दोनों ही टीमों का परफॉर्मेंस अभी तक बिल्कुल एक जैसा रहा है।

प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) में शनिवार को 59वां मुकाबला सातवें सीजन की चैंपियन बंगाल वॉरियर्स और दो बार फाइनल खेल चुकी गुजरात जायंट्स के बीच खेला जाएगा। दोनों ही टीमों पर अगर नजर डालें तो इनकी स्थिति लगभग एक जैसी ही रही है। बंगाल वॉरियर्स ने अभी तक टूर्नामेंट में कुल 9 मैच खेले हैं और जिसमें से चार मैच जीते हैं और चार हारे हैं। वहीं एक मुकाबला दोनों टीमों के बीच टाई पर समाप्त हुआ है। वहीं गुजरात जायंट्स का भी आंकड़ा यही है।

उन्होंने भी कुल 9 मैच खेले हैं और जिसमें से चार मैच जीते हैं और चार हारे हैं। गुजरात जायंट्स प्वॉइंट्स टेबल में सातवें और बंगाल वॉरियर्स आठवें पायदान पर है। इस मुकाबले से पहले आइए जानते हैं कि दोनों टीमों का कॉम्बिनेशन क्या है और क्या कहते हैं आंकड़े ?

स्क्वाड

गुजरात जायंट्स

राम मेहर सिंह की अगुवाई वाली गुजरात जायंट्स किसी मैच में तो काफी अच्छा कर रही है तो किसी मैच में काफी खराब खेल दिखा रही है। टीम ने तेलुगु टाइंटस के खिलाफ बेहतरीन जीत हासिल की थी लेकिन पटना पाइरेट्स के खिलाफ उन्हें हार का सामना करना पड़ा। टीम के मेन रेडर राकेश उस तरह से परफॉर्म नहीं कर पा रहे हैं। हालांकि प्रतीक दहिया के रूप में उन्हें एक बेहतरीन ऑलराउंडर मिला है।

पिछले दो मैचों से उन्होंने दिखाया है कि वो टीम के एक मैच विनर प्लेयर बन सकते हैं। चौंकाने वाली बात ये है कि बलदेव सिंह जैसे डिफेंडर को लगातार मौका नहीं मिल रहा है। वो काफी अहम प्लेयर साबित हो सकते हैं। गुजरात को अपने डिफेंस और रेडिंग दोनों पर ही ध्यान देने की जरूरत है। टीम ऐसा लग रहा है कि अपना प्लेइंग सेवन सेट नहीं कर पा रही है। किसी मैच में कप्तान प्रशांत कुमार खेलते हैं तो किसी मैच में नहीं खेलते हैं। उनका फॉर्म में ना होना भी एक बड़ा झटका है।

गुजरात जायंट्स की संभावित स्टार्टिंग सेवन

राकेश, सौरव गूलिया, अरकाम शेख, प्रतीक दहिया, महेंद्र राजपूत, शंकर गदई और रिंकू नरवाल।

बंगाल वॉरियर्स

बंगाल वॉरियर्स की दिक्कत ये है कि वो अपने कप्तान मनिंदर सिंह के ऊपर काफी ज्यादा डिपेंड कर रहे हैं। तमिल थलाइवाज के खिलाफ उन्होंने अकेले 19 प्वॉइंट्स हासिल किए थे और टीम को हारने से बचाया था। अगर वो इतनी बेहतरीन रेडिंग ना करते तो फिर बंगाल वॉरियर्स का हारना तय था। बंगाल की टीम को अपने डिफेंस पर ध्यान देने की जरूरत है। इसकी वजह ये है कि डिफेंस में टीम से काफी गलतियां हो रही हैं। इसीलिए मनिंदर सिंह के लगातार प्वॉइंट्स लाने के बावजूद टीम हार जाती है। बंगाल को अपनी इस कमजोरी पर ध्यान देना होगा।

बंगाल वॉरियर्स की संभावित स्टार्टिंग सेवन –

मनिंदर सिंह, वैभव गरजे, डी बालाजी, दीपक हूडा, श्रीकांत जाधव, शुभम शिंदे और गिरीश एर्नाक।

दोनों टीमों के बीच हेड टू हेड आंकड़े

गुजरात जायंट्स और बंगाल वॉरियर्स के बीच अभी तक पीकेएल में कुल मिलाकर सात मैच खेले गए हैं। इन सात मैचों में से बंगाल वॉरियर्स ने दो मुकाबले जीते हैं और गुजरात जायंट्स ने तीन मैचों में जीत हासिल की है। वहीं दो मुकाबले टाई पर समाप्त हुए हैं।

इन खिलाड़ियों पर होंगी निगाहें

गुजरात की टीम एक बार फिर प्रतीक दहिया से बेहतरीन ऑलराउंड प्रदर्शन की उम्मीद करेगी। पिछले कुछ मैचों से उन्होंने काफी अच्छा प्रदर्शन किया है। इसके अलावा टीम के मेन रेडर राकेश के ऊपर भी सबकी निगाहें होंगी। वहीं बंगाल वॉरियर्स को सबसे ज्यादा उम्मीद अपने कप्तान मनिंदर सिंह से ही होगी। इसके अलावा दीपक हूडा पर भी निगाहें होंगी जिन्होंने तमिल थलाइवाज के खिलाफ 11 प्वॉइंट लिए थे।

सफलता का मंत्र

बंगाल वॉरियर्स को अगर जीत हासिल करनी है तो फिर उनके डिफेंस का चलना काफी जरूरी होगा। गिरीश एर्नाक को एडवांस टैकल करने से बचना चाहिए। कई बार उन्होंने इसी चक्कर में प्वॉइंट्स गंवाए हैं। वहीं गुजरात जायंट्स को जरूरत होगी कि वो बंगाल के कप्तान मनिंदर सिंह को रोककर रखें और जब टैकल के लिए जाएं तो सारे खिलाड़ी मिलकर उन्हें टैकल करें। मनिंदर सिंह को जब झुंड में टैकल किया जाता है तभी वो टैकल सफल होता है। अगर मनिंदर सिंह को टीम रोक ले गई तो उनके जीत का दरवाजा खुल सकता है।

फैंटेसी के लिए टीम

रेडर्स – एच एस राकेश (गुजरात जायंट्स) और मनिंदर सिंह (बंगाल वॉरियर्स)।

ऑलराउंडर्स – प्रतीक दहिया (गुजरात जायंट्स) और दीपक हूडा (बंगाल वॉरियर्स)।

डिफेंस – रिंकू नरवाल (गुजरात जायंट्स), सौरव गूलिया (गुजरात जायंट्स) और शुभम शिंदे (बंगाल वॉरियर्स)।

क्या आप जानते हैं ?

बंगाल वॉरियर्स के कप्तान मनिंदर सिंह प्रो कबड्डी लीग के इतिहास में एक हजार से ज्यादा रेड प्वॉइंट्स हासिल कर चुके हैं। उन्होंने अपने 1000 रेड प्वॉइंट्स इसी सीजन पूरे किए हैं।

गुजरात जायंट्स और बंगाल वॉरियर्स के बीच मैच आप कहां देख सकते हैं ?

दोनों टीमों के बीच आप ये मुकाबला टीवी पर स्टार स्पोर्ट्स नेटवर्क पर देख सकते हैं। इसके अलावा हॉटस्टार पर भी मुकाबलों का प्रसारण होगा।

For more updates, follow Khel Now Kabaddi on FacebookTwitterInstagram and join our community on Telegram.