इंडियन कैप्टन का कहना है कि उनकी टीम अगले एशियन कप में जरूर खेलेगी।

इंडिया के मिस्टर फुटबाॅल सुनील छेत्री पिछले कई वर्षों से नेशनल टीम के लिए लगातार दमदार प्रदर्शन कर रहे हैं। वह 35 साल के हो गए हैं, लेकिन अब भी टीम गोल करने के लिए उनपर ही निर्भर है। हालांकि, उन्हें भी महसूस होने लगा है कि उनके पास अब इंटरनेशनल फुटबॉल में ज्यादा टाइम नहीं बचा है।

छेत्री गोल करने के मामले में उन खिलाड़ियों की सूची में दूसरे नंबर पर आते हैं जो अभी भी फुटबॉल खेल रहे हैं। उनसे आगे केवल पुर्तगाल के स्टार खिलाड़ी क्रिस्टियानो रोनाल्डो खड़े हैं। यहां तक की अर्जेंटीना और एफसी बार्सिलोना के महान खिलाड़ी लियोनेल मेसी भी उनसे पीछे हैं।

इंटरनेशनल फुटबॉल में अबतक कुल 72 गोल कर चुके छेत्री ने कहा कि अब इस उम्र में वह अपनी फुटबॉल इन्जॉय करना चाहते हैं और एक समय पर एक ही मैच के बारे में सोच रहे हैं।

छेत्री ने कहा, “मैं जानता हूं कि मैं अब अपने देश के लिए लंबे समय तक नहीं खेल सकता। जल्दबाजी करने की कोई जरूरत नहीं है और मैं एक समय पर एक ही मैच के बारे में सोचना चाहता हूं। मुझे बस कड़ी मेहनत करते रहना है।”

इंडियन टीम इस साल मार्च में 2022 फीफा वर्ल्ड कप और 2023 एएफसी एशियन कप क्वॉलीफायर में मौजूदा एशियन चैम्पियन कतर का सामन करेगी। पिछले साल कतर को उसी के घर में इंडिया ने ड्रॉ पर रोका था। छेत्री का कहना है कि टीम का लक्ष्य एशियन कप के लिए क्वॉलीफाई करना है जो चीन में खेला जाएगा।

छेत्री ने कहा, “हमें एक टीम के रूप में ज्यादा से ज्यादा मैच जीतने होंगे। हमारा अंतिम लक्ष्य 2023 एएफसी एशियन कप के लिए क्वॉलीफाई करना है। हमें लगातार इस टूर्नामेंट के लिए क्वॉलीफाई करते रहने की जरूरत है और इसके साथ किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जा सकता।”

उन्होंने कहा, “टीम के हर खिलाड़ी को खुद पर पूरा भरोसा है। मुझे कोई कारण नजर नहीं आता कि हम चीन में होने वाले टूर्नामेंट के लिए क्यूं नहीं क्वॉलीफाई कर सकते हैं।”

इंडियन टीम क्वॉलीफायर में पिछले पांच मैचों में केवल तीन प्वॉइंट्स हासिल कर पाई है और फिलहाल, ग्रप-ई में चौथे नंबर पर है। कतर से अपने घर में भिड़ने के बाद उसका सामना बांग्लादेश और अफगानिस्तान के खिलाफ होगा।