दिग्गज डिफेंडर ने इस सीजन बेहतरीन फॉर्म दिखाया है।

बंगाल वॉरियर्स के लिए प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) का 9वां सीजन अभी तक मिला-जुला रहा है। टीम ने 15 में से सात मैचों में जीत हासिल की है और पांच मुकाबलों में हार का सामना करना पड़ा है। कुल मिलाकर कह सकते हैं टीम को प्लेऑफ की रेस में बने रहने के लिए अब लगातार बेहतर करना होगा। बंगाल के लिए अभी तक उनके कप्तान मनिंदर सिंह ने जबरदस्त प्रदर्शन किया है। वो लगातार प्वॉइंट्स ला रहे हैं और टॉप-5 रेडर्स की लिस्ट में बने हुए हैं। हर बार की तरह वो टीम को बेहतरीन तरीके से लीड कर रहे हैं। वहीं डिफेंस में गिरीश एर्नाक ने दमदार प्रदर्शन किया है। अभी तक गिरीश एर्नाक ने 46 टैकल प्वॉइंट्स हासिल किए हैं। गिरीश एर्नाक ने खेल नाउ के साथ एशियन गेम्स और पीकेएल समेत कई मुद्दों पर एक्सक्लूसिव बातचीत की।

इस सीजन की स्ट्रैटजी

गिरीश एर्नाक इस सीजन अपनी टीम के लिए मेन डिफेंडर बने हुए हैं। उन्होंने बेहतरीन ढंग से डिफेंस में टीम की अगुवाई की है। इसको लेकर उन्होंने बड़ी प्रतिक्रिया दी है। गिरीश एर्नाक के मुताबिक उन्होंने सीजन से पहले कोई खास रणनीति नहीं बनाई थी।

उन्होंने कहा ‘मैंने किसी तरह की कोई अलग स्ट्रैटजी नहीं बनाई थी। बस दिमाग में ये था कि टीम के लिए अच्छा खेलना है और ज्यादा से ज्यादा मुकाबले जीतने हैं क्योंकि हमारी टीम काफी जबरदस्त है। एक दो प्लेयर नए भी आए हैं वो भी काफी बेहतरीन हैं। इसके अलावा हमारे रेडर्स काफी तगड़े हैं। हम बस ज्यादा से ज्यादा मैच खेलकर जीत हासिल करना चाहते हैं।’

Who is your favourite raider between these two?
Pardeep Narwal
  • 10072 ( 81.37 % )
Rahul Chaudhari
  • 2306 ( 18.63 % )
VS VS

सीजन के लिए तैयारी

पीकेएल के आगाज से पहले हर एक टीम अपना कैंप लगाकर तैयारी करती है। डिपेंड करता है कि वो टीम कितने दिनों का कैंप लगाती है। बंगाल वॉरियर्स का भी कैंप लगा था जिसमें उन्होंने नए सीजन की तैयारी की थी। गिरीश एर्नाक ने इस बारे में कहा ‘हमारा कैंप लगा था और उसमें हमने हर एक चीज पर फोकस किया। जहां पर कमी थी उसे दूर करने का प्रयास किया। हमारे कोच हमें बताते हैं कि क्या गलती हुई और हम उसमें सुधार करके अगला मैच खेलते हैं।’

युवा प्लेयर्स को सलाह

ऐसा नहीं है कि बंगाल की टीम में केवल सीनियर प्लेयर ही हैं। कई सारे यंगस्टर्स भी टीम में हैं और उन्हें गिरीश एर्नाक जैसे डिफेंडर काफी मोटिवेट करते हैं और उनके अनुभव का लाभ युवा प्लेयर्स को मिलता है। गिरीश एर्नाक ने बताया कि वो युवाओं को कैसे मोटिवेट करते हैं।

उन्होंने कहा ‘जो यंग प्लेयर्स हैं जैसे डी बालाजी, शुभम शिंदे, वैभव गरजे इन सबको हम यही कहते हैं कि खुलकर खेले और किसी तरह का दबाव मत लो। गलती हो रही है होने दो, क्योंकि हमारे पास रेडर अच्छे हैं, हम उसकी भरपाई कर लेंगे। डिफेंस की गलती रेडर कवर करते हैं और रेडर की गलती डिफेंस कवर करता है।’

एशियन गेम्स में सेलेक्शन

अगले साल एशियन गेम्स का आयोजन होना है। हर एक कबड्डी प्लेयर चाहता है कि वो इस बड़े इवेंट में भारतीय टीम की तरफ से भी खेले। गिरीश एर्नाक भी चाहते हैं कि वो भारतीय टीम का हिस्सा हों।

उन्होंने कहा ‘भारत की तरफ से हर कोई प्लेयर खेलना चाहता है। हालांकि टीम सेलेक्शन से पहले कैंप लगता है और उसमें प्रैक्टिस होती है। वहां पर पता नहीं होता है कि कौन सेलेक्ट होगा और कौन नहीं होगा। जरूरी नहीं है कि जो प्लेयर मैच में काफी अच्छा खेला हो वो कैंप में भी काफी अच्छा खेले। पीकेएल में जो प्लेयर फॉर्म में होता है वो प्रैक्टिस में फ्लॉप हो जाता है।’

कोच को लेकर राय

बंगाल वॉरियर्स ने बीसी रमेश की अगुवाई में सातवें सीजन पीकेएल का टाइटल अपने नाम किया था। हालांकि आठवें सीजन में टीम खिताब से दूर रह गई और इसके बाद इस सीजन के लिए कोच बदल दिया गया। बीसी रमेश की जगह के भास्करन को टीम का नया कोच नियुक्त किया गया। गिरीश एर्नाक ने अपने नए कोच की काफी तारीफ की।

दिग्गज डिफेंडर ने कहा ‘हमारे कोच काफी बढ़िया हैं क्योंकि सभी प्लेयर्स के साथ वो एडजस्ट हो जाते हैं। उनकी बॉन्डिंग सभी खिलाड़ियों के साथ अच्छी हो जाती है। वो टीम में एक दोस्त और बड़े भाई की तरह बिहेव करते हैं और ज्यादा दबाव नहीं डालते हैं।’

For more updates, follow Khel Now Kabaddi on FacebookTwitterInstagram and join our community on Telegram.