दोनों टीमों ने दमदार प्रदर्शन किया।

मोहम्मद नबीबक्श ने मैच की आखिरी रेड पर सुपर टैकल को अंजाम देकर मौजूदा चैम्पियन बंगाल वारियर्स की हार का सिलसिला खत्म कर दिया है। बंगाल ने शेराटन ग्रैंड, व्हाइटफील्ड में जारी लीग के आठवें सीजन के 30वें मुकाबले में पहले सीजन के चैम्पियन जयपुर पिंक पैंथर्स को 31-28 से हराकर लगातार तीन हार के बाद जीत हासिल की।

इस सीजन ने बंगाल को 10वें स्थान से ऊठाकर टाप-5 में पहुंचा दिया है। यह उसकी छ मैचों में तीसरी जीत है। दूसरी ओर, जयपुर को पांच मैचों में तीसरी हार मिली है। इस मैच के हीरो नबीबक्श ने सुपर टैकल के साथ सुपर-10 पूरा किया। उनकी टीम की ओर से मनिंदर सिंह (13 अंक) ने सुपर-10 पूरा किया। जयपुर के लिए अर्जुन देसवाल (16 अंक) ने इस सीजन का लगातार पांचवां सुपर-10 पूरा किया लेकिन वह अपनी टीम को जीत नहीं दिला सके।

शुरुआती पांच मिनट में स्कोर 5-3 से जयपुर के पक्ष में था। मनिंदर अब तक चार अंक बटोर चुके थे। मोहम्मद नबीबक्श ने अगली रेड पर दो अंक लेकर जयपुर को आलआउट की कगार पर धकेला और फिर डिफेंस ने कप्तान दीपक को लपक कर 10-5 की लीड दिला दी।

मनिंदर ने इसके बाद सुपर रेड पर तीन अंक लेकर स्कोर 13-5 कर दिया। इस सीजन में लगातार सुपर-10 पूरा कर चुके अर्जुन देसवाल ने सुपर रेड पूरी करते हुए स्कोर 9-13 कर दिया। मनिंदर ने तीसरी बार दीपक सिंह का शिकार कर बीते पांच रेड में सातवां अंक लिया।

दोनों टीमों के रेडर खुलकर अंक ले रहे थे और यही कारण है कि शुरुआती 13 मिनट में एक भी डू ओर डाई रेड नहीं दिखी है। मनिंदर अगली रेड पर लपके गए लेकिन देसवाल ने रनिंग हेंड टच पर अंक लेकर स्कोर 12-16 कर दिया।

इस मैच की पहली डू ओर डाई रेड 16वें मिनट में आया और नबीबक्श इस पर अंक लेने में सफल रहे। इसी बीच देसवाल ने बोनस लेकर स्कोर 13-17 कर दिया। पांच रेड में जो बार आउट हो चुके दीपक हुड्डा ने अगली रेड पर अबोजार को चलता किया।

मनिंदर भी कम नहीं थे। अगली रेड पर एस्केप अंक लेकर उन्होंने अपने करियर के 800 रेड प्वाइंट्स पूरे किए। स्कोर 18-14 से बंगाल के पक्ष में था और इसी स्कोर पर पहला हाफ समाप्त हुआ। जयपुर ने मनिंदर की अगली रेड पर जयपुर के पाले में रहते हुए कांट ब्रेक करने की रिव्यू ली लेकिन उसे नकार दिया गया। मनिंदर ने इसी के साथ इस सीजन का चौथा सुपर-10 पूरा किया।

अपनी अगली रेड पर एक अंक लेकर मनिंदर ने इस सीजन का पांचवां सुपर-10 पूरा किया। यह मैच चार रेडरों पर चल रहा था। बंगाल के लिए नबीबक्श औऱ मनिंदर तथा जयपुर के लिए देसवाल और दीपक लेकिन इसी बीच बंगाल के डिफेंस ने दीपक को लपक स्कोर 23-17 कर दिया। जयपुर के लिए सुपर टैकल आन था। मनिंदर डू ओर डाई रेड पर थे। वह सुपर टैकल कर दिए गए। वह मैच में पहली बार आउट हुए।

स्कोर 23-19 से बंगाल के पक्ष में था। नवीन ने दर्शन को बाहर कर जयपुर का 20वां अंक लिया। नबीबक्श दो मिनट का सस्पेंशन पूरा कर वापस आए अंक लेकर मनिंदर को रिवाइव कराया। अगली रेड पर देसवाल ने रोहित को बाहर किया। देसवाल के खिलाफ काम्बीनेशन टैकल पर बंगाल के डिफेंस ने फाउल प्ले किया औऱ अंक गंवाया। 36 मिनट के खेल के बाद स्कोर 24-22 से बंगाल के हक में था। 

ब्रेक के बाद जयपुर ने मनिंदर को दूसरी बार आउट किया। देसवाल ने हैंड टच पर अंक लेकर दीपक को रिवाइव किया। मनिंदर की गैरमौजूदगी में नबीबक्शन ने दो अंक लिए और तीन अंक की लीड ले ली। देसवाल की रेड पर दर्शन लाबी में गए और जयपुर को अंक मिला। अगली रेड पर देसवाल ने अबोजार को आउट किया। स्कोर 26-27 था लेकिन नबीबक्शन की रेड पर नितिन ने गलती की और बोनस के साथ-साथ अंक भी दे दिया।

लीड 3 की हो गई थी। देसवाल ने अपनी टीम को अगली रेड पर दो अंक दे दिए। अब लीड एक की रह गई। मनिंदर अपनी टीम की अंतिम रेड पर अंक नहीं ले सके लेकिन नबीबक्श ने अंतिम रेड पर देसवाल को सुपर टैकल कर मैच जीत लिया।

पटना को मिली आखिरी रेड पर जीत

मैच की आखिरी रेड पर हासिल एक अंक की बदौलत तीन बार के चैम्पियन पटना पाइरेट्ड ने सीजन के 31वें मुकाबले में तेलुगू टाइटंस को 31-30 के अंतर से हरा दिया। यह पटना की लगातार तीसरी और कुल चौथी जीत है जबकि टाइटंस को तीसरी हार मिली है। यह एकमात्र टीम है, जिसका जीत का खाता अब तक नहीं खुल सका है।

पटना ने इस मैच में लगातार लीड ले रखी थी लेकिन टाइटंस ने वापसी करते हुए सीजन की पहली जीत का प्रयास किया लेकिन वह नाकाम रही। पटना की टीम इस जीत के साथ 12 टीमों की अंक तालिका में तीसरे स्थान पर पहुंच गई है जबकि टाइटंस 11वें स्थान पर हैं।

पटना के लिए डिफेंडर नीरज ने शानदार खेल दिखाते हुए चार अंक बटोरे। स्टार रेड मोनु गोयत (7) सबसे सफल रेडर रहे जबकि सचिन तंवर (6) ने उनका बखूबी साथ दिया। दूसरी ओर सिद्धार्थ देसाई की गैरमौजूदगी में अंकित बेनीवाल (10 अंक) ने बेहतरीन खेल दिखाया लेकिन वह अपनी टीम की जीत का खाता नहीं खोल सके।

देसाई की एबसेंस के बावजूद टाइटंस ने शुरुआती चार मिनट में 4-2 की लीड ले ली थी। राकेश गौड़ा लगातार अंक ले रहे थे लेकिन डिफेंस सुस्त था। प्रशांत राय ने पटना की पहली डू ओर डाई रेड पर तीन अंक लिए और पटना को 5-4 से आगे कर दिया। पटना ने अपने आलराउंड खेल की बदौलत 10वें मिनट में टाइटंस को आलआउट कर 12-7 की लीड ले ली।

पटना ने इसके बाद लगातार दो अंक स्कोर 14-7 कर दिया। टाइटंस के डिफेंस ने अपना हाथ खोला और 13 मिनट के बाद मोनू गोयत को लपक कर पहली सफलता हासिल की। उधर, पटना की रेडिंग यूनिट और डिफेंस लगातार अच्छा खेल रहा था। स्कोर 16-8 हो गया था।

अब टाइटंस के सामने खुद को दूसरी बार आलआउट से बचाए रखने और साथ ही लीड को भी कम करने की चुनौती थी। इसी बीच, कप्तान रोहित कुमार ने रेड में अपना दूसरा अंक लिया।

अगली रेड पर मोनू लाबी में गए और टाइटंस को अंक दिया लेकिन अंकित को लपक कर पटना के डिफेंस ने इसकी भऱपाई की। पटना ने 19वें मिनट में 18-12 की लीड ले रखी थी। इसी बीच, टाइटंस ने सचिन को आउट कर 13वां अंक लिया। हाफ टाइम तक स्कोर पटना के पक्ष में 18-13 था।

ब्रेक के बाद रितुराज गुरावी ने सब्सीट्यूट गुनाम को लपक अपनी तीसरी सफलता हासिल की। पटना के लिए सुपर टैकल आन था। बेनीवाल डू ओर डाई रेड पर थे लेकिन वह सुपर टैकल कर दिए गए। पटना ने 20-14 की लीड ले ली। सचिन डू ओर डाई रेड पर थे लेकिन टाइटंस के डिफेंस ने उन्हें लपक लिया। बोनस के लिए पटना ने रिव्यू लिया लेकिन उसे नकार दिया गया। सुपर टैकल फिर आन था। बेनीवाल ने सुनील को बाहर किया। बेनीवाल ने पटना को आलआउट कर लीड एक अंक की कर दी।

मोनू ने अगली रेड पर रोहित को आउट किया औऱ गौड़ा सेल्फ आउट हुए। पटना की लीड तीन की हो गई थी। सुरेंदर ने सचिन को डैश किया लेकिन वह भी लाबी से बाहर चले गए। दोनों टीमों को 1-1 अंक मिला। तीन की लीड अभी भी बनी हुई थी लेकिन पटना के डिफेंस ने बेनीवाल के खिलाफ गलती की और सुपर रेड के साथ स्कोर 24-24 कर दिया। सात मिनट बाकी थे और मोनू ने दो अंक दिलाकर लीड 2 की कर दी थी। बेनीवाल अब डू ओर डाई रेड पर थे। वह अंक लेकर गए। 5 मिनट बाकी हैं और स्कोर डिफरेंस सिर्फ 1 का है।

पटना के लिए सुपर टैकल आन था। बेनीवाल रेड पर थे लेकिन वह लपक लिए गए। पटना की लीज तीन अंकों की हो गई थी। सचिन पटना की डू ओर डाई रेड पर थे और रोहित को आउट कर लीड 4 की कर दी। रेफरी ने इस बीच पटना के कोच राम मेहर सिंह को दो मिनट के लिए सस्पेंड कर दिया। टाइटंस चूके नहीं थे। गौड़ा अंक लेकर आए। मोनू और बेनीवाल खाली गए। अगली रेड सचिन की थी। टाइटंस के डिफेंस ने गलती की। लीड फिर चार की हो गई। अगली रेड पर बेनीवाल ने एक अंक लिया।

एक मिनट बचे थे। मोनू समय काटकर चले गए। अब बेनीवाल आए और एक अंक लिया। स्कोर 28-30 था। मोनू रेड पर थे औऱ रितुराज ने उन्हें लपक लिया। स्कोर 29-30 हो गया था। बेनीवाल ने सुपर-10 के साथ स्कोर 30-30 कर दिया। आखिरी रेड पर संदीप कंडोला की गलती पर सचिन को एक अंक मिला और पटना ने जीत की हैट्रिक पूरी की।