टीम को रेडर मनिंदर सिंह, ऑलरांउडर दीपक हूडा, और नए कोच के भास्करन से काफी उम्मीदें होगीं।

सीजन 7 की विजेता बंगाल वारियर्स प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) सीजन 9 के ऑक्शन के बाद टीम को तैयार करने की शुरूआत कर दी है। पीकेएल में बंगाल वॉरियर्स के प्रदर्शन में निरंतरता कमी रही है और वो अभी तक एक बार ही पीकेएल का खिताब जीत पाई हैं। सीजन 8 में टीम ने फैंस को काफी निराश किया और प्ले-ऑफ में तो पहुंचे नहीं थे, साथ ही टीम अंक तालिका में भी काफी निचले स्थान पर रही थी। सीजन 7 में बंगाल ने दबंग दिल्ली केसी को हराकर इतिहास रचा था। टीम ने ऑक्शन से पहले सिर्फ स्टार रेडर्स मनिंदर सिंह और आकाश पिकलमुंडे जबकि ऑलरांउडर मनोज गौड़ा को रिटेन किया था।  

बंगाल वारियर्स फुल सक्वाड

मनिंदर सिंह, आकाश पिकलमुंडे, मनोज गौड़ा, प्रशांत कुमार, आर गुहान, सुयोग बबन, वैभव गर्जे, विनोद कुमार, सुरेंद्र नाडा, सोलेमन पहलवानी, शुभम शिंदे, श्रीकांत जाधव, सकथीवेल आर, रोहित, परवीन सतपाल, गिरीश मारूती एर्नाक, दीपक निवास हूडा, बालाजी डी, असलम थंबी, आशीष सांगवान, अमित शेरॉन और अजिंक्य कापरे 

रेडिंग विंग

टीम ने एक ओर जहां मनिंदर सिंह, आकाश पिकलमुंडे जैसे रेडर्स के एलीट कैटेगरी प्लेयर्स कैटेगरी में रिटेन किया था वहीं दीपक निवास हूडा को टीम में पीकेएल ऑक्शन में सबसे ज्यादा 43 लाख रूपए देकर खरीदा है। टीम की पूरी कोशिश है युवा खिलाड़ियो को ज्यादा से ज्यादा मौके देकर रेडिंग और डिफेंस को बैलेस किया जा सके। जबकि उनके पास मनिंदर और पिकलमुंडे के रूप में अनुभवी खिलाड़ी पहले से ही हैं। 

रेडिंग विंग में बंगाल का प्रदर्शन तुलनात्मक दृष्टि से काफी अच्छा रहा था। पिछले सीजन सबसे ज्यादा रेड प्वांइट्स के मामले में बंगाल की टीम महज 22 मैचों में 477 प्वांइट्स हासिल कर चौथे स्थान पर रही थी। जबकि नंबर एक पर रही बेंगलुरू बुल्स, दूसरे स्थान पर रही यूपी योद्धा, और तीसरे पर रही दबंग दिल्ली ने 24-24 मैंच खेलकर यह उपलब्धि हासिल किया था। टीम की तरफ से मनिंदर सिंह अकेले ही 262 रेड प्वांइट्स लेकर पहले स्थान पर रहे जबकि मोहम्मद नबीबक्श 89 प्वांइट्स के साथ दूसरे स्थान पर रहे थे। 

टीम में रेडर्स: 

मनिंदर सिंह, आकाश पिकलमुंडे, असलम थंबी, श्रीकांत जाधव, आर गुहान, सुयोग बबन, और प्रशांत कुमार 

डिफेंस विंग

रेडिग की तुलना में बंगाल वारियर्स को डिफेंस विंग में काफी काम करने की जरूरत है। टीम का कोई भी डिफेंडर सबसे ज्यादा टैकल प्वांइट्स के मामले में टॉप 5 टैकल वाले किलाडियों की लिस्ट में जगह बनाने में नाकाम रहा। टीम ने किसी भी डिफेंडर को रिटेन नहीं किया था। सिर्फ वैभव गर्जे को फ्रैंचाइजी ने बतौर डिफेंडर के तौर पर नोमिनेट किया था। इसलिए इस बार टीम में डिफेंडर्स की एक नई और फ्रेश फौज खड़ी की गई है। 

टीम में डिफेंडर्स: अमित शेरॉन, गिरीश मारूती एर्नाक, परवीन सतपाल, सकथीवेल आर, सोलेमन पहलवानी, शुभम शिंदे, और सुरेंद्र नाडा 

ऑलरांउडर्स: दीपक निवास हूडा, मनोज गौड़ा, अजिंक्य कापरे, आशीष सांगवान, बालाजी डी, विनोद, और रोहित 

टीम ने ऑलरांउडर्स की कीमत को समझते हुए दीपक निवास हूडा को नीलामी में टीम में सबसे ज्यादा 43 लाख रूपए में खरीदा है। टीम को इनसे काफी उम्मीदें होंगी। 

वहीं पिछले सीजन में बंगाल वॉरियर्स के प्रदर्शन की बात करें तो वह टीम के लिए अच्छा नहीं रहा था। टीम ने 22 में से केवल 9 मुकाबले जीते थे और 10 में हार का सामना करना पड़ा था। जबकि तीन मैच टाई रहे थे। प्वॉइंट्स टेबल में बंगाल वॉरियर्स की टीम 9वें स्थान पर रही थी। कप्तान मनिंदर सिंह के अलावा ज्यादातर खिलाड़ियों का परफॉर्मेंस काफी खराब रहा था।

नया कोच नई उम्मीदें

बंगाल वॉरियर्स ने के भास्करन को टीम में 9वें सीजन के लिए अपना नया हेड कोच नियुक्त किया है। इन्हीं की कोचिंग में जयपुर पिंक पैंथर्स ने पहले सीजन ही अपना पहला और सीजन का भी पहला टाइटल जीता था। वहीं प्रशांत सुर्वे को असिस्टेंट कोच की जिम्मेदारी मिली है। इन दोनों से टीम को काफी उम्मीदें होंगी।

For more updates, follow Khel Now Kabaddi on FacebookTwitterInstagram and join our community on Telegram.