दोनों टीमों ने दमदार प्रदर्शन किया।

तीन बार के चैंपियन पटना पाइरेट्स के डिफेंस ने अपने कोच राममेहर सिंह की परदीप नरवाल को नहीं चलने देने की रणनीति पर बखूबी काम किया और साथ ही रेडरों ने अपनी भूमिका के साथ पूरा न्याय करते हुए अपनी टीम को चौथी बार प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के फाइनल में पहुंचा दिया है।

पटना ने शेराटन ग्रैंड, व्हाइटफील्ड होटल एवं कन्वेंशन सेंटर में बुधवार को खेले गए आठवें सीजन के पहले सेमीफाइनल मुकाबले में यूपी को 38-27 से हराया। खास बात यह है कि परदीप के साथ लगातार तीन खिताब जीतने वाली पटना परदीप के बगैर पहला सीजन खेलते हुए भी फाइनल में पहुंची है। दूसरी ओर, परदीप पर करोड़ों खर्च करने वाली यूपी ने पहला फाइनल खेलने का मौका गंवा दिया।

पटना के लिए रेड में गुमान सिंह ने सबसे अधिक 8 अंक लिए लेकिन इस मैच का हीरो डिफेंस रहा, जिसने मोहम्मदरेजा शादलू (हाई-5) के नेतृत्व में परदीप को 6 बार रोकते हुए 16 अंक लिए। परदीप 16 रेड के बाद 4 अंक ही ले सके। यूपी के लिए श्रीकांत जाधव ने सबसे अधिक 10 अंक लिए।

मैच की शुरुआत में पटना ने अपनी रणनीति पर काम करते हुए परदीप को दो मौकों पर अंक नहीं दिया और फिर तीसरे में उन्हें लपक लिया। चार मिनट के बाद पटना 4-0 से आगे थे। यूपी के लिए सुपर टैकल आन था और दो रेड पर दो अंक लेने वाले सचिन डू ओर डाई रेड पर थे। आशू ने उन्हें लपक यूपी का खाता दो अंकों से खोला।

इसके बाद गुमान ने पटना की अगली डू ओर डाई रेड पर दो अंक लिए। और फिर पटना ने यूपी को नौवें मिनट में आलआउट कर 11-4 की लीड ले ली। आलइन के बाद कप्तान प्रशांत राय ने यूपी के दोनों कार्नर को बाहर कर लीड 9 की कर दी।

ब्रेक के बाद पटना के डिफेंस ने परदीप को फिर लपका। यूपी के लिए सुपर टैकल आन था और गुमान डू ओर डाई रेड पर थे। गुमान सफल होकर लौटे। हालांकि यूपी के डिफेंस ने अगली रेड पर गुमान के खिलाफ सुपर टैकल कर स्कोर 13-26 कर दिया। फिर पटना ने यूपी को तीसरी बार आलआउट कर लीड 17 की कर ली।  

इसके बाद हालांकि यूपी को लगातार तीन अंक मिले। 10 मिनट बचे थे और पटना को 14 अंक की लीड मिली हुई थी। शादलू ने परदीप को एक बार फिर लपका और अपना हाई-5 पूरा किया। शादलू ने इसके साथ पीकेएल इतिहास के एक सीजन में 10 हाई-5 का नया रिकॉर्ड कायम किया।

यूपी को हालांकि अब लगातार अंक मिल रहे थे। 22-34 के स्कोर पर पटना के लिए सुपर टैकल आन था। खेल में पांच मिनट बचे थे। यूपी ने यहां वापसी की कोशिश जारी रखी और पटना को आलआउट कर स्कोर 34-27 कर दिया। अब ढाई मिनट बचे थे। परदीप को लपक पटना ने लीड 8 की कर ली। और फिर डिफेंस ने अपना 16वं अंक लेते हुए 10 की लीड के साथ अपनी जीत पक्की कर ली।

दिल्ली ने बेंगलुरु को हराया

दबंग दिल्ली केसी ने शेराटन ग्रैंड, व्हाइटफील्ड होटल एवं कन्वेंशन सेंटर में बुधवार को खेले गए पीकेएल के आठवें सीजन के दूसरे सेमीफाइनल मुकाबले में छठे सीजन के चैम्पियन बेंगलुरू बुल्स को 40-35 से हराकर लगातार दूसरी बार फाइनल में जगह बना ली है।

बीते सीजन के सेमीफाइनल में भी दिल्ली ने बुल्स को 44-38 हराया था और अब एक बार फिर उसने अपने हरफनमौला खेल की बदौलत बुल्स को हराकर 25 फरवरी को होने वाले फाइनल में तीन बार के चैंपियन पटना पाइरेट्स से खेलने का हक हासिल किया है। मजेदार बात यह है कि इस सीजन में लीग स्तर पर दिल्ली ने दो बार पटना को हराया है।

दिल्ली की जीत में उसके स्टार रेडर नवीन कुमार (14) की अहम भूमिका रही। इसके अलावा नीरज नरवाल ने एक सुपर रेड के साथ 5 अंक लिए। दिल्ली के डिफेंस ने 11 अंक लिए। बुल्स के लिए हाईफ्लायर पवन सेहरावत ने 18 अंक लिए लेकिन कोई और रेडर उनका साथ नहीं दे सका। बुल्स के डिफेंस ने 9 अंक लिए।

पवन ने लगातार दो टच प्वाइंट के साथ अपनी टीम को अपेक्षित शुरुआत दिलाई। स्कोर 3-0 था लेकिन दिल्ली ने शानदार वापसी करते हुए स्कोर बराबर और फिर लीड लेते हुए बुल्स को आलआउट की कगार पर धकेल दिया। पवन ने एक बार बुल्स को ऑलआउट से बचाया लेकिन दूसरे मौके पर दिल्ली ने उन्हें डैश कर बुल्स को आलआउट किया और 10-7 से आगे हो गए।

आलइन के बाद बुल्स ने तीन अंक लेकर स्कोर बराबर कर दिया। अगली रेड पर पवन ने नवीन को भी आउट कर दिल्ली को बड़ा झटका दिया और फिर अगली रेड पर इस सीजन का अपना 18वां सुपर-10 पूरा किया। दिल्ली के लिए सुपर टैकल आन था। अब बारी विजय की डू ओर डाई रेड की थी। उन्होंने एक खिलाड़ी को रिवाइव कराया।

बुल्स के डिफेंस ने ब्रेक के बाद की पहली रेड पर नीरज नरवाल को लपक लिया। दिल्ली के लिए सुपर टैकल आन था और उसने पवन को डैश कर 19-18 की लीड ले ली। इसके बाद दिल्ली ने एक-एक करके तीन अंक लेकर लीड 4 की कर ली। बुल्स को बीते 14 मिनट में रेड में सिर्फ एक अंक मिला है।

बुल्स के लिए सुपर टैकल आन था और नवीन का शिकार कर डिफेंस ने दो अंक लिए। पवन रिवाइव हो गए थे। आते ही उन्होंने अंक लिया। इसके बाद नीरज ने मैच का पहला सुपर रेड किया और लीड फिर 4 की कर ली। पवन भी बाहर हो गए थे। फिर दिल्ली ने बुल्स को आलआउट कर 29-23 की लीड ले ली।

पवन ने ब्रेक के बाद लगातार दो अंक लिए। स्कोर 25-31 था लेकिन नवीन ने सुपर रेड के साथ इस मुकाबले को बुल्स के हाथों लगभग खींच लिया। इसी बीच पवन ने लगातार दूसरे सीजन में 300 रेड अंक पूरे किए। हालांकि अगली डू ओर डाई रेड पर वह चौथी बार शिकार हुए। नवीन ने दो अंक की रेड के साथ सीजन का अपना 11वां सुपर-10 पूरा किया।भरत ने अगली रेड पर पवन को रिवाइव करा लिया। एक मिनट बचे थे और स्कोर 37-32 था। बुल्स को लगातार अंक मिल रहे थे। पवन ने हालांकि अंतिम मिनट में नवीन को टैकल करने की गलती कर दिल्ली को मैच जीतने का मौका दे दिया। और फिर नवीन ने दो अंक की रेड के साथ इस जीत पर मुहर लगा दी।