दोनों टीमों ने अपने-अपने मैचों में दमदार प्रदर्शन किया।

मैच के 21वें मिनट में सब्सीट्यूट के तौर पर मैट पर आए अजिंक्य पवार अपने रेडिंग स्किल की बदौलत प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के आठवें सीजन में तमिल थलाइवाज की पहली जीत के हीरो बने। पवार के 11 और मंजीत के 8 अंकों के अलावा अपने डिफेंडरों के उम्दा प्रदर्शन के बूते थलाइवाज ने सीजन के 23वें मैच में शुक्रवार को पुनेरी पल्टन 36-26 से हरा दिया।

दोनों टीमों का पीकेएल 8 में यह चौथा मैच था। इस जीत ने थलाइवाज को 12 टीमों की तालिका में छठे स्थान पर पहुंचा दिया है। दूसरी ओर, सीजन की तीसरी हार के साथ पल्टन अभी भी तालिका में सबसे नीचे बने हुए हैं। पल्टन ने हालांकि शुरुआती दौर में पिछड़ने के बावजूद पंकज मोहित (8 अंक) और अपने डिफेंस क बदौलत दो बार मैच में वापसी की लेकिन डू ओर डाई में अजिंक्य की सफलता और फिर उनके सुपर रेड ने पल्टन से मैच छीन लिया।

इस सीजन की अपनी पहली जीत की तलाश में जुटी थलाइवाज ने शुरुआती 9 मिनट के भीतर पल्टन को आलआउट कर 12-3 की लीड ले ली थी। हाफटाइम तक हालांकि 18-11 से थलाइवाज के पक्ष में था लेकिन पल्टन ने अपने डिफेंस एवं युवा रेडरों के बूते वापसी के संकेत दे दिए थे।

मैच की पहली रेड मंजीत ने ली और थलाइवाज के लिए पहली ही रेड पर बोनस लिया और फिर थलाइवाज के डिफेंस ने पहली रेड पर आए राहुल चौधरी को लपक लिया। पल्टन ने हालांकि टैकल और रेड में एक-एक अंक लेते हुए पीकेएल के इस मैच में 2-2 की बराबर कर ली। इसके बाद थलाइवाज ने पीछे मुड़कर नहीं देखा औऱ मंजीत तथा अपने डिफेंडर कप्तान सुरजीत की बदौलत 9-2 की लीड ले ली। थलाइवाज यही नहीं रुके और नौवें मिनट में पल्टन को आलआउट कर 12-3 की लीड ले ली।

आलआउट होने के बाद से पल्टन ने वापसी के संकेत दिए और हाफटाइम तक 6 के मुकाबले 8 अंक अपने नाम किए। उसके सुपरस्टार राहुल चौधरी हालांकि पूरी लय में नहीं थे लेकिन थलाइवाज के मुख्य रेडर मंजीत खुलकर अंक ले रहे थे।

ब्रेक के बाद पल्टन ने थलाइवाज को आलआउट कर स्कोर 15-18 कर दिया। अगली ही रेड पर सोमवीर ने मंजीत को टैकल कर पल्टन का 16वां अंक हासिल किया। पंकज मोहिते ने अगली रेड पर सागर का शिकार कर स्कोर 17-18 कर दिया। दो डू ओर डाई पर चार अंक लेने वाले अजिंक्य फिर थलाइवाज के लिए डू ओर डाई रेड पर थे। इस बार अजिंक्य ने संकेत को आउट कर अपना छठा अंक हासिल किया। अपनी टीम के दो रेड खाली जाने के बाद अजिंक्य फिर डू ओर डाई रेड पर थे। इस बार भी वह अंक लेने में सफल रहे।

असलम दूसरी बार डू ओर डाई रेड पर आउट हुए। थलाइवाज को चार अंकों लीड मिल चुकी थी। पल्टन आलआउट की कगार पर थे। अजिंक्य ने अगली रेड पर अंक लेकर लीड पांच की कर दी। इसी बीच, थलाइवाज ने पल्टन को आलआउट कर स्कोर 30-23 कर दिया। राहुल बेंच पर चले गए हैं। पल्टन के डिफेंस ने अजिंक्य के खिलाफ सुपर टैकल लेकर दो अंक लिए लेकिन वह उनकी टीम की वापसी के लिए काफी नहीं थे। थलाइवाज ने इस तरह सीजन की पहली जीत हासिल की।

पटना ने डिफेंडिंग चैम्पियन बंगाल को हराया

मोनू गोयत ने 15वें मिनट में एक ही रेड में सात अंक लेते हुए बंगाल वारियर्स को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया। हाफटाइम तक जो पटना पाइरेट्स टीम पांच अंकों से पीछे थी उसने मैच खत्म होने के पांच मिनट पहले ही 14 अंकों की लीड लेकर अपनी जीत सुनिश्चित कर ली। मोनू के इसी रेड की बदौलत तीन बार के चैम्पियन पटना ने पीकेएल के आठवें सीजन के 24वें मैच में मौजूदा चैम्पियन बंगाल वारियर्स को 44-30 के भारी भरकम अंतर से हरा दिया।

बंगाल को लगातार तीसरी हार मिली है जबकि पटना की यह चार मैचों में तीसरी जीत है। पटना 16 अंकों के साथ अंक तालिका में दूसरे स्थान पर पहुंच गया है। पटना की जीत के हीरो रहे मोनू ने 15 अंक बटोरे जबकि सचिन तंवर ने भी 9 अंक अपने नाम किए। डिफेंस में सुनील ने चार जबकि नीरज ने तीन अंक अपने नाम किए। बंगाल के लिए मनिंदर सिंह ने कुल 12 अंक जुटाए जबकि डिफेंडर अमित नरवाल ने हाई-5 अर्जित किया लेकिन इनका प्रयास टीम को जीत दिलाने के लिए नाकाफी साबित हुआ।

इस पीकेएल मैच के शुरुआती चार मिनट में स्कोर 4-4 था। बंगाल के लिए मनिंदर और पटना के लिए सचिन तंवर लगातार अंक बटोर रहे थे। पटना ने जल्द ही 7-4 की लीड ले ली। आज के मैच में बंगाल के प्वेइंग-7 में शामिल रिशांक देवाडिगा दो रेड पर एक भी अंक नहीं ले सके। उधर, सचिन ने डू ओर डाई रेड पर अंक लेकर स्कोर 8-5 कर दिया। सुकेश हेगड़े भी डू ओर डाई रेड पर थे। वह भी अंक लेकर गए।

रिवाइव होकर आए मनिंदर ने बोनस लिया लेकिन बंगाल के डिफेंस ने सचिन के खिलाफ गलती कर इसकी भऱपाई कर दी। अगली रेड पर मनिंदर ने अपना छठा अंक लिया। बंगाल ने अगली रेड पर सचिन को डैश कर स्कोर 9-9 कर दिया।

रेड पर मनिंदर ने रेजा का शिकार किया और अपना सुपर-10 पूरा किया। मनिंदर को हालांकि अगली रेड पर पटना के डिफेंस ने लपक लिया। स्कोर 12-18 था। सुकेश ने बोनस के तौर पर एक अंक लिया लेकिन सचिन ने डू ओर डाई रेड पर एक अंक लेकर स्कोर 13-19 कर दिया। रिशांक ने अपनी तीसरी रेड पर खाला खोला। उन्होंने सचिन को आउट कर मनिंदर को रिवाइव किया।

रिशांक को इस पीकेएल मैच की अपनी अगली रेड पर मोनू ने आउट कर दिया। इसके बाद मोनू ने डिफेस में लीड किया और सुकेश को टैकल कर स्कोर 16-21 किया। इसी के साथ पहला हाफ समाप्त हुआ। टैकल में दोनों टीमें 4-4 अंक के साथ बराबरी पर हैं जबकि रेड में बंगाल को दो अंकों की बढ़त है।

ब्रेक के बाद पटना ने शानदार वापसी की। उसने अगले 10 मिनट में छह अंकों की लीड को खत्म करते हुए 25-25 की बराबरी कर ली। पटना के मोनू गोयत ने इसी बीच अपने करियर के 500 रेड अंक पूरे किए। इन 10 मिनट में पटना के रेडरों ने बेहतर प्रदर्शन एक के मुकाबले चार अंक बटोरे। डिफेंस भी बंगाल से बेहतर रहा।

पटना ने मुकाबले को बंगाल को आलआउट किया और मुकाबले को पलटते हुए 29-25 की लीड ले ली। मोनू अगली रेड पर बोनस लेकर गए और फिर पटना के डिफेंस ने डू ओर डाई रेड पर मनिंदर को लपक कर 31-25 की लीड ले ली। बीते 10 मिनट में पटना ने 13 अंक हासिल किए जबकि बंगाल को सिर्फ दो अंक मिले। इसके बाद जो हुआ उसके बारे में किसी ने सोचा भी नहीं था। मोनू ने बंगाल की पूरी की पूरी ड़िफेंस को परास्त करते हुए एक बार में सात अंक हासिल किए। बंगाल को आलआउट कर मोनू ने अपना सुपर-10 भी पूरा किया। पटना को 39-25 की लीड मिल चुकी थी, जिसे पार पाना बंगाल के लिए लगभग नामुमकिन था।

मोनू के रेड ने जो अंतर पैदा किया था, उसे पार पाना सम्भव नहीं था। रही-सही कसर पटना के डिफेंडरों ने पूरी की और साल 2021 के अंतिम मैच में अपनी टीम को 44-29 से जीत दिला दी।