दोनों टीमों के बीच दमदार मुकाबला देखने को मिला।

अपने डिफेंस के लचर प्रदर्शन के कारण तीन बार के चैंपियन पटना पाइरेट्स को प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के आठवें सीजन में शुक्रवार को दूसरी हार का सामना करना पड़ा। शेराटन ग्रैंड, व्हाइटफील्ड होटल एवं कन्वेंशन सेंटर में खेले गए लीग के 53वें और अपने नौवें मैच में पहले सीजन के चैंपियन जयपुर पिंक पैंथर्स ने पटना को 38-28 से हराया। यह इस सीजन में जयपुर की चौथी जीत है।

इस जीत ने जयपुर को पीकेएल 8 की 12 टीमों की अंक तालिका में चौथे स्थान पर पहुंचा दिया है। पटना हालांकि पहले स्थान पर ही हैं। जयपुर के लिए दीपक हुड्डा ने सुपर-10 पूरा किया जबकि अर्जुन देसवाल ने नौ अंक लिए। जयपुर के डिफेंस ने भी 9 अंक लिए लेकिन पटना का डिफेंस सिर्फ चार अंक ले सका। पटना के लिए मोनू गोयत ने सात जबकि कप्तान प्रशांत राय ने छह अंक लिए।

अर्जुन देसवाल की मैच की पहली रेड खाली गई लेकिन मोनू गोयत ने हालांकि पटना के लिए पहली ही रेड पर दो अंक लिए। दोनों टीमों के रेडर लगातार अंक ले रहे थे। छह मिनट के बाद स्कोर 5-5 था। अब तक किसी भी टीम के डिफेंस को सफलता नहीं मिली थी।

पीकेएल 8 के इस मैच की पहली डू ओर डाई रेड पटना के खाते में आई। सचिन तंवर गए औऱ वह डैश हुए। डिफेंस ने आखिरकार 10वें मिनट में अपना खाता खोला। स्कोर 7-7 की बराबरी पर था। मोनू को 14वें मिनट में डैश कर जयपुर ने 9-9 की बराबरी की। इसके बाद नवीन और दीपक ने रेड पर अंक लेकर जयपुर को 2 अंक से आगे कर दिया। पटना के लिए सुपर टैकल आन था।

दीपक जयपुर के लिए डू ओर डाई रेड पर गए और नीरज को बाहर किया। फिर जयपुर ने पटना को पहली बार ऑल आउट कर 16-12 की लीड ले ली। ऑलइन के बाद देसवाल ने अपनी पहली ही रेड पर दो अंक लेकर लीड 6 की कर दी और इसी के साथ पहला हाफ समाप्त हुआ।

ब्रेक क बाद दो अंक लेकर जयपुर ने पीकेएल 8 के इस मैच में पटना को एक बार फिर सुपर टैकल की स्थिति में डाल दिया। सचिन ने हालांकि अगली रेड पर बिजली जैसी तेजी पर दो डिफेंडर्स को बाहर कर ऑलआउट टाला। स्कोर 15-20 था। देसवाल अब डू ओर डाई रेड पर थे। देसवाल ने शादलू को टो टच पर बाहर किया।

प्रशांत की अगली रेड पटना के लिए दो अंक लेकर आई। फासला घटकर चार का रह गया था। पवन टीआर ने हालांकि सचिन को लपक लीड फिर छह की कर दी। पटना डू ओर डाई पर खेल रहे थे। देसवाल गए लेकिन डैश कर दिए गए। मोनू की अगली रेड पर दोनों टीमों को नाटकीय ढंग घटनाक्रम में 2-2 अंक मिले। स्कोर 25-20 था।

जयपुर के लिए सुपर टैकल आन था। सचिन का रेड खाली गया। एक रेड खाली जाने के बाद दीपक ने डू ओर डाई पर शादलू को बाहर किया। दूसरी ओर, जयपुर के डिफेंस ने पटना के कप्तान को लपक लिया। स्कोर 27-20 हो गया था। मैच में एक बार फिर नाटकीय घटना हुई और एक बार फिर दोनों टीमों को 2-2 अंक मिले। मोनू ने अगली रेड पर एक अंक लिया लेकिन दूसरी रेड पर लपके गए। स्कोर 30-23 से जयपुर के हक में था। उसकी अगली रेड डू ओर डाई थी। देसवाल आए और सुपर टैकल की स्थिति में दो अंक लेकर गए। फिर जयपुर ने पटना को ऑल आउट कर 11 अंक की लीड ली, जिसे छू पाना पटना के लिए लगभग नामुमकिन था।

बेंगलुरू बुल्स ने गुजरात को हराया

पवन सेहरावत (19 अंक) के सीजन के सातवें सुपर-10 की बदौलत बेंगलुरू बुल्स ने शुक्रवार को गुजरात जाएंट्स को हराकर पीकेएल के आठवें सीजन की अंक तालिका में शीर्ष स्थान हासिल कर लिया। शेराटन ग्रैंड, व्हाइटफील्ड होटल एवं कन्वेंशन सेंटर में खेले गए सीजन के 54 वें मुकाबले में बुल्स ने गुजरात को 46-37 से हराया।

10 मैचों में अपनी सातवीं जीत के साथ बुल्स पटना पाइरेट्स को हटाकर टेबल टापर बन गए हैं। दूसरी ओर, गुजरात की नौ मैचों में यह पांचवीं हार है। यह टीम 11वें स्थान पर है। गुजरात के लिए एचएस राकेश (14 अंक) ने सीजन का तीसरा सुपर-10 पूरा किया लेकिन दूसरे रेडरों का साथ नहीं मिलने और डिफेंस की फेल्ड टैकल्स के कारण वह अपनी टीम को जीत तक नहीं पहुंचा सके।

बहरहाल, चार मिनट के खेल के बाद गुजरात को 4-1 की लीड मिली हुई थी। दिल्ली के खिलाफ अपने पिछले मैच में 27 अंक लेने वाले हाई फ्लायर पवन सेहरावत मैच की पहले रेड पर बाहर थे। भरत ने हालांकि उन्हें रिवाइव कराया। पवन ने आते ही अंक लिया। फिर पवन ने दो अंक लेकर बुल्स को 5-4 से आगे कर दिया। बाकी काम बुल्स के डिफेंस ने किया। उसने रतन को लपक लिया।

एचएस राकेश ने मैच की पहली सुपर रेड के साथ गुजरात को फिर लीड दिला दी। चंद्रन रंजीत ने महेद्र राजपूत को टैकल कर बुल्स को बराबरी दिलाई और फिर पवन ने गजब के सुपर रेड के साथ बुल्स को 3 अंक की लीड दे दी। गुजरात ऑल आउट की कगार पर थे। सुपर टैकल पर हादी ओस्त्रोक ने पवन को लपक लिया। स्कोर 10-10 हो गया था। गुजरात हालांकि अधिक देर तक ऑल आउट नहीं बचे सके। बुल्स 15-11 से आगे हो गए थे।

ऑलइन के बाद पवन बाहर हो गए थे। एचएस राकेश ने दो रेड में तीन अंक लेकर बुल्स को सुपर टैकल की स्थिति में धकेल दिया। भारत ने हालांकि फिलहाल मुश्किल टाल दिया। अगली रेड पर बुल्स ने राकेश को लपक लिया। पवन रिवाइव हो गए थे। आते ही उन्होंने दो अंक लिए और इस सीजन का सातवां औऱ कुल 38वां सुपर-10 पूरा किया। स्कोर 21-15 से बुल्स के पक्ष में था।

ब्रेक के बाद परदीप ने हालांकि दो अंक लेकर ऑलआउट बचाया। एचएस राकेश ने बोनस लेकर सीजन का तीसरा सुपर-10 पूरा किया और फिर सुनील ने पवन को दूसरी बार लपक टीम को दो अंक दिलाए। स्कोर 24-25 हो गया था।

परदीप की अगली रेड पर दोनों टीमों को 1-1 अंक मिला। भरत ने गुजरात के कप्तान सुनील को बाहर किया तो बुल्स के डिफेंस ने राकेश को आउट कर पवन को रिवाइव करा लिया। पवन ने आते ही अंक लिया। फिर बुल्स के डिफेंस ने राजपूत को लपक लिया। अब लीड 6 की थी।

सुपर टैकल की स्थिति थी। परवेश भैंसवाल ने गलती की लेकिन हादी ने एस्केप कर गुजरात को अंक दिलाया। हालांकि गुजरात अपना ऑलआउट नहीं टाल सके और नौ अंक से पीछे होकर मुकाबले से लगभग बाहर हो गए। दो मिनट बचे थे। अब देखना था कि गुजरात क्या कर सकते थे।

प्रदीप आए और अंक लेकर गए। फिर पवन ने बुल्स को अंक दिलाया। अगली रेड पर प्रदीप लपके गए। गुजरात की टीम अपने डिफेंस की नाकामी के कारण अभी भी 10 अंक से पीछे थी और एक समय मैच बने रहने के बाद अंततः सीजन की पांचवीं हार को मजबूर हुई।