पिछले कुछ वर्षों में लीग की लोकप्रियता में काफी इजाफा हुआ है।

प्रो-कबड्डी लीग में हमें अबतक कई बेहतरीन रेडर्स को खेलते हुए देखने का मौका मिला है। पहले सीजन में सभी को संशय था कि क्या यह लीग सफल हो पाएगी, लेकिन कबड्डी के रोमांच और खिलाड़ियों के बेहरीतन प्रदर्शन ने इसे काफी लोकप्रिय बना दिया है।

लीग की सफलता के पीछे रेडर्स की पावर और दमदार प्रदर्शन का बहुत बड़ा योगदान है। प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले सभी रेडर्स का अपना स्टाइल है और उन्होंने अपनी स्किल्स के दम पर भारतीय दर्शकों को ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया है।

आईए नजर डाले हैं लीग में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले टॉप-5 रेडर्स पर:

5. अजय ठाकुर

प्रो-कबड्डी लीग की शुरुआत से ही अजय ठाकुर ने लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है। 33 वर्ष के ठाकुर अबतक कुल सात सीजन में बेंगलुरू बुल्स, पुनेरी पल्टन और तमिल थलाइवाज के लिए खेल चुके हैं।

उन्होंने अबतक लीग में 115 मैचों में कुल 790 प्वॉइंट्स हासिल किए हैं। वह औसतन हर मुकाबले में 6.86 प्वॉइंट अर्जित करते हैं और किसी भी विरोधी टीम के लिए खतरनाक साबित हो सकते हैं। ठाकुर लंबे हैं और मैट के दोनों साइड से अटैक करने का माद्दा रखते हैं। वह तेज हैं और मुश्किल परिस्थितियों में ज्यादा अच्छा प्रदर्शन करते हैं। 2016 में हुए कबड्डी वर्ल्ड कप में उनकी यह खूबी हमें देखने का मिली थी।

प्रो-कबड्डी लीग का छठा सीजन ठाकुर के लिए सबसे बढ़िया रहा और उस दौरान उन्होंने केवल 22 मैचों में 203 अंक अर्जित किए। वह अभी भी इंडियन टीम और लीग में एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी हैं।

4. दीपक निवास हुड्डा

दीपक निवास हुड्डा उन खिलाड़ियों में से हैं जो बहुत ही कम उम्र से इस प्रतियोगिता का हिस्सा हैं। 25 वर्षीय इस खिलाड़ी ने अबतक 123 मैचों में हिस्सा लिया है। आंकड़ों को देखा जाए तो पिछले सात सीजन में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले टॉप-10 रेडर्स में सबसे ज्यादा मैच हुड्डा ने ही खेले हैं।

उन्होंने प्रतियोगिता में अबतक कुल 856 प्वॉइंट्स हासिल किए हैं। वह हर मैच में औसतन 6.95 अंक हासिल करते हैं और लीग में जयपुर पिंक पैंथर्स के साथ-साथ तेलुगु टाइटन्स और पुनेरी पल्टन के लिए खेले चुके हैं।

लीग के सातवें सीजन में दीपक हुड्डा ने 20 मैचों में कुल 146 प्वॉइंट्स अर्जित किए और सबसे ज्यादा अंक हासिल करने वाले खिलाड़ियों की सूची में नौवे नंबर पर रहे।

3. अनूप कुमार

कबड्डी की दुनिया में ‘कैप्टन कूल’ के नाम से मशहूर अनूप कुमार भारत के सबसे बेहतरीन खिलाड़ियों में गिने जाते हैं। उन्होंने यू मुम्बा के साथ प्रो-कबड्डी लीग में अपने सफर की शुरुआत की और टीम के लिए पांच सीजन खेले। इसके बाद, उन्होंने जयपुर पिंक पैंथर्स का रुख किया।

उन्होंने लीग में 91 मैच खेले और कुल 527 अंक हासिल किए। औसतन देखा जाए तो उनके नाम हर मैच में 5.79 प्वॉइंट्स रहे। यह नंबर भले ही कम लग रहे हों, लेकिन टीम में अनूप का रोल अन्य खिलाड़ियों के मुकाबले ज्यादा डायनमिक था। वह मैट पर अपने ठंडे दिमाग के लिए जाने जाते थे।

कबड्डी की दुनिया में ‘कैप्टन कूल’ के नाम से मशहूर हैं अनूप कुमार

अनूप अपने विपक्षी खिलाड़ियों की गलतियों को जल्द पकड़कर उसका फायदा उठाने में माहिर थे। वह ‘डू और डाई’ रेड्स के दौरान भी दमदार प्रदर्शन करते थे जिसने उन्हें फैन्स का चहेता खिलाड़ी भी बना दिया था। टो-टच मूव उनकी सबसे बड़ी खासियत थी और विपक्षी टीम के प्लेयर्स हमेशा इससे बचकर रहते थे।

उन्होंने यू मुम्बा को लगातार पहले तीन सीजन में फाइनल तक पहुंचाने में बेहद अहम भूमिका निभाई थी। वह 2015 में टीम के साथ लीग टाइटल जीते और 2016 में वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम के भी कप्तान थे।

2. राहुल चौधरी

राहुल चौधरी ने प्रो-कबड्डी लीग में अबतक लगातार बेहतरीन प्रदर्शन किया है। 26 वर्षीय इस खिलाड़ी ने पहले सीजन में ही दमदार खेल दिखाते हुए 151 रेड प्वॉइंट हासिल कर लिए थे। उसके बाद से उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा और अपनी दमदार रेडिंग के जरिए दर्शकों को लगातार मनोरंजन किया।

वह एक ऑल राउंड रेडर हैं और मैट पर लगभग हर तरह की तकनीक का उपयोग कर सकते हैं। राहुल तेज हैं और उनका ऊंचा कद डिफेंडर्स के लिए अधिक परेशानी पैदा करता है। तमिल थलाइवाज के इस खिलाड़ी ने लीग में अबतक 122 मैचों में 955 प्वॉइंट्स हासिल किए हैं और औसतन हर मैच में 7.83 अंक अपने नाम करते हैं।

उन्होंने अबतक ‘डू और डाई’ रेड्स के जरिए 166 प्वॉइंट्स हासिल किए हैं और इस रेड के जरिए अंक अर्जित करने के मामले में दीपक हुड्डा के साथ बराबरी पर हैं। लीग का चौथा सीजन उनके लिए अबतक सबसे दमदार रहा है क्योंकि उन्होंने उस सीजन अपने रेड्स के जरिए 16 मैचों में 146 अंक हासिल किए थे।

राहुल को चौथे सीजन का बेस्ट रेडर भी चुना गया था।

1. प्रदीप नरवाल

प्रदीप नरवाल, प्रो-कबड्डी लीग में खेलने वाले बेस्ट रेडर हैं और लीग में केवल छह सीजन खेलने के बाद ही उन्होंने यह मुकाम हासिल कर लिया। उन्होंन लीग के दूसरे सीजन में अपना डेब्यू किया था।

वह अपने पहले सीजन में बेंगलुरू बुल्स की ओर से मैट पर उतरे थे। उन्होंने टीम के लिए पूरे सीजन केवल छह मैच खेले थे और तीसरे सीजन से पहले पटना पाइरेट्स से जुड़ गए। पटना में शामिल होने के बाद से प्रदीप ने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

उन्होंने टीम को लगातार तीन बार लीग का खिताब दिलाया और 1000 रेड्स प्वॉइंट्स हासिल करने वाले लीग के पहले खिलाड़ी बने। प्रदीप ने यह सफलता पिछले सीजन हासिल की थी। उन्होंने प्रतियोगिता में अबतक केवल 107 मैचों में ही कुल 1160 रेड प्वॉइंट्स हासलि किए हैं और वह औसतन हर मुकाबले में 10.84 रेड प्वॉइंट्स अर्जित करते हैं।

प्रदीप के नाम 59 सुपर 10 और 53 सुपर रेड्स भी हैं जोकि दोनों कैटेगरी में सबसे ज्यादा हैं। इसके अलावा, उन्होंने कुल 880 सफल रेड्स भी लगाए हैं जोकि दूसरे नंबर पर मौजूद राहुल चौधरी से 92 रेड्स ज्यादा है। यह भी देखने वाली बात है कि प्रदीप ने राहुल के मुकाबले 15 मैच कम खेले हैं।

यह सभी तथ्य यह दर्शाने के लिए काफी हैं ​कि प्रदीप प्रो-कबड्डी लीग में खेलने वाले सबसे बेस्ट रेडर हैं।