आगामी सीजन में फैंस को एक बार फिर से दमदार एक्शन देखने को मिलेगा।

प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के आठवें सीजन के लिए खिलाड़ियों की नीलामी अगस्त में हुई थी जिसमें सभी टीमों ने खुद को मजबूत करने का प्रयत्न किया। कुछ खिलाड़ी ऐसे भी थे जिनको किसी भी टीम ने नहीं खरीदा और अब नए नियम के तहत कुछ अनसोल्ड खिलाड़ियों की वापिस हुई है। नए नियम के तहत सभी टीमों को कुछ खिलाड़ियों को अपनी टीम में शामिल करने का सुनहरा मौका मिला है।

इस नए नियम का नाम “कोरोना कॉन्टिजेंसी प्लेयर्स” है।

क्या है कोरोना कॉन्टिजेंसी प्लेयर्स का नियम

अबकी बार प्रो कबड्डी लीग में टीमें दो एक्स्ट्रा खिलाड़ियों को शामिल कर सकती है। इन खिलाड़ियों को मेन टीम से अलग नाम दिया जाएगा। इनको कोरोना कॉन्टिजेंसी प्लेयर्स का नाम दिया जाएगा। इन खिलाड़ियों को टीम के प्रैक्टिस कैंप में शामिल किया जाएगा लेकिन इनको मैच खेलने की अनुमति तब तक नहीं होगी जब तक मेन टीम का कोई खिलाड़ी कोरोना संक्रमित नही हो जाता।

इन कबड्डी प्लेयर्स को एक अलग आरक्षित श्रेणी में रखा जाएगा। अगर किसी खिलाड़ी की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव पाई जाती है तो ही इन एक्स्ट्रा प्लेयर्स को मैच खेलने का अधिकार मिलेगा। इन खिलाड़ियों को टीम की सारी सुविधाएं मिलेंगी। सभी टीमें बस उन्हीं खिलाड़ियों को शामिल कर सकती है जिनका नाम नीलामी में तो था लेकिन उनको किसी टीम ने नही खरीदा था। 
अभी तक कुछ टीमें इस नियम का फायदा भी उठा चुकी है। इस नियम का सबसे बड़ा फायदा यह भी है की जो खिलाड़ी उनके ज्यादा बेस प्राइस के कारण अनसोल्ड हुए थे उनको टीमें कम कीमत में दुबारा शामिल कर सकती हैं।

कोरोना कॉन्टिजेंसी प्लेयर्स का प्राइस निर्धारित किया गया है। इन खिलाड़ियों का निर्धारित प्राइस चार लाख होगा। दूसरा फायदा यह भी होगा की ये प्राइस सभी टीमें अपने 4.4 करोड़ के बजट से हटकर दे सकती हैं। ये नियम सभी टीमों के लिए अनिवार्य नही है, यह टीम पर निर्भर करता है कि उनको खिलाड़ी चाहिए या नही।

कुछ टीमों ने इसका फायदा भी उठा लिया है

बंगाल वॉरियर्स ने इस नियम के तहत विशाल माने व रण सिंह को अपनी टीम में शामिल भी कर लिया है। बकायदा इसकी पुष्टि खुद विशाल माने ने शिवनेरी सेवा मंडल के साथ हाल ही में हुए इंटरव्यू में की। बंगाल को इसका फायदा ये भी हुआ की ये दोनों खिलाड़ी ‘बी कैटेगरी’ के हैं जिनका बेस प्राइस ही 20 लाख है। वह इन दोनों खिलाडियों को अगर बेस प्राइस में भी लेते तो 40 लाख देने पड़ते लेकिन अब सिर्फ आठ लाख की कीमत पर दोनों को अपनी टीम में शामिल किया है।

पटना पाइरेट्स ने मनुज बुरा जो की एक राइट कॉर्नर डिफेंडर है उनको अपनी टीम में शामिल किया। इन्होंने के7 कबड्डी टूर्नामेंट में चौधरी छाजूराम की टीम से खेलते हुए काफी अच्छा प्रदर्शन किया। हरियाणा स्टीलर्स ने राइट कवर डिफेंडर सुधाकर कदम को अपनी टीम में शामिल किया। इन्होंने सीनियर नेशनल में महाराष्ट्र की तरफ से खेलते हुए काफी अच्छा प्रदर्शन किया था।

नियम के कुछ मुख्य पहलू इस प्रकार हैं

1. सिर्फ ऑक्शन में अनसोल्ड कबड्डी खिलाडियों को लिया जा सकता है।
2. उनकी कीमत केवल चार लाख निर्धारित होगी।
3. एक टीम सिर्फ दो ही खिलाड़ियों को शामिल कर सकती है।
4. उन्हें कोरोना कॉन्टिजेंसी प्लेयर्स के नाम से जाना जाएगा।
5. किसी कबड्डी खिलाड़ी को कोरोना होने के बाद ही इन नए खिलाड़ियों को मैच खेलने का मौका मिलेगा।

धीरे-धीरे सभी टीमें इस नए नियम का फायदा उठा रही हैं। कुछ टीमें ऐसी भी हैं जो इस नियम का फायदा नहीं उठाएंगी क्योंकि उनके पास पहले से ही बहुत सारे खिलाड़ी हैं।