टीमों ने कई खिलाड़ियों के बड़ी बोली लगाई।

भले ही प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) में रेडर्स को ज्यादा अहमियत मिलती हो लेकिन बिना डिफेंडर्स के इस खेल के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता। पीकेएल के इतिहास में ऐसे कई डिफेंडर्स रहे हैं जिन्होंने स्टार रेडर्स को चित्त कर दिया और अपनी एक अलग पहचान बनाई।

हर टीम की जीत में रेडर्स का अहम रोल रहता है यही कारण है की सीजन 8 के ऑक्शन में भी टीमों ने डिफेंडर्स पर जमकर पैसा बहाया। प्रो कबड्डी लीग के आठवें सीजन के लिए खिलाड़ियों की नीलामी 29 अगस्त से 31 अगस्त तक मुंबई में हुई थी। ऑक्शन में दिग्गज पीओ सुरजीत सिंह सबसे कामयाब डिफेंडर साबित हुए जो सबसे महंगे बिके।

चलिए देखते हैं की ऑक्शन में सबसे महंगे बिकने वाले टॉप-5 रेडर्स कौन से रहे:

5. संदीप कंडोला – 59. 50 लाख रुपए (तेलुगु टाइटंस)

प्रो कबड्डी लीग का दूसरा सीजन संदीप कंडोला के लिए काफी खास था। उन्होंने तेलुगु टाइटंस के लिए 16 मैचों में 59 टैकल पॉइंट हासिल किए थे। वह नियमित तौक पर टीम का हिस्सा रहे और अपने अग्रेसिव टेकल के लिए जाने जाते हैं। उनका सकसेसफुल टैकल एवरेज 3.43 पर मैच का है। एंकल होल्ड उनके प्रमुख मूव्ज में शामिल है। वह दबाव की स्थिति में घबराते नहीं है और यही उनकी सबसे बड़ी ताकत है। इसी वजह से संदीप को तेलुगु टाइटंस ने 59.50 लाख रुपए में अपनी टीम से जोड़ा है।

4. बलदेव सिंह – 60 लाख रुपए (पुणेरी पल्टन)

हिमाचल के रहने वाले बलदेव सिंह ने प्रो कबड्डी लीग के छठे सीजन में डेब्यू किया था। हालांकि वह इसके अगले सीजन में पहली बार सुर्खियों में आए। उन्हें बंगाल ने सातवें सीजन के लिए फिर से साइन किया और उस सीजन उन्होंने 66 टैकल अंक हासिल किए। पीकेएल के आठवें सीजन के ऑक्शन में उन्हें पुणेरी पल्टन ने 60 लाख रुपए में खरीदा।

वह डिफेंडर्स को रोकने और अपने चेन टैकल के लिए फेमस हैं। पुणेरी पल्टन को आगामी सीजन में उनसे दमदार प्रदर्शन की उम्मीद होगी।

3. विशाल भारद्वाज – 60 लाख रुपए (पुणेरी पल्टन)

पुणेरी पल्टन ने इस बार ऑक्शन में अपने डिफेंस को मजबूत करने पर काफी पैसा खर्च किया। बलदेव सिंह के अलावा उन्होंने विशाल भारद्वाज को भी साइन किया। विशाल लीग के सबसे कामयाब डिफेंडर्स में शामिल हैं। उनकी ताकत उनका हथियार है जिस वजह से उनके हाफ में रेडर का घुसना आसान नहीं था। प्रो कबड्डी लीग का पांचवां सीजन उनके लिए काफी खास रहा जहां 71 टैकल पॉइंट के साथ सीजन के तीसरे सबसे कामयाब डिफेंडर रहे।

पांचवें सीजन में उन्होंने औसतन हर मैच में 3.09 टैकल पॉइंट्स हासिल किए। इसी सीजन में उन्होंने पांच हाई फाइव भी लिए थे। उन्होंने छठे सीजन में महज 21 साल की उम्र टीम की कप्तानी की। सातवें सीजन में उनका अच्छा फॉर्म जारी रहा और उन्होंने 62 टैकल पॉइंट्स हासिल किए। वह यही फॉर्म पुणेरी पल्टन के साथ जारी रखना चाहेंगे।

2. रविंद्र पहल – 74 लाख रुपए (गुजराय जायंट्स)

‘द हॉक’ के नाम से पहचाने जाने वाले रविंद्र पहल लीग में सबसे मजबूत राइट कॉर्नर डिफेंडर हैं। 28 साल का यह खिलाड़ी लीग में सबसे ज्यादा टैकल पॉइंट्स हासिल करने के मामले में दूसरे स्थान पर है। रविंद्र ने प्रो कबड्डी लीग के सभी सीजन में हिस्सा लिया है। वह करियर के शुरुआत से शानदार फॉर्म में रहे है। ऑक्शन में उनके लिए पुणेरी पल्टन और गुजरात जायंट्स के बीच बोली की लड़ाई की। गुजरांत ने उन्हें 74 लाख रुपए में खरीदा है।

1. पीओ सुरजीत सिंह – 75 लाख रुपए (तमिल तलाइवाज)

सुरजीत सिंह लीग के सबसे बेहतरीन डिफेंडर्स में शामिल है। उन्होंने पुणेरी पल्टन के साथ करियर की शुरुआत की थी। वह राइट कवर पॉजिशन में खेला करते हैं। सुरजीत बलॉकिंग और खिलाड़ियों को पटकने के लिए जाने जाते हैं। वह बोनस पॉइंट के लिए टीम के हाफ में अंदर तक आने वाले खिलाड़ियों को रोकने में भी माहिर हैं।

31 साल का यह खिलाड़ी अंक हासिल करने का हर मौका भुनाने की कोशिश करता है। पिछले सीजन में उन्होंने 66 टैकल पॉइंट्स हासिल किए। ऑक्शन में कई टीमों ने उनमें दिलचस्पी दिखाई दी। हालांकि उन्हें तमिल तलाइवाज ने 75 लाख रुपए में अपनी टीम के साथ जोड़ा।