​ऑक्शन के दौरान इन खिलाड़ियों को खरीदने में टीमों ने काफी दिलचस्पी दिखाई।

प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के 8वें सीजन का ऑक्शन खत्म हो चुका है। ऑक्शन के दौरान सभी 12 टीमों के बीच काफी दिलचस्प बिडिंग वॉर देखने को मिली। यही वजह रही कि इस बार कई खिलाड़ियों के लिए काफी महंगी बोली भी लगी।

परदीप नरवाल लीग के सबसे महंगे खिलाड़ी बनकर उभरे। उन्हें यूपी योद्धा ने अपनी टीम में शामिल किया है। हालांकि हम आपको इस आर्टिकल में प्रो कबड्डी लीग सीजन 8 के पांच सबसे महंगे ऑलराउंडर्स के बारे में बताएंगे।

5. मोहम्मदरेजा शादलुई शियानेह – 31 लाख (पटना पाइरेट्स)

ईरान के ऑलराउंडर मोहम्मदरेजा को खरीदने के लिए प्रो कबड्डी लीग ऑक्शन के दौरान कई टीमों के बीच होड़ देखने को मिली। तीन बार की चैंपियन पटना पाइरेट्स ने आखिर में 31 लाख की रकम के साथ उन्हें अपनी टीम में शामिल किया। वो सीजन आठ के ऑक्शन के सबसे महंगे विदेशी खिलाड़ी रहे।

मोहम्मदरेजा एक जबरदस्त प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं और 2018 दुबई कबड्डी मास्टर्स में ईरान का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। आमतौर पर वो लेफ्ट कॉर्नर में खेलते हैं और अपने बॉडी ब्लाक्स, वेस्ट होल्ड्स और डाइव्स के लिए मशहूर हैं। उन्होंने 2019 में ईरान के लिए जूनियर वर्ल्ड कबड्डी चैंपियनशिप में भी हिस्सा लिया था।

4. ब्रिजेन्द्र सिंह चौधरी – 55 लाख (हरियाणा स्टीलर्स)

ये काफी हैरान करने वाला रहा कि हरियाणा स्टीलर्स ने कैटेगरी सी में बिजेंदर सिंह चौधरी के लिए 55 लाख की भारी भरकम बोली लगाई। हालांकि अगर पिछले सीनियर नेशनल्स के परफॉर्मेंस को देखें तो राजस्थान के इस ऑलराउंडर ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है। प्रो कबड्डी लीग के छठे सीजन में वो जयपुर पिंक पैंथर्स का हिस्सा थे। हालांकि उन्हें एक भी मैच खेलने का मौका नहीं मिला था।

3. दीपक निवास हूडा – 55 लाख (जयपुर पिंक पैंथर्स)

दीपक हूडा भारतीय कबड्डी का एक जाना-माना नाम हैं। 2014 में हुए प्रो कबड्डी लीग के पहले सीजन के ऑक्शन में दीपक हूडा दूसरे सबसे महंगे बिकने वाले खिलाड़ी थे। तेलुगु टाइटंस ने उस वक्त उन्हें 12.6 लाख की रकम में खरीदा था। तीसरे और चौथे सीजन में वो पुणेरी पलटन का हिस्सा बने।

पिछले सीजन दीपक हूडा जयपुर पिंक पैंथर्स के कप्तान थे और इस बार भी फ्रेंचाइजी ने 55 लाख की रकम के साथ उन्हें वापस हासिल कर लिया। वो कबड्डी के बेहतरीन ऑलराउंडर्स में से एक हैं और डू और डाई रेड में जबरदस्त प्रदर्शन करते हैं। जबकि उनका रनिंग हैंड टच कमाल का होता है।

2. संदीप नरवाल – 60 लाख (दबंग दिल्ली)

संदीप नरवाल ने अपने करियर की शुरूआत कॉर्नर डिफेंडर के तौर पर की थी लेकिन धीरे-धीरे रेडिंग में भी उन्होंने अपनी स्किल डेवलप कर ली और वो लीग के सबसे सफल ऑलराउंडर्स में से एक बन गए। वो प्रो कबड्डी लीग इतिहास के उन तीन ऑलराउंडर्स में से एक हैं जिन्होंने 500 प्वॉइंट लेने का कारनामा किया है।

सातवें सीजन के दौरान 300 टैकल प्वॉइंट हासिल करने वाले संदीप पीकेएल इतिहास के चौथे खिलाड़ी बने थे। उन्होंने अपने प्रो कबड्डी करियर की शुरूआत पटना पाइरेट्स टीम के साथ की थी और लगातार तीन सीजन तक वो टीम का हिस्सा बने रहे। दूसरे सीजन में उन्होंने कप्तानी भी की थी और टीम को सेमीफाइनल तक पहुंचाया था। वो अपने “ब्लॉक” के लिए मशहूर हैं जिससे पार पाना रेडर्स के लिए आसान नहीं होता है।

दबंग दिल्ली ने इस बार संदीप नरवाल के लिए ऑक्शन के दौरान भारी-भरकम बोली लगाई। दिल्ली ने 60 लाख की रकम के साथ नरवाल को साइन किया। वो टीम के लिए काफी शानदार साबित हो सकते हैं।

1.रोहित गूलिया- 83 लाख (हरियाणा स्टीलर्स)

रोहित गूलिया ने अपने प्रो कबड्डी लीग करियर की शुरूआत पांचवें सीजन में गुजरात जायंट्स टीम के साथ की थी। उन्होंने गुजरात के लिए शानदार प्रदर्शन किया। खासकर प्रेशर में उनका गेम और निखरकर सामने आया।

रोहित गूलिया डू और डाई रेड में काफी शानदार प्रदर्शन करते हैं। उनका परफॉर्मेंस टीम के लिए इतना शानदार रहा कि सातवें सीजन के मध्य में उन्हें कप्तान बना दिया गया। पीकेएल 7 में रोहित गूलिया ने कुल मिलाकर 142 प्वॉइंट हासिल किए ऑलराउंडर्स में दूसरा सबसे बेस्ट रहा। रोहित गूलिया को हरियाणा स्टीलर्स ने 83 लाख की भारी-भरकम रकम में खरीदा।