इनमें से कुछ प्लेयर्स का नाम उनके क्लब के इतिहास में सुनहरे अक्षरों में दर्ज हो चुका है।

फुटबॉल ट्रांसफर विंडो इस समय ओपन है और प्लेयर्स का एक क्लब से दूसरे क्लब जाना जारी है। फुटबॉल में कई बार ऐसा होता है कि स्टारडम की वजह से एक प्लेयर को साइन करने के लिए क्लब को काफी बड़ी ट्रांसफर फीस चुकनी पड़ती है।

हमें अब तक कई सारे ट्रांसफर देखने को मिले हैं जिसमें खिलाड़ियों के ऊपर काफी पैसे खर्च किए गए। ये ट्रांसफर्स इतने महंगे थे कि इनका नाम फुटबॉल इतिहास में दर्ज हो गया। हालांकि, कई बार ऐसा भी हुआ है कि खिलाड़ी बेहद कम ट्रांसफर फीस पर दूसरी टीम में शामिल हुए हैं।

​आइए हम आपको पांच सबसे सस्ते फुटबॉल ट्रांसफर के बारे में बताते हैं:

5. एडविन वेन डर सार – 2 मिलियन पाउंड

34 साल की उम्र में एडविन वेन डर सार इंग्लिश क्लब मैनचेस्टर यूनाईटेड की टीम का हिस्सा बने थे। उन्हें सर एलेक्स फर्ग्युसन फुलहम से लेकर आए थे। डच गोलकीपर मैनचेस्टर यूनाईटेड के लिए काफी सफल रहे और 2005 से 2011 तक क्लब के लिए खेले। 2008-09 के सीजन में उन्होंने एक बड़ी उपलब्धि हासिल की थी। वह 1311 मिनट तक बिना गोल खाए सबसे ज्यादा देर तक खेलने वाले गोलकीपर बने थे।

वो 2008 में चैंपियंस लीग जीतने वाली टीम का भी हिस्सा थे, इसके अलावा उनके नाम चार प्रीमियर लीग टाइटल भी है। निश्चित तौर पर वो मैनचेस्टर यूनाइटेड इतिहास के सबसे बेस्ट गोलकीपर्स में से एक हैं।

4. टोनी क्रूस – 22.5 मिलियन पाउंड

जर्मन मिडफील्डर टोनी क्रूस को 2013 में रियल मैड्रिड ने 22.5 मिलियन पाउंड में साइन किया था। हालांकि, वो मैनचेस्टर यूनाइटेड जाना चाहते थे लेकिन ऐसा नहीं हो सका। रियाल मैड्रिड के लिए खेलते वक्त टोनी क्रूस ने लूका मॉड्रिच के साथ मिलकर मिडफील्ड में अबतक जबरदस्त प्रदर्शन किया है।

रियल मैड्रिड के साथ उन्होंने चार बार यूएफा चैंपियंस लीग का खिताब जीता है और स्पेनिश क्लब के सबसे बेहतरीन खिलाड़ियों में से एक बन चुके हैं।

3. रॉबर्ट लेवानडॉस्की – 4 मिलियन पाउंड

पोलैंड नेशनल टीम के कप्तान रॉबर्ट लेवानडॉस्की को 2010 में जर्मन क्लब बोरुसिया डॉर्टमंड ने चार मिलियन पाउंड में साइन किया था। इस क्लब के लिए उन्होंने अपनी साइनिंग के मुताबिक जबरदस्त प्रदर्शन किया और 131 मैचों में 74 गोल दागे। वो यूरोप के सबसे बेहतरीन फिनिशर्स में से एक बनकर उभरे।

2011 और 2012 में जब डॉर्टमंड ने बुंडेसलीगा का टाइटल जीता था तो उसमें लेवानडॉस्की की काफी अहम भूमिका थी। इसके अलावा अपनी टीम को 2013 चैंपियंस लीग के फाइनल में पहुंचाने में भी उनका काफी योगदान था। लेवानडॉस्की इस वक्त बायर्न म्यूनिख की टीम का हिस्सा हैं, जहां वो फ्री ट्रांसफर के जरिए गए थे।

2. हेनरिक लार्सन – 650,000 पाउंड

हेनरिक लार्सन को सेल्टिक फुटबॉल क्लब ने 1997 में 650 हजार पाउंड में फेनॉयर्ड से साइन किया था। लार्सन सात साल तक सेल्टिक की टीम का हिस्सा रहे और वहां पर फैंस ने उनका नाम “किंग्स ऑफ किंग” रख दिया था। इसके बाद 2004 में वो बार्सिलोना चले गए थे।

स्कॉटिश क्लब के लिए लार्सन ने 315 मैचों में 242 गोल किए थे और चार बार स्कॉटिश प्रीमियर लीग का टाइटल भी जीता था। इसके अलावा एक यूरोपियन गोल्डन बूट भी उनके खाते में है। 2003 में उन्हें पिछले 50 सालों का बेस्ट स्वीडिश प्लेयर चुना गया था।

1. एरिक कैंटोना – 1.2 मिलियन पाउंड

खबरों के मुताबिक एरिक कैंटोना का मैनचेस्टर यूनाईटेड में ट्रांसफर एक फोन कॉल के जरिए हुआ था। लीड्स यूनाईटेड के चेयरमैन बिल फॉथर्बी ने डेनिस इरविन की उपलब्धता के बारे में पूछने के लिए मैनचेस्टर यूनाईटेड के चेयरमैन मार्टिन एडवर्ड्स को फोन किया था। इसी फोन कॉल के दौरान एरिक कैंटोना के ट्रांसफर की बातचीत शुरु हुई थी। इस ट्रांसफर के बाद मैनचेस्टर यूनाईटेड को लीड्स फैंस के गुस्से का सामना करना पड़ा था।

कैंटोना मैनचेस्टर यूनाईटेड के लिए काफी सफल हुए। उन्होंने प्लेयर्स में विनिंग मेंटलिटी डाली और उनमें से कई खिलाड़ी आगे जाकर क्लब के लिए काफी सफल हुए। एरिक कैंटोना ने मैनचेस्टर यूनाईटेड के साथ प्रीमियर लीग के चार खिताब जीते। क्लब के इतिहास में उनका नाम सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में दर्ज है।