इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) में मौजूद बड़े विदेशी कोचों में अब ओवन कोल का भी नाम शामिल हो गया है। बर्नले और बॉल्टन वांडरर्स जैसे इंग्लैंड के बड़े क्लबों के मैनेजर रह चुके कोल को प्वॉइंट्स टेबल में पांच अंकों के साथ नौवें स्थान पर मौजूद चेन्नइयन एफसी ने इस सीजन के अंत तक के​ लिए अपना हेड कोच बनाया है।

जॉन ग्रेगोरी के मार्गदर्शन में चेन्नइयन ने आईएसएल टाइटल जीता था, लेकिन इस सीजन की शुरुआत से ही टीम का प्रदर्शन खराब रहा और क्लब ने खुद को ग्रेगोरी से अलग कर लिया। कोल ऐसे समय में क्लब के हेड कोच बने हैं जब टीम लगातार परेशानियों से जूझ रही है हालांकि, नए कोच को यकीन है कि उनकी टीम आने वाली कठिन चुनौतियों का सामना करने में कामयाब रहेगी और इस सीजन बाकी बचे मैचों में अपने प्रदर्शन को बेहतर कर पाएगी।

कोल ने लगभग अपना पूरा करियर इंग्लैंड में बिताया है और इंडिया में आने के अपने फैसले पर उन्होंने खेल नाओ से कहा,”मैंने आईएसएल को शुरुआत से ही फॉलो किया है और मेरे कई दोस्त भी इससे जुड़े रहे हैं। मुझे फुटबॉल से प्यार है और यही मेरी जिंदगी है। मैं हमेशा नई चुनौतियों के लिए तैयार रहा हूं और आईएसएल जैसी लीग में चेन्नइयन का हेड कोच बनने का ऑफर इतना एक्साइटिंग था कि मैं मना नहीं कर पाया।”

कोल ने कहा,”किसी भी अन्य लीग की तरह आईएसएल में भी शुरुआत से ही अच्छा काम किया गया है और एक सॉलिड बेस बनाया गया है। मैं समझता हूं कि जो भी विदेशी इस लीग से जुड़ रहे हैं उन्हें यह मानना होगा कि यहां यंग प्लेयर्स में बहुत टैलेंट है। मेरा मकसद युवा खिलाड़ियों को बेहतर बनाते हुए यहां इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलप करना है। इससे फैन्स के बीच में क्लब की अपनी एक अलग जगह भी बनती है, मेरे हिसाब से यहां बहुत अच्छा काम हो रहा है।”

चेन्नइयन के लिए यह सीजन अभीतक निराशाजनक ही रहा है। टीम ने अबतक छह मैच खेले हैं जिसमें से उसे एक में जीत और तीन में हार मिली है जबकि दो मैच ड्रॉ रहे हैं। हालांकि, कोल का कहना है कि उनकी पूरी कोशिश प्लेऑफ में जगह बनाने पर होगी।

कोल ने कहा,”फिलहाल, हमें बहुत काम करने की जरूरत है, ले​किन इससे हम अपना ध्यान भटकने नहीं देंगे। हमारे पास ऐसे प्लेयर्स हैं जिनमें मैच जिताने की क्षमता है। आईएसएल में हमने यह देखा है कि अगर आप लय में आकर लगातार जीत दर्ज करते हैं तो आप प्वॉइंट्स टेबल में ऊपर जा सकते हैं और यही हमारा लक्ष्य है।”

उन्होंने कहा,”हम जानते हैं कि शुरुआत मुश्किल होगी क्योंकि हमें जमशेदपुर और नॉर्थईस्ट यूनाइटेड के खिलाफ अवे मैच खेलना है, लेकिन हम इस विश्वास के साथ आगे बढ़ रहे हैं कि हम प्लेऑफ में पहुंच सकते हैं और आशा है कि हम टाइटल जीतने में भी कामयाब रहेंगे।”

चेन्नइयन के लिए गोल स्केरिंग एक बड़ी समस्या रही है। कोल ने टीम की स्ट्रेंथ और वीकनेस पर बात करते हुए कहा,”हमें अपना बैलेंस सहीं करना होगा। हमारा डिफेंस मज​बूत रहा है, लेकिन हमें अटैक में भी अच्छा होना होगा। मैच ड्रॉ करके हम टेबल में ऊपर नहीं चढ़ सकते। होम हो या अवे हमें हर मैच में यह सोचकर उतरना होगा कि हम इसे जीत सकते हैं। हमें अट्रैक्टिव फुटबॉल खेलना होगा।”

चेन्नइयन का अगला मैच सोमवार को जमशेदपुर के खिलाफ होगा।