दोनों टीमों ने दमदार प्रदर्शन किया।

हरियाणा स्टीलर्स और यू मुम्बा टीमों के बीच शेराटन ग्रैंड, व्हाइटफील्ड कन्वेंशन सेंटर में खेला गया वीवो प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के आठवें सीजन का 32वां मुकाबला 24-24 के स्कोर के साथ टाई रहा। यह मुम्बई का इस सीजन का तीसरा टाई है जबकि हरियाणा की टीम एक बार फिर जीतते-जीतते रह गई।

दोनों टीमों का यह छठा मैच था। मुम्बई को दो मैचों में जीत मिली है जबकि उसके तीन मुकाबले टाई रहे हैं। इसे एक मैच में हार मिली है। उसके खाते में 20 अंक हैं और वह 12 टीमों की तालिका में चौथे स्थान पर है।  दूसरी ओर, हरियाणा को इससे पहले दो मैच में जीत मिली है जबकि तीन में हार का सामना करना पड़ा है। यह सीजन का उसका पहला टाई है। हरियाणा छठे स्थान पर आ गई है।

पहला हाफ 12-10 की लीड के साथ हरियाणा के हक में रहा था। इस हाऱ में हरियाणा के रेडरों और डिफेंडरों ने छह-छह अंक लिए जबकि मुम्बई के रेडरों और डिफेंडरों ने पांच-पांच अंक लिए थे। एक के बाद एक कई डू ओर डाई रेड हुए लेकिन सफलता किसी रेडर को नहीं मिली।

इस हाफ में दोनों टीमें काफी सावधानी से खेलीं। हरियाणा के डिफेंस ने देरी से हाथ खोला लेकिन जब खुला तब उसके सभी डिफेंडरों ने अंक बटोर लिए। मुम्बई की ओर से कप्तान फजल अतराचली और रिंकू खुलकर सामने आए।

रेडिंग में हरियाणा के लिए कप्तान विकाश कंडोला (5) और रोहित गुलिया  (8) ने अंक लिए जबकि मुम्बई के लिए अभिषेक सिंह ने चार अंक लिए। वी. अजीत कुमार हालांकि पूरी लय में नहीं थे। हरियाणा ने इस हाफ के अंत तक अपनी लीड बनाए रखी लेकिन अब तक हुए मुकाबलों में उठापटक की स्थिति को देखते हुए उसके लिए यह लीड नाकाफी दिख रही है।

ब्रेक के बाद अभिषेक ने एक अंक लेकर स्कोर 11-12 कर दिया। गुलिया ने भी बोनस लिया लेकिन कप्तान विकाश 21 में से 7 मिनट ही मैट पर बिता पाए हैं। अभिषेक की अगली रेड डू ओर डाई थी। नाडा ने उन्हें डैश कर दिया। स्कोर 14-11 था। स्टीलर्स के लिए मीतू डू ओर डाई रेड पर रिंकी द्वारा लपके गए। अजीत को चौथी बार आउट कर हालांकि स्टीलर्स ने इसकी भरपाई की।

विकाश वापसी कर चुके थे। उनकी एक रेड खाली गई औऱ फिर वह डू ओर डाई रेड पर थे। फजल ने उन्हें ढेर कर दिया। सब्स्टीटयूट अजिंक्य कापरे ने अगली रेड पर गुलिया को बाहर कर दिया। स्कोर 14-15 था। हरियाणा के लिए सुपर टैकल आन था। इस बीच, डू ओर डाई रेड के लिए स्टीलर्स ने विनय को अंदर किया। वह बोनस भी नहीं ले सके।

रोहित ने दो अंक दिलाए और स्कोर 18-19 कर दिया। अजिंक्य ने अपनी रेड पर अंक लिया और फिर डिफेंस ने मीतू को लपक कर मुम्बई को 21-18 से आगे कर दिया। रिंकू ने गुलिया के खिलाफ एडवांस टैकल का प्रयास किया और नाकाम रहे। कापरे को डैश कर हरियाणा ने स्कोर 20-22 कर दिया। इसमें अजिंक्य का बोनस भी शामिल है। विनय ने अजीत को आउट कर हरियाणा को 21वां अंक दिलाया। मुम्बई के लिए अजिंक्य ने बोनस लिया। फिर विकाश ने आशीष को आउट कर स्कोर 22-23 कर दिया।

अब मैच में 1 मिनट 36 सेकेंड बचे थे। मुम्बई के दो खिलाड़ी बचे थे। मोहसिन ने नाडा को टो टच कर लीड 2 की कर दी। सुपर टैकल सिचुएशन में विकाश अंक लेकर गए। स्कोर 23-24 हो गया था। विकाश ने फजल को आउट कर स्कोर 24-24 कर दिया। अभिषेक आखिरी रेड पर थे। वह अकेले खिलाड़ी बचे थे। अभिषेक ना तो बोनस ले सके और ना ही स्टीलर्स का डिफेंस उन्हें आउट कर सका। इस तरह यह मैच टाई पर समाप्त हुआ। यह इस सीजन का आठवां टाई है।

त​मिल ने यूपी योद्धा को हराया

तमिल थलाइवाज ने यूपी योद्धा के स्टार रेडर परदीप नरवाल को 12 रेड्स (4 सफल, 5 नाकाम, 3 खाली रेड) में सिर्फ 6 अंक लेने दिया और इसी कारण उसे पीकेएल के आठवें सीजन के 33वें मुकाबले में 39-33 के अंतर से जीत मिली।

यूपी के लिए सुरेंदर गिल ने 14 अंक लेकर थलाइवाज को परेशान किया लेकिन सागर के हाई-5 और कप्तान सुरजीत सिंह के तीन अंकों ने उनके हौसल बुलंद नहीं होने दिए। थलाइवाज की यह छह मैचों में दूसरी जीत है। उसके हिस्से दो टाई और एक हार भी है। उसके खाते में 19 अंक हैं और वह टाप-5 में आ गए हैं। दूसरी ओर, दो सुपर टैकल के साथ इस मैच में शानदार वापसी करने के बावजूद यूपी को लगातार दो टाई के बाद दूसरी हार मिली है।

पहले हाफ तक थलाइवाज को 21-10 की लीड मिली हुई थी। उसका डिफेंस बेहतरीन खेल रहा था। उसने दो के मुकाबले छह अंक लिए थे। साथ ही रेडर भी चल रहे थे। थलाइवाज ने शुरुआती 10 मिनट में यूपी को आळआउट कर 12-6 कू लीड ले ली। इस दौरान उसने यूपी के स्टार रेडर परदीप नरवाल को तीन बार आउट किया। हालांकि सुरेंदर गिल खुलकर अंक लेकर रहे थे।

लगातार दो बार आउट होने के बाद परदीप ने हालांकि 1200 रेड अंकों का मील का पत्थर छुआ। वह इस शिखर पर पहुंचने वाले एकमात्र खिलाड़ी हैं। यूपी का डिफेंस भी हाथ खोलने लगा था। थलाइवाज को हालांकि 6 की लीड मिली हुई थी। परदीप ने अगली रेड पर मोहित को टारगेट किया लेकिन अगली रेड पर मंजीत ने उन्हें लपक लिया।

सागर ने अगली रेड पर आए गिल को भी आउट किया। अब यूपी को दो मुख्य रेडर बाहर थे। भवानी डू ओर डाई रेड पर थे। उन्होंने सुमित सांगवान को बाहर किया। फिर डिफेंस ने एक और अंक लेकर लीड 10 की कर दी। इसी के साथ पहला हाफ समाप्त हुआ।

ब्रेक के बाद यूपी के डिफेंस ने प्रपंजन के सुपर टैकल कर दो अंक बटोरे औऱ आलआउट टाला। परदीप भी रिवाइव हुए। आते ही हालांकि वह चौथी बार लपके गए। यूपी के लिए शुभम और आशू ने लगातार दूसरे सुपर टैकल पर मंजीत को आउट किया। स्कोर 14-22 हो गया था। गिल आए और एक अंक लिया।

सुपर टैकल के बाद शुभम ने प्रपंजन को लपका। स्कोर 17-22 था। दूसरे हाफ में यूपी का डिफेंस पांच प्वाइंट ले चुका था। गिल अब डू ओर डाई रेड पर थे। थलाइवाज के लिए सुपर टैकल आन था। गिल ने सागर को आउट कर परदीप को रिवाइव किया। गिल ने अगली रेड पर फिर अंक लिया। सबस्टीट्यूट आशू को लपक कप यूपी ने थलाइवाज को आलआउट किया। स्कोर 22-24 हो गया था। गिल ने लगातार दो अंकों के साथ सुपर-10 पूरा किया और स्कोर 24-24 कर दिया।

अगली रेड पर परदीप फिर लपके गए। स्कोर 27-24 से थलाइवाज के पक्ष में था। परदीप इस मैच में अब तक 15 मिनट बाहर बैठे थे। अब मोहित ने गिल को भी बाहर कर दिया। यूपी का प्लान अब सुपर टैकल पर अंक लेना था। पवार डू ओर डाई रेड पर भी थे। मैच में दूसरी बार डिफेंडर सेल्फ आउट हुआ। लीड अब पांच की हो गई।

सागर ने मोहम्मद माहाली को लपका लेकिन वह बोनस ले चुके थे। सागर ने अपना हाई-5 पूरा किया। थलाइवाज ने यूपी को आलआउट कर स्कोर 34-26 कर दिया। अब थलाइवाज लम्बी रेड के प्लान पर थे। यूपी ने न तो परदीप को और ना ही गिल को रेड पर भेजा। साहिल रेड पर गए और खाता खोला। मंजीत फिर आए और बोनस लेकर गए। अगली रेड पर गिल आए और लपके गए।

परदीप अब रेड पर आए और तीन अंक लिए। अब लीड 6 की रह गई थी। यूपी को एक या दो रेड मिल सकती थी। अजिंक्य डू ओर डाई रेड पर थे लेकिन वह दो अंक लेकर वापस आए और अपन टीम की जीत सुनिश्चित कर दी। अंतिम रेड पर गिल ने दो अंक लेकर हार के अंतर को सात से कम कर दिया। मैच की अंतिम रेड पर अजिंक्य लपके गए लेकिन वह बोनस ले चुके थे। इस तरह अंतिम स्कोर 39-33 से थलाइवाज के नाम रहा।