टीम के कप्तान ने पूरे सीजन बेहतरीन प्रदर्शन की उम्मीद जताई है।

प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के 8वें सीजन में हरियाणा स्टीलर्स की शुरूआत अच्छी नहीं रही है। टीम को अबतक दो मुकाबलों में हार का सामना करना पड़ा जबकि उसने एक मैच जीता है। टीम को पहले मैच में पटना पाइरेट्स और दूसरे मुकाबले में जयपुर पिंक पैंथर्स से हार का सामना करना पड़ा था। दोनों ही मुकाबलों में टीम को काफी करीबी अंतर से शिकस्त झेलनी पड़ी और आने वाले मैचों में वो इस गलती से सबक लेना चाहेंगे।

हरियाणा स्टीलर्स के पास प्रो कबड्डी लीग में विकाश कंडोला जैसे स्टार रेडर हैं जो अकेले दम पर मैच का पासा पलटने की क्षमता रखते हैं। विकाश कंडोला ने नए सीजन में टीम के टाइटल जीतने की उम्मीद जताई है। खेल नाओ के साथ एक्सक्लूसिव बातचीत में विकाश कंडोला ने अपनी फिटनेस समेत कई सारी चीजों के बारे में बताया।

नए सीजन के लिए टीम ने क्या अलग किया है ?

विकाश कंडोला – पिछली बार हमसे जो गलतियां हुई थीं हमने प्रो कबड्डी लीग से पहले कैंप के दौरान उस पर काफी काम किया है। हमारी कोशिश यही रहेगी कि पिछली बार की गलतियों को ना दोहराया जाए। हमारा टार्गेट इस बार यही है कि हम टाइटल जीत कर आएंगे।

रोहित गूलिया के आने से टीम पर कितना असर पड़ा है ?

विकाश कंडोला – रोहित गूलिया एक जबरदस्त ऑलराउंडर हैं जो रेडिंग और डिफेंस दोनों में कमाल कर सकते हैं। इसके अलावा वो दोनों साइड के कवर और कॉर्नर पर खेल सकते हैं। ऑक्शन के दौरान कोच और मैनेजमेंट ने मिलकर यही फैसला लिया था कि उनको जरूर टीम में लिया जाएगा और पहले मैच में उन्होंने इस फैसले को सही भी साबित किया।

हरियाणा स्टीलर्स की सबसे बड़ी ताकत क्या है ?

विकाश कंडोला – इस टीम में किसी भी प्लेयर के ऊपर कोई प्रेशर नहीं है। अगर टीम हार भी जाती है तो सब मिलकर उसकी जिम्मेदारी लेते हैं। पूरी टीम मैनेजमेंट हार के बाद भी प्लेयर्स का हौंसला बढ़ाती है। टीम के हर एक खिलाड़ी से यही कहा जाता है कि हार-जीत की परवाह किए बगैर आप खुलकर खेलिए और ये इस टीम की सबसे खास बात है। सबको अपना नैचुरल गेम खेलने की सलाह दी जाती है।

अपनी फिटनेस को लेकर क्या कहना चाहेंगे ?

विकाश कंडोला – इस सीजन मैं प्रो कबड्डी लीग के लिए पूरी तरह से फिट हूं और पूरे टूर्नामेंट के दौरान उपलब्ध रहूंगा। इंजरी खिलाड़ी के जीवन का हिस्सा होता है। मैंने काफी कड़ी ट्रेनिंग की है और हमारे फिजियो ने मेरी फिटनेस पर काफी काम किया है। मेरी कोशिश यही है कि इंजरी से खुद को बचाते हुए पूरा सीजन खेलना है और ट्रॉफी उठानी है। हालांकि अगर इंजरी होनी रहती है तो हो जाती है, क्योंकि ये गेम ही उस तरह का है। हालांकि मैं अपनी तरफ से पूरी कोशिश करूंगा।

सुरेंदर नाडा की वापसी कितनी महत्वपूर्ण है?

विकाश कंडोला – सुरेंदर नाडा काफी सीनियर प्लेयर हैं और डिफेंस को काफी अच्छी तरह से संभालते हैं। प्रो कबड्डी लीग में पिछले सीजन वो इंजरी की वजह से नहीं खेल पाए थे और जब इंजरी के बाद कोई प्लेयर आता है तो उसके लिए चीजें आसान नहीं होती हैं। हालांकि पहले ही मुकाबले में अपने धमाकेदार परफॉर्मेंस से उन्होंने दिखा दिया है कि उनमें कितना दम है।

बिना फैंस के खाली स्टेडियम में खेलने से कितना फर्क पड़ता है ?

विकाश कंडोला – हमारे लिए सबसे बड़ी बात ये है कि प्रो कबड्डी लीग की दो साल के बाद वापसी हो रही है। खिलाड़ियों को थोड़ा अजीब जरूर लगता है क्योंकि वो पहली बार बिना फैंस के लिए खेल रहे थे लेकिन हमारे मनोबल और हौंसले पर इसका कोई असर नहीं पड़ा है। हमें अपनी तरफ से पूरा 100 प्रतिशत देना है क्योंकि जो फैंस हैं वो कहीं ना कहीं से हमें जरूर देख रहे हैं, इसलिए हम उसी जज्बे के साथ अपना मैच खेलते हैं।

इस सीजन की चार सबसे बेहतरीन टीमें कौन सी हैं ?

विकाश कंडोला – आप किसी एक टीम का नाम नहीं ले सकते हैं क्योंकि सभी 12 टीमें काफी शानदार हैं। सभी टीमों ने बेहतरीन खेल दिखाया है। बाकी तीन टीमों का तो पता नहीं लेकिन एक टीम हम हैं जो काफी शानदार हैं।