इस सीजन फुटबॉल फैंस को कई रोमांचक मुकाबले देखने को मिले।

साल 2020 में कई ऐसी चीजे हुईं जो हमने सोची नहीं थी। कोरोना वायरस ने न सिर्फ लोगों को घरों में कैद कर दिया बल्कि खेल की दुनिया पर भी बड़ा प्रभाव डाला। कई बड़ी लीग और खेल टूर्नामेंट रद्द या स्थगित करने पड़े और इन सब के बावजूद कुछ फुटबॉल क्लब के लिए बीता साल बेहद खास रहा।

कुछ ऐसे क्लब थे जिन्होंने फैंस, दिग्गजों और खेल के जानकारों की उम्मीद के उलट प्रदर्शन करते हुए सबको हैरान कर दिया। आज हम आपको यूरोप के कुछ ऐसे ही अंडरडॉग क्लब के बारे में बताने जा रहे हैं:

लेस्टर सिटी

प्रीमियर लीग में इस साल एवर्टन, स्पर्स, लेस्टर सिटी और साउथैंप्टन जैसी टीमों ने दिखाया है कि उनमें जीत हासिल करने की क्षमता है। अंकतालिका में टॉप पर बैठी लिवरपूल और तीसरे स्थान पर मौजूद ब्रेंडन रोजर्स और लेस्टर सिटी के बीच एक ही अंको का फासला है। क्रिसमस ब्रेक से पहले उन्होंने टोटेनहम हॉट्स्पर्स को मात दी और उनका अबतक का सीजन शानदार रहा है। जेमी वार्डी का इमें खास योगदान रहा है जिन्हें जेम्स मेडीन्सन, हार्वी बान्स, वेसली फोफाना और विलफ्रेड नगीदी जैसे युवाओं का अच्छा साथ मिला है। टीम के यह मुश्किल भी रहा क्योंकि स्टार डिफेंडर केगलर सुएंचू, फुलबैक टिमथी कैसटेगन और रिकॉर्डो पेरेरा जैसे खिलाड़ी चोट के कारण सीजन से बाहर हो गए थे। इनकी जगह क्लब की अकेडमी से ग्रेजुएट हुई खिलाड़ियों को मौका दिया जिन्होंने पूरा दम दिखाया।

टीम के लिए आगे की राह मुश्किल होने वाली है क्योंकि अब उनके मुकाबले टॉप टीमों से है। उन्हें चेल्सी और एर्वटन जैसे क्लब के खिलाफ खेलना है। टीम के स्टार खिलाड़ी वार्डी अब तक भले ही 11 गोल कर चुके हों लेकिन उन्हें टीम के खिलाड़ियों का समर्थन चाहिए होगा।

एटलेटिको मैड्रिड

एटलेटिको मैड्रिड को यूं तो अंडरडॉग नहीं कहा जा सकता लेकिन जब आप एफसी बार्सिलोना और रियाल मेड्रिड के खिलाफ उसकी जीत की बात करते हैं तो वह जरूर इस तमगे को सही साबित करती है। टीम फिलहाल ला लिगा में टॉप स्थान है और उनकी यह उपलब्धि बताती है कि काफी कुछ करने की क्षमता रखते हैं। टीम ने ला-लीगा में शानदार शुरुआत की है और 13 मैचों में उन्होंने पांच गोल किए हैं। टीम का डिफेंस पहले से ही काफी मजबूत था लेकिन उन्होंने जोआओ फेलिक्स और लुईस सुआरेज के आने के बाद टीम के कोच ने डिफेंस के लिए अलग रणनीति का इस्तेमाल किया है। सवाल यह है कि क्या यह टीम ला-लीगा की 2013-14 सीजन का इतिहास फिर से रच सकेगा। टीम अगर इसी तरह मजबूत डिफेंस और बेहतर संयोजन के साथ खेलती है तो वह बेशक ऐसा करने में कामयाब रहेगी।

बायर लेवरकुसेन

बायर लेवरकुसेन के लिए इस बुंडेसलीगा में यह सीजन शानदार रहा है। बायर्न म्यूनिख के खिलाफ मुकाबले से पहले वह पूरे सीजन में अजेय थे। पीटर बोस्ज के रहते हुए इस टीम ने शानदार प्रदर्शन किया है। टीम ने इसी सीजन के लिए पैट्रिक स्किक को साइन किया था जो क्लब के लिए शानदार साबित हुए, उन्होंने मुसा डायबी, लुकास अलारियो और लियोन बेली के साथ मिलकर टीम के लिए शानदार प्रदर्शन किया है। टीम में कई युवा खिलाड़ी हैं जिनके साथ क्लब काफी अटैकिंग फुटबॉल खेल रहा हैं। कोच बोस्ज ने टीम के लिए सही संयोजन हासिल कर लिया है और अब उन्हें बस कोशिश करनी है कि वह अपनी टीम को पूरे सीजन में इसी तरह प्रदर्शन के लिए प्रेरित करते रहे। यह क्लब बुंडेसलीगा में फिलहाल तीसरे स्थान पर है।

क्लब की कोशिश होगी कि वह लीग में टॉप चार में रहे और अगले सीजन के चैंपियस लीग के लिए क्वालिफाई करे। पिछले साल वह चैंपियंस लीग के लिए क्वालिफाई करने से केवल दो अंको से चूक गए थे और पांचवें स्थान पर रहे थे लेकिन इस बार उन्होंने अपने अटैकिंग फुटबॉल से शुरुआत से प्रभाव बनाए रखा है।

लिल

पिछले सीजन में लिल की टीम फ्रांस के लीग-1 में 17वें स्थान पर रही थी। हालांकि, इसके बाद क्रिस्टोफर गैलटायर्स क्लब से जुड़े और चीजे पूरी तरह बदल गई। पीएसजी और ओलिंपिक ल्यों जैसी टीमों के सामने उन्हें अंडरडॉग ही माना जाता है और कोई सोच भी नहीं सकता था कि यह टीम चैंपियंस लीग के लिए क्वालिफाई करेगी या फिर पीएसजी को टक्कर देगी। हालांकि, इस टीम ने सबको हैरान करते हुए लीग में 2018-19 के सीजन में दूसरे स्थान हासिल किया। इसी आत्मविश्वास के साथ पिछला सीजन उन्होंने चौथे स्थान पर रहते हुए खत्म किया था जो कि कोरोना वायरस के कारण अचानक ही खत्म हो गया था।

जबसे गैलटायर टीम के साथ जुड़े हैं उन्होंने टीम के खेलने के स्टाइल से लेकर ट्रांसफर डीलिंग तक हर चीज में बहुत इंटेट दिखाया है। टीम के अनुभवी खिलाड़ियों के साथ वह कई युवाओं को भी लेकर आए और जोसे फोन्ट एवं बुराक येलमैज जैसे खिलाड़ी पुराने फॉर्म में वापस आए जिन्होंने सवेन बोटमैन, जोनाथम डेविड और सोमारे जैसे युवाओं को भी गाइड करने का काम किया। टीम का स्काउंटिंग नेटवर्क यूरोप से सबसे शानदार माना जाता है और इस टीम ने फ्रेंड रिबेरी और इडन हार्जाड जैसे खिलाड़ी दुनिया को दिए हैं। टीम अपने इस बदले हुए अंदाज के साथ पीएसजी और मार्शिले को मात देकर लीग जीतने का दम भी रखती है।

एसी मिलान

फैंस शायद सात बार की चैंपियंस लीग विजेता को अंडरडॉग नहीं मानेंगे लेकिन पिछले दशक में जिस तरह टीम ने सेरी ए में प्रदर्शन किया उसके बाद बहुत कम ही ऐसे फैंस होंगे जिन्हें लगा होगा कि टीम इस लीग में टॉप स्थान पर पहुंच जाएगी। स्टेफानो पिओली के खिलाड़ियों ने मैदान पर जीत की जज्बा दिखाया और थियो हेर्नान्डेज, सैंड्रो टोनाली, इस्माइल बेनाकर और जैसे युवाओं ने इस सीजन में शानदार खेल दिखाया है, वहीं टीम के अनुभवी खिलाड़ी भी नए रंग में दिखे हैं।

क्लब पिछले सीजन में सातवें स्थान पर रही थी और तब सबको लगा था कि यह क्लब बास मेडियोकर ही बन कर रह जाएगा। हालांकि, पिरा पिओली टीम में आए और उन्होंने टीम को वह जीत दिलाई जिसका वह लंबे समय से इंतजार कर रहे थे। टीम में इब्राहिमोविच के आने के बाद से टीम में काफी बदलाव आया।

स्टार खिलाड़ी ने अपने प्रदर्शन के साथ-साथ युवाओं के साथ ड्रेसिंग रूम में अपना अनुभव भी बांटा। इस सीजन में युवेंट्स संर्घष करती दिख रही है ऐसे में एसी मिलान के सामने सबसे बड़ी चुनौती इंटर मिलान की होगी। इंटर मिलान की टीम इस किसी भी यूरोपियन चैंपियनशिप में नहीं खेलने वाली हैं ऐसे में उनका पूरा ध्यान सेरी-ए पर ही लेकिन एसी मिलान के कोच को लगता है कि वह इस बार 2010-11 का इतिहास दोहराएंगे और जीत हासिल करेंगे।