इंडियन एरोज से खेल चुके आकाश मिश्रा और रोहित दानू ने भी आगामी सीजन को लेकर अपनी राय रखी।

इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के 2020-21 सीजन का आगाज होने वाला है। ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन (एआईएफएफ) की डेवलपमेंट साइड इंडियन एरोज के लेटेस्ट बैच से निकले कई युवा खिलाड़ी भी आगामी सीजन में खेलने वाले हैं। 20 नवंबर को लीग का आगाज होगा और सभी युवा खिलाड़ी तैयारियों में जुटे हुए हैं। इन्हीं में से एक हैं विक्रम प्रताप सिंह जिन्होंने आई-लीग में इंडियन एरोज के लिए 27 मुकाबले खेले हैं।

आई-लीग में अबतक विक्रम प्रताप सिंह ने कुल पांच गोल किए हैं, जिसमें से चार गोल तो उन्होंने 2019-20 सीजन में ही किए थे। इस बार आईएसएल में वो मुंबई सिटी एफसी की टीम का हिस्सा होंगे। 18 वर्षीय खिलाड़ी का कहना है कि एरोज के लिए उन्होंने जिस तरह का प्रदर्शन किया था उससे उनका कॉन्फिडेंस काफी हाई है और इससे उन्हें आने वाले सीजन में भी फायदा होगा।

एएफसी अंडर-16 चैंपियनशिप में इंडियन टीम की तरफ से खेल चुके विक्रम प्रताप सिंह ने कहा, “नए सीजन के लिए तैयारियां काफी जोरों से चल रही हैं। मेरे ऊपर थोड़ा दबाव जरुर है लेकिन मैं काफी ज्यादा उत्साहित भी हूं। पिछले साल इंडियन एरोज की तरफ से जिस तरह का प्रदर्शन मैंने किया था उससे मुझे अपने ऊपर काफी भरोसा हो गया है। हालांकि मुझे पता है कि आईएसएल एक अलग तरह की लीग है लेकिन मैं आगामी सीजन में ज्यादा से ज्यादा गोल करना चाहता हूं।”

उनके मुताबिक एरोज की टीम पोजेशन बेस्ड फुटबॉल खेलती है। इसी वजह से अपनी नई टीम मुंबई सिटी एफसी के साथ वो काफी ज्यादा कंफर्टेबल महसूस कर रहे हैं। मुंबई के हेड कोच सर्जियो लोबेरा भी उसी तरह की टेक्निक अपना रहे हैं।

विक्रम प्रताप सिंह ने कहा, “पिछले साल हमारे हेड कोच वेंकी सर ने बॉल को अपने पास ज्यादा से ज्यादा देर तक रखकर पोजेशन फुटबॉल खेलने पर जोर दिया था। मेरे नए क्लब में भी उसी तरह की रणनीति अपनाई जा रही है और इसी वजह से मुझे इस नए क्लब में ज्यादा दिक्कत नहीं हुई।”

एक और युवा टैलेंट जिसके ऊपर इस सीजन सबकी निगाहें होंगी वो हैं 18 साल के युवा डिफेंडर आकाश मिश्रा। उन्होंने इंडियन एरोज के लिए दो सीजन में अभी तक कुल 23 मुकाबले खेले हैं। वो लेफ्ट बैक और सेंट्रल डिफेंस में खेल सकते हैं और इस सीजन हैदराबाद एफसी की टीम का हिस्सा हैं।

आकाश ने कहा, “नए क्लब को लेकर मैं काफी उत्साहित हूं और अपना बेस्ट देना चाहता हूं। हमारी टीम में भारतीय और विदेशी कई जबरदस्त खिलाड़ी हैं। हालांकि ये मेरा पहला आईएसएल सीजन होगा लेकिन जिस तरह से मैंने इंडियन एरोज के लिए खेला था और वहां पर मुझे जो कुछ सीखने का मौका मिला उसकी वजह से मुझे यहां पर ज्यादा दिक्कत नहीं होगी। अगर मैंने अपना वही फॉर्म बरकरार रखा तो फिर नई चुनौती का सामना काफी अच्छी तरीके से कर सकता हूं।”

फारवर्ड रोहित दानू भी इंडियन एरोज से निकले एक और बेहतरीन युवा खिलाड़ी हैं जो हैदराबाद की तरफ से खेलते हुए नजर आएंगे। उन्होंने एरोज के लिए आई-लीग में दो सीजन मिलाकर कुल 21 मुकाबले खेले हैं और उनके नाम लीग के इतिहास में सबसे कम उम्र में गोल करने का रिकॉर्ड है। आकाश ने सिर्फ 16 साल, 5 महीने और 27 दिन की उम्र में ही गोल कर दिया था।

इस बारे में रोहित ने कहा, “इतनी कम उम्र में इस तरह का बड़ा रिकॉर्ड बनाना काफी बड़ी बात है। मैं इसे एक मोटिवेशन की तरह लेकर अपनी टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन करना चाहता हूं। आगामी आईएसएल सीजन में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए मैं पूरी कोशिश करुंगा। मैं अपनी टीम के लिए मुकाबले जीतना चाहता हूं।”