पुनेरी पलटन के कोच ने अपनी टीम के खिलाड़ियों की भी तारीफ की।

भारत के पूर्व कप्तान और प्रो कबड्डी लीग में पुनेरी पलटन के हेड कोच अनूप कुमार ने बेंगलुरु बुल्स के स्टार खिलाड़ी ‘हाई-फ्लायर’ पवन सहरावत की तारीफ करते हुए उन्हें लीग के टॉप रेडर्स में से एक बताया है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा की पवन सहरावत को रोकना नामुमकिन नहीं हैं और सही स्ट्रेटजी के साथ उन्हें रोका जा सकता है।

अनूप कुमार के टीम ने शनिवार को खेले गए मैच में पवन सहरावत के अगुवाई वाली बेंगलुरु बुल्स को 37-35 से मात दी। मैच के बाद पुनेरी पलटन के हेड कोच ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में पवन सहरावत को पॉइंट्स ना देने की स्ट्रेटजी पर बात किया। पूर्व पीकेएल चैंपियन ने बताया की उन्होंने पवन सहरावत को रोकने के लिए जो योजनाएं बनाई थी और टीम ने उसपर अमल करते हुए अच्छा खेल दिखाया।

उन्होंने कहा कि उनकी टीम ने पवन के स्ट्रांग पॉइंट पर वार करते हुए उन्हें रेड में ज्यादा पॉइंट्स ले जाने से रोका। अनूप कुमार ने कहा, “पवन एक बड़ा और अच्छा खिलाड़ी है। उसके खिलाफ स्ट्रेटजी यही थी की मैंने डिफेन्स को बता रखा था कि पवन हमेशा अंदर आके रेड करता है। वो कभी बाहर से रेड नहीं करेगा और जैसे ही पवन अंदर आये तो उसको अवॉइड नहीं करना। अवॉइड करने पर वो पूरे मैच से 20-30 पॉइंट्स ले जाएगा और अगर उसके अंदर आते ही टैकल करोगे तो पॉइंट्स मिल सकता है। हमारे डिफेन्स ने यही किया और उसमें हम कामयाब रहे।’’

कोच को अपनी टीम पर भरोसा

अनूप कुमार ने टीम के रेडर्स द्वारा ‘डू और डाई’ रेड में मिली सफलता पर कहा, “टीम में नए लड़के हैं और हम प्रैक्टिस के दौरान तीन, चार और पांच के डिफेन्स में प्रैक्टिस करते हैं और उसका असर मैच में साफ नजर आया। यही चीज मैच में असलम और मोहित के प्रदर्शन में दिखा और लास्ट में शुभम ने अच्छा काम किया।’’

पुणे को पीकेएल 8 के प्लेऑफ तक पहुंचने के लिए लगातार जीत की जरुरत है। इस पर अनूप कुमार ने कहा, “अभी कुछ नहीं कह सकते, हमें मैच जीतने पड़ेंगे और कोशिश यही करेंगे की जीत के आगे बढ़ें क्यूंकि हार से तो हमारे चान्सेस बहुत कम हो जाएंगे।’’

मैच के आखिरी लम्हों में बेंगलुरु बुल्स को हार का सामना करना पड़ा। इस हार के बाद टीम के कप्तान ने हार का जिम्मा खुद पर लिया। पवन ने कहा, “स्टार्टिंग में डिफेन्स थोड़ी वीक रह गयी जिसके वजह से मैच क्लोज होता रहा और जब सिर्फ दो पॉइंट्स का अंतर था तब भी मैच हमारे हाथ में था। उस टाइम कवर्स में खेलते हुए मेरे द्वारा मिस्टेक हुआ। मैंने 27 सेकेंड तक होल्ड किया लेकिन आखरी तीन सेकेंड में मेरा पसेंस लेवल टूट गया और मैच हाथ से निकल गया लेकिन डिफेन्स अगले मैच में अच्छा खेलेगा। 

टीम में दो शानदार सपोर्ट रेडर चंद्रन रंजीत और भारत के होते हुए भी टीम को हार मिली। पवन ने इस मुद्दे पर बात करते हुए कहा, “स्टार्टिंग में मैं जब दो तीन बार आउट हुआ तब रंजीत अच्छा सपोर्ट नहीं दे पाया। भारत ने सब्स्टीट्यूट की तौर पर आकर अच्छा सपोर्ट दिया लेकिन डिफेन्स से थोड़ा और सपोर्ट मिल जाता तो हम जीत जाते।”