“डुबकी किंग” एक बार फिर कई टीमों की पहली पसंद हो सकते हैं।

परदीप नरवाल प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के सबसे बड़े सुपरस्टार हैं। इस दिग्गज खिलाड़ी ने पीकेएल के कई बड़े रिकॉर्ड अपने नाम किए हैं। सबसे ज्याद रेड प्वॉइंट से लेकर कई ऐसे रिकॉर्ड हैं जो परदीप नरवाल के नाम हैं। डुबकी किंग के नाम से मशहूर परदीप नरवाल ने पीकेएल इतिहास में 1100 से ज्यादा पॉइंट्स हासिल किए हैं। पटना पाइरेट्स को उन्होंने तीन बार पीकेएल का टाइटल जिताया। यही वजह है कि वो पीकेएल के एक बहुत बड़े ब्रांड बन गए हैं और इस लीग को सफल बनाने में उनका काफी बड़ा योगदान है।

“डुबकी किंग” पिछले पीकेएल सीजन यूपी योद्धा की टीम का हिस्सा थे। हालांकि यहां पर उनका परफॉर्मेंस वैसा नहीं रहा जिसके लिए वो जाने जाते हैं। वो कुल मिलाकर 24 मैचों में 188 प्वॉइंट ही हासिल कर पाए। जबकि उनसे 300 से भी ज्यादा प्वॉइंट्स की उम्मीद की जाती है। सीजन 8 के ऑक्शन के दौरान यूपी योद्धा ने परदीप नरवाल को एक करोड़ 65 लाख की रकम में खरीदा था और वो पीकेएल इतिहास के सबसे महंगे प्लेयर बने थे।

यूपी योद्धा की टीम शायद ही आगामी सीजन के लिए उन्हें रिटेन करे। ऐसे में कुछ और टीमें हैं जो पीकेएल ऑक्शन के दौरान परदीप नरवाल के लिए बड़ा दांव लगा सकती हैं। हम आपको बताते हैं कि वो कौन-कौन सी टीमें हैं और क्यों वो परदीप नरवाल को अपनी टीम में शामिल करना चाहेंगी।

3. गुजरात जायंट्स

गुजरात जायंट्स की टीम पीकेएल में अपने डिफेंस के लिए जानी जाती है। सीजन -8 में टीम के पास गिरीश एर्नाक, रविंदर पहल, सुनील कुमार और प्रवेश भैंसवाल जैसे एक से बढ़कर एक कई दिग्गज डिफेंडर थे। हालांकि टीम को रेडिंग डिपार्टमेंट में जरूर एक बड़े प्लेयर की कमी खली। देखा जाए तो एच एस राकेश, राकेश, अजय कुमार और प्रदीप कुमार टीम का हिस्सा थे लेकिन इनमें से कोई भी प्लेयर ऐसा नहीं है जो अकेले दम पर मैच का पासा पलट सके।

ऐसे में गुजरात जायंट्स की टीम परदीप नरवाल को जरूर ऑक्शन के दौरान खरीदना चाहेगी। कोच मनप्रीत सिंह परदीप के गेम को काफी बेहतरीन तरीके से समझते हैं और उन्हें पता है कि वो किस तरह से परदीप का फायदा उठा सकते हैं। ऐसे में अगर परदीप नरवाल गुजरात जायंट्स की टीम में जाते हैं तो उनके परफॉर्मेंस के लिए भी ये काफी बेहतरीन मूव हो सकता है।

2. पटना पाइरेट्स

परदीप नरवाल पटना पाइरेट्स की पहचान थे। वो उनकी टीम के सबसे बड़े चेहरे थे। टीम ने तीन सीजन टाइटल अपने नाम किया और इसमें परदीप नरवाल का योगदान काफी ज्यादा बड़ा था। आठवें सीजन से पहले परदीप नरवाल ने ऑक्शन में जाने का फैसला किया, जिसके बाद वो यूपी योद्धा की टीम का हिस्सा बने। हालांकि यूपी की टीम में जाने के बाद परदीप का परफॉर्मेंस वैसा नहीं रहा। कई मुकाबलों में वो संघर्ष करते नजर आए और उनकी स्पीड वैसी नहीं रही। इसी वजह से वो अपना सिग्नेचर मूव ‘डुबकी’ भी नहीं लगा सके।

यूपी योद्धा की तरफ से असफल होने के बाद परदीप नरवाल एक बार फिर पटना पाइरेट्स की टीम में जा सकते हैं। कोच राम मेहर सिंह को पता है कि परदीप नरवाल की स्ट्रेंथ और वीकनेस क्या है। परदीप को इतना बड़ा प्लेयर बनाने में उनका काफी अहम रोल है। ऐसे में वो एक बार फिर अपने पुराने शिष्य पर ऑक्शन में दांव लगा सकते हैं। क्या पता पटना पाइरेट्स में वापसी के बाद हमें एक बार फिर से पुराना परदीप नरवाल देखने को मिल जाए।

1. तेलुगु टाइटंस

पीकेएल में अगर किसी भी टीम को एक बड़े स्टार रेडर की जरूरत है तो वो तेलुगु टाइटंस की टीम है। तेलुगु के पास आठवें सीजन में सिद्धार्थ देसाई के रूप में एक बड़ा रेडर मौजूद था लेकिन इंजरी की वजह से वो टूर्नामेंट के शुरूआती फेज में ही बाहर हो गए। उनके बाहर होने का झटका टीम को ऐसा लगा कि वो फिर दोबारा उबर ही नहीं पाई और अंक तालिका में सबसे निचले पायदान पर रही। सिद्धार्थ देसाई एक बेहतरीन रेडर जरूर हैं लेकिन उनके साथ इंजरी की संभावना हमेशा बनी रहती है।

ऐसे में तेलुगु टाइटंस आगामी सीजन के ऑक्शन के दौरान परदीप नरवाल पर दांव लगा सकती है। इससे उन्हें दो फायदे होंगे। पहला ये कि उन्हें एक बेहतरीन रेडर तो मिलेगा ही साथ में परदीप के रूप में एक बड़ा चेहरा भी मिल जाएगा। इससे उनकी फैन फॉलोइंग पर भी बड़ा असर पड़ सकता है।