीं हूं जो मैं शुरुआत में था। जब तक कि कोई ऐसा प्लेयर नहीं आ जाता जो मुझे बेंच पर बैठा दे और मुझे जाना पड़े तब तक मुझे लगता है कि मैं खेलता रहूंगा।”

सुनील छेत्री ने जब इंडिया के लिए अपना डेब्यू किया तब बाईचुंग भूटिया टीम के स्टार थे। इसके अलावा रेनेडी सिंह, महेश गवली और गौरमांगी सिंह जैसे खिलाड़ी भी टीम में मौजूद थे जिसका फायदा छेत्री को मिला।

उन्होंने कहा, “बाईचुंग भाई का प्रभाव काफी ज्यादा था। मुझे याद है कि जब मैं 9 या 10 में पढ़ता था तब दिल्ली में मैं डूरंड कप का मैच देखने गया था। जब मैंने मोहन बागाने के लिए साइन किया तो बाईचुंग भाई भी क्लब में आए और उन्होंने मुझसे कहा कि तुम काफी अच्छा कर रहे हो।”

बचपन में हर किसी के आइडल होते हैं और सुनील छेत्री के भी कई आइडल थे। इंडियन प्लेयर्स की बात करें तो आईएम विजयन और बाईचुंग भूटिया उनके आइडल थे और ओवरऑल की बात करें तो उन्हें ब्राजीलियन रोनाल्डो नजारियो काफी पसंद थे।

सुनील छेत्री ने देश के अलग-अलग ऐज ग्रुप्स की टीमों की खूब तारीफ की और कहा कि नेशनल टीम का कप्तान होने और टीम का फैन होने के कारण वह चाहते हैं कि सभी टीमें टॉप लेवल पर खेलें।

उन्होंने कहा, “खास तौर से बिबियानो फर्नांडेस के अंडर खेलने वाली अंडर-16 टीम काफी प्रभावी फुटबॉल खेलती है और भविष्य के लिए मुझे काफी उम्मीद देती है। उस उम्र की बात की जाए तो वे हमसे बेहतर हैं। ऐसा होना चाहिए कि थापा जैसे पांच खिलाड़ी टीम के दरवाजे पर खड़े हों और पांच उन्हें भी पीछे छोड़ने की कोशिश कर रहे हों। हम टीम में इस प्रकार की प्रतिस्पर्धा चाहते हैं।”

इंडिया के लिए छेत्री सबसे ज्यादा 115 मैच खेलने और सबसे ज्यादा 72 गोल दागने वाले प्लेयर हैं। वर्तमान समय में एक्टिव फुटबॉलर्स में वह दुनिया के दूसरे सबसे ज्यादा गोल दागने वाले खिलाड़ी हैं। छेत्री से ज्यादा गोल दागने वाले एक्टिव फुटबॉल पुर्तगाल के क्रिस्टियानो रोनाल्डो हैं।