20 वर्षीय नवीन वर्ष 2000 में होकर लीग में खेलने वाले पहले रेडर हैं।

प्रो कबड्डी लीग के सातवें सीजन में दबंग दिल्ली के लिए अदभुत प्रदर्शन करने वाले नवीन कुमार ने खूब सराहना हासिल की थी। निरंतरता के साथ सुपर टेन हासिल करना उन्हें फैंस का फेवरेट खिलाड़ी बनाता है और यह उपलब्धि हासिल करना हर रेडर के लिए गर्व की बात होती है।

पिछले सीजन खेले 23 मैचों में नवीन कुमार ने 22 सुपर टेन हासिल किया था। इसका मतलब है कि पिछले सीजन खेले लगभग हर मैच में उन्होंने दस या उससे ज़्यादा प्वाइंट्स हासिल किए थे। वह लीग में सबसे ज़्यादा सफल रेड करने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट में तीसरे नंबर पर थे। उन्होंने कुल 303 प्वाइंट्स हासिल किए और उनसे ज़्यादा प्वाइंट्स केवल पवन सहरावत और प्रदीप नरवाल ही हासिल कर सके थे।

प्रो कबड्डी की ऑफिशियल वेबसाइट के साथ बातचीत के दौरान नवीन कुमार ने बताया कि उनके खेल में क्या स्पेशल है जिसके कारण वह पिछले सीजन इतने सफल रहे थे। उन्होंने कहा, “मेरे ख्याल से अपनी टेक्नीक के कारण मैं सबसे अलग हूं। कोच ने मुझे पहले ही बताया था कि मेरा रिएक्शन टाइम काफी तेज है। मैं जितना तेज होता जाउंगा उतनी ही ज्यादा मेरी स्किल बढ़ती जाएगी और मेरा रिएक्शन टाइम जितना सही होगा मुझे रोक पाना उतना ही मुश्किल हो जाएगा।”

एक सफल एथलीट को अपने प्रदर्शन में निरंतरता बनाए रखनी होती है और उसके प्रदर्शन पर जीत या हार का फर्क नहीं पड़ना चाहिए। नवीन कुमार इन सभी चीजों पर अपनी पकड़ बना चुके हैं।

उन्होंने कहा, “मैंने कभी हर मैच में सुपर टेन लगाने का लक्ष्य नहीं रखा। मैंने टीम के लिए अपना बेस्ट करने की कोशिश की। यू मुंबा के खिलाफ मैच के दिन तक मुझे यह नहीं पता था कि मैं लगातार आठ सुपर टेन लगाने का प्रदीप नरवाल का रिकॉर्ड तोड़ने की कगार पर हूं।”

नवीन कुमार की बात पर गौर करें तो यू मुंबा के खिलाफ उस मैच में नवीन ने प्रदीप के रिकॉर्ड की बराबरी की थी। उन्होंने पिछला सीजन शुरु होते ही दमदार प्रदर्शन शुरु कर दिया था और उनकी टीम लीग स्टेज की समाप्ति पर प्वाइंट टेबल में टॉप पर थी। युवा रेडर ने अपने कप्तान जोंगिदर नरवाल और कोच कृष्ण कुमार हूडा की जमकर तारीफ की और कहा कि पिछले सीजन उन्होंने उनका खूब सपोर्ट किया था।

नवीन कुमार ने कहा, “जोंगिदर मैट पर हमेशा शांत रहने वाले खिलाड़ी हैं। उन्होंने मुझे हमेशा अच्छा करने के लिए बैक किया है। हर परिस्थिति में वह मुझे बैक करते हैं। मेरे लिए वह मोटिवेशन का सबसे मजबूत सोर्स हैं।”

बातचीत खत्म करते हुए उन्होंने कहा, “ट्रेनिंग कैंप के दौरान कोच लगातार मुझे सुधार करने के लिए पुश कर रहे थे। मेरे खेल की कमियों पर उन्होंने मुझसे लंबी बातचीत की और सीजन शुरु होने से पहले उन्हें खत्म किया। वह चीजों को बेहतरीन तरीके से देखते हैं और छोटी-छोटी चीज पर भी ध्यान देते हैं।”