पिछले दो सीजन से लीग में प्लेयर्स के लिए काफी महंगी बोली लगी है।

प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के आठवें सीजन के ऑक्शन से पहले सभी टीमों ने रिटेन किए गए खिलाड़ियों की लिस्ट जारी कर दी है। इस बार सभी टीमों ने कई चौंकाने वाले फैसले लिए हैं और टीम के दिग्गज प्लेयर्स को रिलीज कर दिया है। परदीप नरवाल, राहुल चौधरी, अजय ठाकुर, रविंदर पहल, रोहित कुमार, संदीप धुल, दीपक हूडा और सिद्धार्थ देसाई जैसे खिलाड़ी इस बार ऑक्शन का हिस्सा होंगे। ऐसे में कई खिलाड़ियों के लिए काफी महंगी बोली भी लग सकती है।

पीकेएल की जब शुरूआत हुई थी तब ऑक्शन में खिलाड़ियों के लिए काफी कम बोली लगती थी। 2014 के पहले सीजन में पटना पाइरेट्स ने राकेश कुमार को 12.80 लाख की रकम में खरीदा था और उस सीजन वो सबसे महंगे प्लेयर थे।

हालांकि पिछले दो सीजन से प्लेयर्स के लिए काफी ज्यादा महंगी बोली लगने लगी है। प्रो कबड्डी लीग 2018 और 2019 में कई खिलाड़ियों के लिए करोड़ों में बोली लगी। फजल अत्राचली पीकेएल इतिहास में एक करोड़ की रकम पाने वाले पहले खिलाड़ी हैं।

हम आपको प्रो कबड्डी लीग के इतिहास में सबसे महंगे बिकने वाले वाले टॉप-5 प्लेयर्स के बारे में बताएंगे।

5. नितिन तोमर

पुनेरी पलटन ने नितिन तोमर को सातवें सीजन के ऑक्शन में एक करोड़ 20 लाख की भारी भरकम रकम में खरीदा था। हालांकि, नितिन दुर्भाग्यशाली रहे और उन्हें चोट लग गई जिसके कारण वह आधे से ज़्यादा सीजन के लिए बाहर रहे थे। लीग में उस सीजन कुल 11 मुकाबले ही खेल पाने वाले नितिन ने 102 रेड प्वाइंट हासिल किए थे। नितिन तोमर पीकेएल के ऑल टाइम एक्सपेंसिव खिलाड़ियों की लिस्ट में चौथे पायदान पर हैं।

4. राहुल चौधरी

राहुल चौधरी इस लिस्ट में तीसरे नंबर पर हैं। वो लगातार छह सीजन तक तेलुगु टाइटंस का हिस्सा थे और इसके बाद सातवें सीजन में तमिल थलाइवाज का हिस्सा बने। हालांकि उनका परफॉर्मेंस उतना अच्छा नहीं रहा और उन्हें रिलीज कर दिया गया।

राहुल प्रो कबड्डी लीग में 800 प्वॉइंट हासिल करने वाले पहले खिलाड़ी बने थे। इसके अलावा और भी कई रिकॉर्ड उन्होंने अपने नाम किए हैं। छठे सीजन की नीलामी में तेलुगु टाइटंस ने राहुल चौधरी के लिए एक करोड़ 29 लाख की बोली लगाई थी। राहुल चौधरी ने चौथे सीजन में बेस्ट रेडर का अवॉर्ड भी जीता था। इस बार भी उनके लिए काफी महंगी बोली लग सकती है।

3. सिद्धार्थ देसाई

सिद्धार्थ देसाई ने अपना प्रो कबड्डी लीग डेब्यू छठे सीजन में यू मुंबा के लिए किया था। उन्होंने उस सीजन 21 मैचों में 221 प्वाइंट हासिल किए थे। सिद्धार्थ के इस बेहतरीन प्रदर्शन का ही नतीजा था कि सातवें सीजन की नीलामी में तेलुगु टाइटंस ने उनके लिए एक करोड़ 45 लाख रूपए की बोली लगाई।

वो उस सीजन के सबसे महंगे खिलाड़ी बने और ओवरऑल पीकेएल इतिहास के दूसरे सबसे महंगे प्लेयर हैं।

2. मोनू गोयत

मोनू गोयत प्रो कबड्डी लीग इतिहास के सबसे महंगे प्लेयर हैं। मोनू गोयत पीकेएल इतिहास के सबसे सफल खिलाड़ियों में से एक हैं। पटना पाइरेट्स के लिए उन्होंने 5वें सीजन में जबरदस्त प्रदर्शन किया था। उस सीजन उन्होंने 191 प्वॉइंट हासिल किए थे और यही वजह है कि छठे सीजन में हरियाणा स्टीलर्स ने उनके लिए भारी-भरकम बोली लगाई और एक करोड़ 51 लाख की रकम में खरीदा। उन्होंने उस सीजन हरियाणा स्टीलर्स की कप्तानी भी की थी और टीम की तरफ से जबरदस्त प्रदर्शन किया था।

1. परदीप नरवाल

पटना पाइरेट्स के दिग्गज परदीप नरवाल को रिलीज किया जाना काफी चौंकाने वाला फैसला रहा। पिछले दो सीजन से उन्होंने अकेले टीम की तरफ से सबसे बेहतरीन प्रदर्शन किया था। पटना को उन्होंने तीन बार पीकेएल का खिताब दिलाया। हालांकि, सीजन आठ के ऑक्शन में अन्य टीमों ने पटना की इस गलती का फायदा उठाया।

यूपी योद्धा ने उन्हें 1.65 करोड़ में खरीदा। अपने प्रो कबड्डी लीग करियर में परदीप नरवाल ने कुल मिलाकर 1169 पॉइंट्स हासिल किए हैं।

कुल मिलाकर कहें तो परदीप नरवाल प्रो कबड्डी लीग का एक बड़ा चेहरा हैं। उनकी फैन फॉलोइंग काफी ज्यादा है और इसीलिए वो जिस भी टीम में होते हैं उस टीम की लोकप्रियता भी बढ़ जाती है। आगामी सीजन में यूपी की टीम को परदीप के होने का बहुत लाभ होगा।

For more updates, follow Khel Now Kabaddi on Facebook, TwitterInstagram and join our community on Telegram.