मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 33 वर्षीय दिग्गज बार्सिलोना से अलग होने वाले हैं।

​फुटबॉल फैंस के सामने शायद इससे पहले इतना मुश्किल सवाल नहीं आया होगा। बार्सिलोना के दिग्गज फुटबॉलर लियोनल मेसी को कौन सी क्लब साइन करेगी इसका जवाब इस वक्त सभी ढूंढ रहे होंगे। चैंपियंस लीग में पिछले हफ्ते बार्सिलोना को बायर्न म्यूनिख के हाथों करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा था। इसके बाद खबरें आने लगी कि अर्जेंटीना का दिग्गज खिलाड़ी बार्सिलोना का साथ छोड़ने वाला है।

ऐसे हालात में सबके मन में यही सवाल उठ रहा है कि लियोनल मेसी जैसे महान फुटबॉलर को साइन करने की क्षमता किस क्लब के पास है। माना जा रहा है कि खिलाड़ी का बार्सिलोना के साथ कॉन्ट्रैक्ट 2021 तक रहेगा। मेसी जैसे प्लेयर को साइन करने के लिए एक क्लब को फाइनेंसियली काफी मजबूत होना पड़ेगा। आइए आपको बताते हैं कि वो कौन से 3 क्लब हैं जो लियोनल मेसी को साइन कर सकते हैं:

3. मैनचेस्टर यूनाइटेड

किसी बेहतरीन प्लेयर को साइन करने के लिए मैनचेस्टर यूनाईटेड पैसे खर्च करने में पीछे नहीं हटती है। 30 जून 2019 तक मैनचेस्टर यूनाईटेड का कुल रेवेन्यू 627.1 मिलियन पाउंड था। उस समय केवल बार्सिलोना और रियाल मैड्रिड की टीमें ही उससे आगे थीं।

मैनचेस्टेर यूनाईटेड का रेवेन्यू 2019 के दूसरे हाफ में 12 प्रतिशत तक गिर गया था क्योंकि यूएफा चैंपियंस लीग का वो हिस्सा नहीं थे। आने वाले सीजन में रेड डेविल्स की टीम यूरोप की टॉप क्लब कंपटीशन में जगह बनाने वाली है, इसलिए उनके इस नुकसान की भरपाई आसानी से हो सकती है। ऐसे में वो लियोनल मेसी जैसे प्लेयर को साइन करने के लिए बेहतर स्थिति में होंगे।

13 बार की प्रीमियर लीग चैंपियन मैनचेस्टर यूनाईटेड ने पॉल पोग्बा को 105 मिलियन यूरो में युवेंटस से साइन किया था। पिछले साल ही उन्होंने हैरी मैग्वायर को 87.1 मिलियन यूरो की ट्रांसफर फीस देकर उन्हें सबसे महंगा डिफेंडर बना दिया था। मेसी को साइन करने के लिए यूनाईटेड को इससे ज्यादा रकम चुकानी होगी लेकिन वो ऐसा करने में सक्षम हैं।

राइट विंग में अभी तक यूनाईटेड की टीम जगह भर पाने में नाकाम रही है और ऐसे में लियोनल मेसी से बेहतर विकल्प और कोई नहीं हो सकता है।

नेमार को खरीदकर पीएसजी ने फुटबॉल जगत में तहलका मचा दिया था।

2. पेरिस सेंट-जर्मेन

बेहतरीन प्लेयर्स को साइन करने के लिए पेरिस सेंट-जर्मेन भी ज्यादा पैसे खर्च करने से नहीं चूकती है। 2017 में उन्होंने नेमार को 222 मिलियन यूरो में साइन कर ट्रांसफर मार्केट का डायनेमिक्स ही पूरी तरह चेंज कर दिया था।

पीएसजी ने इसके अलावा 145 मिलियन यूरो में किलियन एम्बाप्पे को भी साइन किया था। क्लब के पास लियोनल मेसी को साइन करने की पूरी क्षमता है लेकिन देखने वाली बात ये होगी कि क्या मेसी फ्रांस मूव करना चाहते हैं या नहीं।

हालांकि, मेसी को साइन करना इस बात पर भी डिपेंड कर सकता है कि पीएसजी का परफॉर्मेंस चैंपियंस लीग के आगामी सीजन में कैसा रहता है। उनका प्रदर्शन इस लीग में ज्यादा अच्छा नहीं रहा है लेकिन 2019/20 के फाइनल में जगह बनाकर उन्होंने इस पैटर्न को तोड़ने की कोशिश की है। अगर आगामी सीजन में वो टाइटल जीतने में कामयाब रहते हैं तो फिर यूरोपियन फुटबॉल में उनका वर्चस्व बढ़ेगा और इससे दिग्गज खिलाड़ी को साइन करने में उन्हें आसानी हो सकती है।

1. मैनचेस्टर सिटी

गॉर्डियोला के अंडर शानदार रहा था मेसी और बार्सिलोना का प्रदर्शन।

पेप गॉर्डियोला के ऊपर इस वक्त काफी दबाव है क्योंकि लिवरपूल के हाथों मैनचेस्टर सिटी को प्रीमियर लीग की ट्रॉफी गंवानी पड़ी थी। चैंपियंस लीग के क्वार्टरफाइनल में भी उन्हें ल्यों के हाथों हार का सामना करना पड़ा था और एफए कप के सेमीफाइनल में आर्सेनल से शिकस्त झेलनी पड़ी थी।

क्लब को एक ऐसे प्लेयर की सख्त जरूरत है जो उसकी पहचान बन सके। पेप गॉर्डियोला के मुताबिक टीम बनाने के लिए मैनचेस्टर सिटी ने काफी पैसे खर्च किए लेकिन उनका प्रदर्शन उतना अच्छा नहीं रहा। इसलिए किसी ऐसे प्लेयर पर पैसे क्यों ना लगाया जाए जो उनकी कोचिंग में पहले खेल चुका है।

अभी तक गॉर्डियोला ने दो बार कोच के तौर पर चैंपियंस लीग का टाइटल जीता है और मेसी दोनों बार उनकी अटैक का हिस्सा थे। मैनचेस्टर सिटी कई खिलाड़ियों के लिए काफी सारे पैसे खर्च कर देती है, इसके बजाय उन्हें एक जबरदस्त क्वॉलिटी वाला प्लेयर लेना चाहिए।

अभी तक मैनचेस्टर सिटी ने केविन डी ब्रूयेन के लिए सबसे ज्यादा पैसे खर्च किए थे। 2015 में उन्होंने ब्रूयेन को 75 मिलियन यूरो में साइन किया था। हालांकि, उसके बाद से निकोलस पेपे, गोन्जालो हिग्वाइन और जाओ फेलिक्स उनसे ज्यादा महंगे साबित हो चुके हैं, इसलिए क्लब मेसी को निश्चित तौर बड़ी रकम में साइन कर सकता है।

अगर ऐसा होता है तो फिर मॉर्डन डे फुटबॉल की सबसे आइकोनिक प्लेयर-मैनेजर की जोड़ी एक साथ मैदान में दिख सकती है। खासकर ऐसे समय में जब दोनों ही शख्स अपने करियर में इस वक्त एक स्पार्क की तलाश कर रहे हैं।