नए खिलाड़ियों के मनोबल पर इसका काफी असर पड़ सकता है।

चीन के ग्वांग्झू में होने वाले एशियन गेम्स को पोस्टपोन कर दिया गया है। सितंबर में एशियन गेम्स का आयोजन होना था लेकिन चीन में कोरोना के मामले काफी तेजी से बढ़ रहे हैं और इसी वजह से इन गेम्स को स्थगित करना पड़ा। 10 सितंबर से होने वाले इन खेलों के लिए भारत की 24 सदस्यीय संभावित टीम का भी ऐलान हो चुका था। पीकेएल के 8वें सीजन में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले कई दिग्गज प्लेयर्स को इस टीम में जगह मिली थी। टीम में युवा और अनुभवी प्लेयर्स का अच्छा मिश्रण था। एक्सपीरियंस्ड प्लेयर्स के अलावा कई नए युवा खिलाड़ियों को भी शामिल किया गया था। हालांकि अब एशियन गेम्स पोस्टपोन होने से इन प्लेयर्स की उम्मीदों पर पानी फिर गया है।

हम आपको बताते हैं कि एशियन गेम्स के स्थगित होने से क्या – क्या प्रभाव पड़ सकते हैं। आइए जानते हैं वो कारण।

1. पीकेएल के अगले सीजन के बाद होगा एशियन गेम्स का आयोजन

सितंबर में एशियन गेम्स का आयोजन होना था लेकिन अब पोस्टपोन होने की वजह से इसका आयोजन प्रो कबड्डी लीग के अगले सीजन के बाद ही हो पाएगा। पीकेएल सीजन 9 का आयोजन इस बार जल्दी भी कराया जा सकता है। अभी तक इन दोनों ही टूर्नामेंट्स के आयोजन की तारीख सामने तो नहीं आई है लेकिन इस बात की पूरी संभावना है कि अब अगले पीकेएल सीजन के बाद ही एशियन गेम्स होंगे और इसका काफी असर भारत की कबड्डी टीम पर भी देखने को मिल सकता है। वर्तमान में जो टीम चुनी गई है, उसमें काफी फेरबदल हो सकते हैं।

2.भारतीय टीम में हो सकते हैं कई फेरबदल

चुंकि एशियन गेम्स का आयोजन अगले पीकेएल सीजन के बाद होगा, इसलिए भारतीय टीम का ऐलान भी दोबारा किया जाएगा। वर्तमान में जिन खिलाड़ियों को जगह मिली है उन्हें टीम से बाहर भी किया जा सकता है और कई नए चेहरों को टीम में जगह मिल सकती है। अगले पीकेएल सीजन में कई खिलाड़ियों को खेलने का मौका मिलेगा और अगर वो बेहतरीन प्रदर्शन करते हैं तो फिर उन्हें भी टीम में जगह मिल सकती है। उनके पास टीम में जगह बनाने का मौका रहेगा। वहीं खराब प्रदर्शन करने वाले प्लेयर्स को बाहर का रास्ता दिखाया जा सकता है।

3. राहुल चौधरी जैसे दिग्गजों के पास रहेगा वापसी का मौका

एशियन गेम्स के लिए जिस संभावित टीम का ऐलान हुआ था, उसमें राहुल चौधरी, मंजीत और सौरभ नांदल जैसे दिग्गज खिलाड़ियों को जगह नहीं मिली थी। अब इनके पास टीम में जगह बनाने का सुनहरा मौका रहेगा। राहुल चौधरी और मंजीत जैसे दिग्गज प्लेयर अगले पीकेएल सीजन में जबरदस्त प्रदर्शन करके अपनी दावेदारी पेश कर सकते हैं। राहुल चौधरी और मंजीत का प्रदर्शन पीकेएल के 8वें सीजन में उतना अच्छा नहीं रहा था और इसी वजह से इन्हें एशियन गेम्स के लिए सेलेक्ट नहीं किया गया था। हालांकि अब इन खिलाड़ियों के पास खुद को साबित करके वापसी का मौका रहेगा।

4. कई नए खिलाड़ियों के अरमानों पर फिर सकता है पानी

एशियन गेम्स के लिए जब संभावित भारतीय टीम का ऐलान हुआ तो उसमें कई नए चेहरों को भी जगह मिली थी। पीकेएल के 8वें सीजन में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले युवा प्लेयर्स को शामिल किया गया था। असलम ईनामदार, जयदीप, मोहित गोयत, अर्जुन देशवाल, नवीन कुमार, विजय, विशाल भारद्वाज और सचिन जैसे खिलाड़ियों को शामिल किया गया था। हालांकि अब इन प्लेयर्स के अरमानों पर पानी फिर सकता है।

इसकी वजह ये है कि जब पीकेएल के अगले सीजन का आयोजन होगा तो जरूरी नहीं है कि इन प्लेयर्स का परफॉर्मेंस अगली बार भी इतना ही शानदार रहे। अगर किसी खिलाड़ी का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा तो उसे टीम से ड्रॉप भी किया जा सकता है। ऐसे में इन खिलाड़ियों के मनोबल पर काफी असर पड़ सकता है।