लीग में अबतक ईरान के प्लेयर्स का भी जलवा देखने को मिला है।

प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) दुनिया की बेहतरीन स्पोर्ट्स लीग्स में से एक है। इस लीग में भारत के अलावा पूरी दुनिया के कबड्डी प्लेयर्स हिस्सा लेते हैं और जिससे लीग की पॉपुलैरिटी काफी बढ़ जाती है। अगर हम बात करें तो ईरान, श्रीलंका और कोरिया के प्लेयर्स प्रमुख तौर पर लीग में खेलते हैं। इनमें से ईरान के खिलाड़ी नियमित तौर पर खेलते हैं और इसी वजह से उन्होंने अभी तक टूर्नामेंट में काफी नाम कमाया है।

कई विदेशी खिलाड़ियों ने अभी तक प्रो कबड्डी लीग में जबरदस्त प्रदर्शन किया है। हम आपको इस आर्टिकल में लीग इतिहास के टॉप-10 विदेशी प्लेयर्स के बारे में बताएंगे। आइए जानते हैं कौन-कौन से खिलाड़ी इस लिस्ट में हैं।

1. फजल अत्राचली

ईरान के फजल अत्राचली पीकेएल इतिहास के सबसे सफल और लोकप्रिय विदेशी खिलाड़ी हैं। उन्होंने प्रो कबड्डी लीग में काफी सफलता हासिल की है। यू-मुम्बा के कप्तान के तौर पर उन्होंने सबको काफी प्रभावित किया है और वो ना केवल पीकेएल बल्कि दुनिया के दिग्गज डिफेंडर्स में से एक हैं। फजल अत्राचली ने अभी तक 103 मैचों में कुल 317 टैकल प्वॉइंट हासिल किए हैं और ये कारनामा करने वाले वो पीकेएल के एकमात्र प्लेयर हैं।

2. अबोजार मिघानी

अबोजार मिघानी एक बेहतरीन डिफेंडर हैं। राइट कॉर्नर में वो किसी भी टीम के लिए काफी उपयोगी साबित होते हैं। अपने डेब्यू पीकेएल सीजन में वो पांचवें सबसे बेस्ट डिफेंडर थे। तेलुगु टाइटंस और बंगाल वॉरियर्स की तरफ से खेलते हुए उनका परफॉर्मेंस काबिलेतारीफ रहा है। अबोजार मिघानी ने अभी तक 63 मैचों में कुल 160 टैकल प्वॉइंट हासिल किए हैं। फजल अत्राचली के बाद वो इस मामले में दूसरे नंबर पर हैं।

3. जांग कुन ली

ईरान के खिलाड़ियों के अलावा अगर किसी और देश के विदेशी प्लेयर ने प्रो कबड्डी लीग में अपना वर्चस्व स्थापित किया है तो वो कोरिया के रेडर जांग कुन ली हैं। वो पीकेएल इतिहास के सबसे सफल विदेशी रेडर हैं। उन्होंने अभी तक 106 मैचों में 471 प्वॉइंट हासिल किए हैं। कुन ली पीकेएल में पटना पाइरेट्स की टीम का अहम हिस्सा हैं। वहीं वो बंगाल वॉरियर्स के लिए भी खेल चुके हैं।

4. मिराज शेख

दबंग दिल्ली की तरफ से खेलते हुए मिराज शेख ने अपनी स्किल से काफी प्रभावित किया था। उन्होंने नवीन कुमार का रेडिंग डिपार्टमेंट में बेहतरीन साथ दिया था। मिराज शेख अहम मौकों पर बोनस के अलावा टच प्वॉइंट भी लेकर आते थे। उन्होंने 2017 में टीम की कप्तानी भी की। प्रो कबड्डी लीग का सीजन पांच मिराज के लिए सबसे सफल सीजन था क्योंकि वो उस साल कुल 104 अंक लेकर सबसे सफल ऑल-राउंडर बन गए। अभी तक पीकेएल में मिराज शेख ने 99 मैचों में 350 रेड प्वॉइंट हासिल किए हैं और विदेशी प्लेयर्स में इस मामले में दूसरे नंबर पर हैं।

5. हादी ओस्त्राक

हादी ओस्त्राक तीसरे और चौथे सीजन में टाइटल जीतने वाली पटना पाइरेट्स की टीम का हिस्सा थे। हालांकि उनका योगदान तो इन दोनों सीजन में ज्यादा नहीं रहा था लेकिन उन्होंने अपने टैलेंट की झलक जरूर दिखा दी थी। हादी ओस्त्राक अपने करियर में पटना के अलावा यू-मुम्बा और गुजरात जायंट्स के लिए भी खेल चुके हैं। उन्होंने अपने करियर में 72 मैचों में 109 टैकल प्वॉइंट हासिल किए हैं।

6. मोहसिन मगसोदलू

प्रो कबड्डी लीग के छठे सीजन में मोहसिन मगसोदलू ने तेलुगु टाइटंस की तरफ से बेहतरीन खेल दिखाया था। उन्होंने जबरदस्त ऑलराउंड प्रदर्शन किया था। मगसोदलू ने 29 रेड प्वॉइंट और 27 टैकल प्वॉइंट हासिल किए थे। ओवरऑल भी उन्होंने काफी प्रभावित किया है।

7. नबीबख्श

मोहम्मद नबीबख्श प्रो कबड्डी लीग के दिग्गज ऑलराउंडर्स में से एक हैं। बंगाल वॉरियर्स को सातवें सीजन में पीकेएल का टाइटल जिताने में उनका सबसे अहम योगदान रहा। उन्होंने अभी तक 23 मैचों में कुल मिलाकर 122 प्वॉइंट हासिल किए हैं।

8. अबोलफजल महाली

अबोलफजल मघसौदलू महाली एक और ईरान के बेहतरीन प्लेयर हैं जिन्होंने प्रो कबड्डी लीग में काफी प्रभावित किया है। उन्होंने तीसरे सीजन में यू-मुम्बा के लिए अपना डेब्यू किया था। इसके बाद पटना पाइरेट्स और दबंग दिल्ली के लिए भी खेले। पांचवें सीजन में उनका परफॉर्मेंस काफी जबरदस्त रहा था।

9. फरहाद रहीमी

फरहाद रहीमी ने ऑलराउंडर के तौर पर पीकेएल में अपनी उपयोगिता साबित की है। उन्होंने ओवरऑल 62 मैचों में 153 प्वॉइंट हासिल किए हैं। तेलुगु टाइटंस के लिए वो बेहतरीन ऑलराउंडर साबित हुए हैं। 62 मैचों में 79 टैकल प्वॉइंट भी उनके नाम हैं।

10. मोहसिन एम जाफरी

ईरान के ऑलराउंडर्स की अगर बात की जाती है तो उसमें एक नाम प्रमुख तौर पर मोहसिन एम जाफरी का भी है। उन्होंने पीकेएल में दिग्गज खिलाड़ियों के बीच बेहतरीन प्रदर्शन किया है। मोहसिन ने 76 रेड प्वॉइंट और 36 टैकल प्वॉइंट हासिल किए हैं।